शतक जड़ा तो याद आए दिवंगत पिता के आखिरी शब्‍द, बीच मैदान पर रोने लगे कृणाल पांड्या, देखें वायरल वीडियो

Krunal Pandya Viral Video: क्रुणाल पांड्या का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें शतक जड़ने के बाद उनकी आंखों में आंसुओं का सैलाब उमड़ पड़ा।

Krunal Pandya
क्रुणाल पांड्या  |  तस्वीर साभार: Instagram

टीम इंडिया के ऑलराउंडर ब्रदर्स की जोड़ी हार्दिक पांड्या और क्रुणाल पांड्या के पिता हिमांशु पांड्या का पिछले महीने 16 जनवरी को निधन हो गया था। दोनों भाई अपने पिता के बेहद करीब थे। हाल ही में जब विजय हजारे ट्रॉफी के मैच में क्रुणाल ने शानदार शतकीय पारी खेली तो फौरन उनकी आंखों में आंसुओं का सैलाब उमड़ा आया। क्रुणाल  के आंसू आने के  बाद पिच पर मौजूद साथी खिलाड़ी ने उनका ढांढस बंधाया। बड़ौदा के कप्तान क्रुणाल ने त्रिपुरा के खिलाफ 97 गेंदों में 20 चौकों और 1 छक्के की मदद से 127 रनों की दमदारी पारी खेली। बता दें कि क्रुणाल ने अपना यह इमोशनल वीडियो आधिकारिक इंस्टाग्राम अकाउंट पर शेयर किया है। 

'पहली बार शतक के समय पिता मौजूद नहीं थे'

क्रुणाल पांड्या ने वीडियो शेयर करते हुए एक लंबी पोस्ट में अपनी भावनाओं का इजहार किया। क्रुणाल ने लिखा, 'मेरे बेटे आपका समय अभी शुरू हुआ है। ये मेरे पिता के अंतिम शब्द थे, जब मैंने SMAT गेम में 76 रन की पारी खेलने के बाद उनसे क्रिकेट पर चर्चा की थी। तब उनकी प्रशंसा ने मेरा दिल छू लिया था, लेकिन अब मैं अपने लिए उनका विश्वास देख आश्चर्यचकित हूं। यह पहला मौका था जब मैंने शतक जमाया और वह मेरे गेम देखने के लिए शारीरिक रूप से मौजूद नहीं थे। लेकिन मुझे यकीन है कि मैंने जो स्कोर बनाया, वो उसे देख मेरे लिए खुशी जरूर होंगे।

'पप्पा आपका धन्यवाद और आई लव यू'

क्रुणाल ने आगे लिखा कि वह चीयर करते हुए कहते थे शाबाश क्रुणाल शाबाश। हालांकि, संयोगवश मेरी मां पहली बार इस खेल को देखने के लिए आई थीं और मैंने एक शतक जड़ डाला। मैं शतक बनाने के बाद बेहद भावुक हो गया और इस पारी को अपने पिता को समर्पित किया, जिन्हें मैं एक खुशमिजाज शख्स के रूप में जानता हूं। मैंने उन्हें हर उस क्षण के लिए धन्यवाद दिया जो उन्होंने मुझे मेरे सपनों को पूरा करने के लिए दिए थे। पप्पा, आई लव यू। बता दें कि क्रुणाल ने अपनी शतकीय से पहले गोवा के खिलाफ विजय हजारे ट्रॉफी में शानदार 71 रन बनाए थे।

पिता ने किए थे काफी बड़े त्याग

क्रुणाल पांड्या और हार्दिक पांड्या के पिता हिमांशु ने अपने बच्चों के सपनों को पूरा करने के लिए काफी बड़े त्याग किए थे। आज दोनों भाई जो कुछ भी हैं वो अपने पिता के संघर्ष और मेहनत और त्याग की वजह से हैं, जिन्होंने महज 6 साल की उम्र में ही अपने बच्चों की प्रतिभा को पहचाना और उन्हें उड़ान भरने के लिए पंख देने के लिए सूरत से वडोदरा रहने आ गए। क्रुणाल और हार्दिक ने कई इंटरव्‍यु में खुलासा कर चुके हैं कि उनके पिता ने बड़े समझौते किए, जिसकी वजह से दोनों भाई भारतीय क्रिकेट में अपना नाम बना सके हैं। 

Cricket News (क्रिकेट न्यूज़) Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। और साथ ही IPL News in Hindi (आईपीएल न्यूज़) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर