जियो ने समय से पहले चुकाए स्पेक्ट्रम के पैसे, मुकेश अंबानी को होगा 1200 करोड़ का फायदा

Reliance Jio Spectrum Payment: अरबपति मुकेश अंबानी के स्वामित्व वाली रिलायंस जियो इन्फोकॉम लिमिटेड ने नीलामी में प्राप्त स्पेक्ट्रम की देनदारियों को समय से पहले चुकाया।

Reliance Jio Spectrum Payment
जियो ने समय से पहले चुकाए स्पेक्ट्रम के पैसे, मुकेश अंबानी को होगा 1200 करोड़ का फायदा  |  तस्वीर साभार: BCCL
मुख्य बातें
  • जियो ने मार्च 2021 से पहले नीलामी में हासिल किए गए स्पेक्ट्रम पर देनदारियों का निपटान कर दिया।
  • जियो ने साल 2034-35 तक की देनदारियों का भुगतान किया है।
  • कंपनी ब्याज पर 1200 करोड़ बचाएगी।

Reliance Jio Spectrum Payment: रिलायंस जियो इन्फोकॉम लिमिटेड (Reliance Jio Infocomm Limited, RJIL) ने नीलामी में प्राप्त स्पेक्ट्रम की संपूर्ण देनदारियों को समय से पहले ही चुका दिया है। जियो ने दूरसंचार विभाग (Department of Telecom) को 30,791 करोड़ रुपये का भुगतान किया है। 

जियो ने किया था 585.3 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम का अधिग्रहण
साल 2014, 2015, 2016 में जियो ने स्पेक्ट्रम हासिल किया था। साथ ही साल 2021 में भारती एयरटेल लिमिटेड से भी जियो ने स्पेक्ट्रम खरीदा था। अब कंपनी ने इन सभी देनदारियों का भुगतान कर दिया है। मालूम हो कि कंपनी ने इन नीलामियों और सौदों में 585.3 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम का अधिग्रहण किया था।

क्या मुकेश अंबानी से भी अमीर हो गए हैं क्रिप्टो निवेशक चांगपेंग झाओ? इतनी है संपत्ति

दूरसंचार विभाग ने दिसंबर 2021 में टेलीकॉम कंपनियों के लिए एक पैकेज की घोषणा की थी। जियो ने साल 2016 में प्राप्त स्पेक्ट्रम से संबंधित भुगतान की पहली किस्त अक्टूबर 2021 में ही चुका दी थी। वहीं साल 2014 और 2015 में नीलामी में प्राप्त स्पेक्ट्रम की डेफर्ड देनदारियों के साथ-साथ ट्रेडिंग के माध्यम से प्राप्त स्पेक्ट्रम की देनदारियों को मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) के स्वामित्व वाली कंपनी ने जनवरी 2022 में पूर्व भुगता कर दिया है।

इस कंपनी में रिलायंस रिटेल ने खरीदी हिस्सेदारी, 983 करोड़ रुपये में हुआ सौदा

ब्याज पर बचेंगे 1200 करोड़ रुपये
ये देनदारियां वित्त वर्ष 2022-23 से 2034-2035 तक सालाना किश्तों में देय थीं। इन पर ब्याज दर 9.30 फीसदी से 10 फीसदी प्रति वर्ष के बीच थी। कंपनी ने अनुमान लगाया है कि समय से पहले भुगतान करने से ब्याज पर सालाना 1200 करोड़ रुपये बचेंगे।

Times Now Navbharat पर पढ़ें Business News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर