Indian Railway:ट्रेन में सवार होने से पहले मोबाइल, लैपटॉप कर लें 'फुल चार्ज', नहीं तो हो जायेंगे 'परेशान'

बिजनेस
रवि वैश्य
Updated Mar 31, 2021 | 10:09 IST

ज्‍यादातर रेलयात्री ट्रेन  में सवार होते ही अपने मोबाइल या लैपटॉप को चार्जिंग पर लगा देते हैं लेकिन अब ऐसा होने में दिक्कत आएगी, रेलवे ने इस व्यवस्था में थोड़ा बदलाव किया है।

mobile laptop charging system in train
रात में चार्जिंग के दौरान थोड़ी सी लापरवाही की वजह से यात्रियों की जान खतरे में पड़ सकती है 

मुख्य बातें

  • तमाम ट्रेनों में रात 11 बजे से सुबह 5 बजे तक चार्जिंग की सुविधा नहीं मिलेगी
  • मोबाइल के ओवरचार्जिंग होने से ब्लास्ट  होने जैसी घटना भी हो सकती है
  • ये फैसला ट्रेन में आगजनी और मोबाइल चोरी की घटनाओं को ध्यान में रखते हुए लिया गया है

ज्‍यादातर रेलयात्री ट्रेन की जर्नी से पहले अपने मोबाइल (Mobile Phone) और लैपटॉप  (Laptop) की चार्जिंग  पर ध्यान नहीं देते वो ये मानकर चलते हैं कि ट्रेन में चार्जिंग (Charging in Train) की सुविधा तो मिलेगी ही, वो सही हैं ट्रेन में सुविधा मौजूद है पर उसमें थोड़ा सा बदलाव किया गया है यानि ये सुविधा अब तमाम ट्रेनों में रात 11 बजे से सुबह 5 बजे तक नहीं मिलेगी। ऐसा कदम रेलवे को ट्रेनों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए उठाना पड़ा है गौर हो कि अभी हाल ही में दिल्ली-देहरादून शताब्दी ट्रेन में आग की घटना सामने आई थी।

रेलवे का कहना है कि ये फैसला ट्रेन में आगजनी और मोबाइल चोरी की घटनाओं को ध्यान में रखते हुए लिया गया है, ताकि अनहोनी से बचा जा सके,  अब ट्रेनों में मोबाइल चार्जिंग के लिए टाइमटेबल (Charging Timetable) तय कर दिया गया है।

मतलब कि अब अब रात 11 बजे से सुबह 5 बजे के बीच ट्रेन के चार्जिंग प्वाइंट्स में बिजली आपूर्ति बंद रहेगी जिससे आप चाहकर भी अपना मोबाइल चार्ज नहीं कर पायेंगे।इस नियम को कई ट्रेनों में लागू कर दिया गया है।

रेलवे ट्रेनों में मोबाइल फोन और लैपटॉप चार्जिंग को लेकर हो रही लापरवाहियों को लेकर अब कड़े कदम उठाने के मूड में है। देखा जा रहा है कि रात में चार्जिंग के दौरान थोड़ी सी लापरवाही की वजह से यात्रियों की जान खतरे में पड़ सकती है और रेल संपत्ति के साथ यात्रियों के भी सामान के नुकसान की आशंका है इसी को देखते हुए ये कदम उठाए जा रहे हैं।

ओवरचार्जिंग से मोबाइल के फटने का भी है खतरा

रात में सफर के दौरान ट्रेन के चार्जिंग प्वाइंट में मोबाइल चार्ज में लगाकर यात्री सो जाए ऐसे में मोबाइल के ओवरचार्जिंग होने से ब्लास्ट होने जैसी घटना भी हो सकती है। माना जा रहा है कि रेलवे की नई व्यवस्था ऐसी घटनाओं पर रोक लगाना संभव हो पाएगा गौरतलब है कि मार्च 2021 में दिल्ली-देहरादून शताब्दी एक्सप्रेस में आग लग गई थी यह आग एक कोच से शुरू हुई और देखते ही देखते 7 कोच तक फैल गई थी।

रेलवे के आला अधिकारियों ने यह भी फैसला किया है कि वो खुद भी सरप्राइज चेकिंग करेंगे और अगर कोई खामी पाई गई तो उस स्टाफ के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी,  ऐसे में यह बेहतर होगा कि रात के सफर के लिए घर पर ही अपने मोबाइल और लैपटॉप को चार्ज कर लें।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर