अजिंक्य रहाणे और चेतेश्वर पुजारा फिर हुए नाकाम, गंभीर ने कहा अब इन खिलाड़ियों को मिले मौका

केपटाउन टेस्ट की दूसरी पारी में भी चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे के नाकाम रहने के बाद गौतम गंभीर ने युवा खिलाड़ियों को मौका देने की बात कही है।

Ajinkya-Rahane-Cheteshwar-Pujara
अजिंक्य रहाणे और चेतेश्वर पुजारा  |  तस्वीर साभार: AP
मुख्य बातें
  • दक्षिण अफ्रीका दौरे पर नाकाम रहे पुजारा और रहाणे
  • रहाणे ने सीरीज में बनाए 22.66 की औसत से और पुजारा ने 20.66 की औसत से रन
  • दोनों के बल्ले से 6 पारियों में से केवल एक में निकला अर्धशतक

केपटाउन: भारतीय टीम के मध्यक्रम की लंबे समय तक रीढ़ रहे चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे एक बार फिर नाकाम रहे। केपटाउन टेस्ट की दूसरी पारी में तीसरे दिन जब टीम इंडिया को रनों की सबसे ज्यादा दरकार थी तब पुजारा और रहाणे फिर कोई कमाल नहीं दिखा सके। 

पुजारा केवल 9 और रहाणे महज 1 रन बनाकर पवेलियन लौट गए। पुजारा का शानदार कैच लेग स्लिप पर कीगन पीटरसन ने लपका। कगिसो रबाडा की शानदार गेंद रहाणे के ग्लव्स को छूते हुए पहली स्लिप में खड़े डीन एल्गर के हाथों में पहुंच गई और तीसरे अंपायर के दखल के बाद रहाणे को पवेलियन वापस लौटना पड़ा।

आ गया है युवाओं को मौका देने का वक्त
ऐसे में टीम इंडिया के पूर्व सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर ने कहा कि रहाणे और पुजारा की जगह नए खिलाड़ियों को मौका देने का वक्त आ गया है। गंभीर ने कहा, हनुमा विहारी को अब मौका देने का वक्त आ गया है। उन्हें अगल 2-3 साल तक टीम में खिलाना चाहिए। उन्हें इस दौरान उतना समर्थन दिया जाना चाहिए जितना अजिंक्य रहाणे को दिया गया। 

गिल को नंबर तीन पर मिले मौका
वहीं गंभीर ने आगे कहा, तीसरे नंबर पर अब टीम इंडिया को शुभमन गिल को आजमाना चाहिए। वो ओपनिंग भी करते हैं इसलिए चेतेश्वर पुजारा की जगह वो बल्लेबाजी कर सकते हैं। 

सीरीज में ऐसा रहा रहाणे और पुजारा का प्रदर्शन
मौजूदा टेस्ट सीरीज में अजिंक्य रहाणे और चेतेश्वर पुजारा ने 3-3 टेस्ट की 6 पारियों में केवल 1-1 अर्धशतक जड़ सके। ये पारी उन्होंने जोहान्सबर्ग में खेले गए टेस्ट में खेली थी। दोनों के बीच उस मैच में शतकीय साझेदारी हुई थी। लेकिन केपटाउन टेस्ट में एक बार फिर दोनों बल्लेबाज नाकाम रहे। रहाणे ने जहां 3 टेस्ट की 6 पारियों में 22.66 की औसत से 136 रन बनाए। उनका सर्वाधिक स्कोर 58 रन रहा। वहीं पुजारा ने 3 टेस्ट की 6 पारियों में 20.66 की औसत से 124 रन बना सके। ऐसे में दोनों बल्लेबाजों के लिए अब टीम में अपनी जगह बनाए रखना मुश्किल नजर आ रहा है। 

हनुमा ने खुद को किया है साबित
भारत को अब अगली टेस्ट सीरीज घर पर श्रीलंका के खिलाफ खेलनी है। ऐसे में गंभीर ने कहा, घरेलू सीरीज में हनुमा विहारी और श्रेयस अय्यर जैसे खिलाड़ियों को मौका देना चाहिए। हनुमा विहारी लंबे समय से टीम के सदस्य रहे हैं जब जब मौका मिला है उन्होंने खुद को साबित किया है। ऐसे में वो टीम में जगह पाने के पहले हकदार हैं।  
 

Cricket News (क्रिकेट न्यूज़) Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Now Navbharat पर। और साथ ही IPL News in Hindi (आईपीएल न्यूज़) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर