Chandigarh Crime: पुलिस को बड़ी सफलता, बैंक से 18 लाख चुराने वाले अंतरराज्यीय गिरोह के दो बदमाश गिरफ्तार

Chandigarh Crime: इस माह चार मई को सहकारी बैंक में की गई 18 लाख चोरी के मामले में पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। ये आरोपी एक अंतरराज्यीय गिरोह के हिस्‍सा हैं। दोनों आरोपियों पर लूटपाट व चोरी के करीब 25 मामले दर्ज हैं। पुलिस अब इन्‍हें रिमांड पर लेकर पूछताछ कर रही है।

theft accused arrested
बैंक में 18 लाख चोरी मामले के दो आरोपी गिरफ्तार   |  तस्वीर साभार: Representative Image
मुख्य बातें
  • सहकारी बैंक में 18 लाख चोरी के दो आरोपी गिरफ्तार
  • अंतरराज्यीय गिरोह का हिस्‍सा हैं गिरफ्तार किए गए दोनों आरोपी
  • पुलिस अब वारदात में शामिल तीन अन्‍य बदमाशों की तलाश में जुटी

Chandigarh Crime: सहकारी बैंक में 18 लाख रुपये चोरी मामले में पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है। इस चोरी में शामिल अंतरराज्यीय गिरोह के दो गुर्गो को पलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। इन आरोपितों ने चार मई को घडुआं स्थित एक सहकारी बैंक की शाखा के स्ट्रांग रूम को तोड़कर 18 लाख रुपये चोरी कर लिए थे। पुलिस द्वारा पकड़े गए आरोपितों की पहचान उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ के गांव जरगामा के रहने वाले मोहित शर्मा और हरियाणा के जिला जींद के गांव करसिंडो के रहने वाले अजय कुमार के रूप में हुई है।

पुलिस ने आरोपितों के पास से वारदात में इस्‍तेमाल की गई मोटरसाइकिल, कटर व ग्राइंडर मशीन भी बरामद की है। पुलिस ने दोनों आरोपितों को अदालत में पेश कर तीन दिन की रिमांड हासिल की है। अब आरोपियों से पूछताछ कर इस चोरी में शामिल अन्‍य बदमाशों की जानकारी हासिल करने के साथ चोरी किए गए रुपयों को बरामद करने की कोशिश की जाएगी। दोनों आरोपितों के खिलाफ लूटपाट व चोरी के करीब 25 मामले दर्ज हैं।

अंतरराज्यीय गिरोह का हिस्‍सा है आरोपी

आरोपियों की जानकारी देते हुए पुलिस एसएसपी ने बताया कि, दोनों आरोपियों को गुप्‍त सूचना के आधार पर खरड़ स्थित रंधावा रोड से गिरफ्तार किया गया। इस गिरोह में पांच सदस्‍य कार्य करते हैं, चोरी की घटना में सभी आरोपी शामिल थे। ये सभी एक ऐसे अंतरराज्यीय गिरोह का हिस्सा हैं, जो उत्तरी भारत में इस तरह के वारदात को अंजाम देता है। गैंग के बाकी तीन सदस्‍य जो अभी फरार हैं उनकी पहचान अमित उर्फ टोकन, अनिल व मोची सभी निवासी जिला जींद हरियाणा के रूप में की गई है। गिरफ्तार किए गए आरोपियों से उनकी जानकारी जुटाने की कोशिश की जाएगी।

ढाबे वालों को बनाते थे शिकार

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि, आरोपियों से अभी तक की गई पूछताछ से पता चला है कि, मोहित शर्मा का भाई सुनील शर्मा बलौंगी में ढाबा चला रहा था और मोहित इस ढाबे पर ही अजय के संपर्क में आया था। ये आरोपी अभी तक उन ढाबे वालों को अपना निशाना बनाते थे जहां कोई सुरक्षा गार्ड नहीं होता। आरोपी दिन के समय वह रेकी करते थे और रात को वारदात को अंजाम देते थे।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर