Rani Kamlapati (हबीबगंज) जैसे ये रेलवे स्टेशन भी बन रहे हैं वर्ल्ड क्लास, जानें मोदी सरकार का 400 प्लान

बिजनेस
प्रशांत श्रीवास्तव
Updated Nov 15, 2021 | 16:28 IST

Rani Kamlapati (Habibganj) Railway Station: रानी कमलापति रेलवे स्टेशन देश का पहला स्टेशन है, जिसे PPP मोड में तैयार किया गया है। सरकार नेशनल मोनेटाइजेशन पाइपलाइन प्लान के तहत 400 रेलवे स्टेशन विकसित करेगी।

Rani Kamlapati Station Of Bhopal
भोपाल का रानी कमलापति रेलवे स्टेशन 
मुख्य बातें
  • रानी कमलापति रेलवे स्टेशन को वर्ल्ड क्लास सुविधा से युक्त बनाया गया है और वह पूरी तरह एयरपोर्ट का अहसास कराता है।
  • इंडियन रेलवे स्टेशंस डेवलपेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड और रेलवे भूमि विकास प्राधिकरण को देश भर में स्टेशन डेवलपमेंट का काम सौंपा गया था।
  • टियर-1 शहरों के 50 ,टियर-2 के 100 और टियर-3 शहरों के 250 रेलवे स्टेशन विकसित किए जाएंगे।

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज भोपाल में देश के नए वर्ल्ड क्लास रेलवे स्टेशन रानी कमलापति (पुराना नाम हबीबगंज) का उद्घाटन कर दिया है। नए स्टेशन को पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप (PPP) मॉडल पर तैयार किया गया है। PPP मॉडल पर बने इस रेलवे स्टेशन की खूबसूरती, एयरपोर्ट का अहसास करा रही है। इसी मॉडल पर देश में करीब 400 रेलवे स्टेशन को डेवलप करने का मोदी सरकार का प्लान है। जिन्हें 2025 तक तैयार करने का लक्ष्य रखा गया है।  सरकार इन स्टेशन को नेशनल मोनेटाइजेशन पाइप लाइन (National Monetization Pipeline)के तहत तैयार करेगी। जिसके तहत वह 76 हजार करोड़ कमाई करने का भी लक्ष्य लेकर चल रही है।

मौजूदा समय में 77 स्टेशन पर काम

भारत में रेलवे स्टेशन रिडेवलपमेंट का काम भारतीय रेलवे की दो सब्सिडियरी के जरिए किया जा रहा है। इसके तहत इंडियन रेलवे स्टेशंस डेवलपेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड और रेलवे भूमि विकास प्राधिकरण देश भर में स्टेशन डेवलपमेंट का काम कर रहे हैं।

इंडियन रेलवे स्टेशंस डेवलपेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड (Indian Stations Deveopment Corporation Limited)ने ही हबीबगंज (नया नाम रानी कमलापति ) रेलवे स्टेशन को तैयार किया है। इसके पहले गांधी नगर स्टेशन को भी उसने विकसित किया था। इंडियन रेलवे स्टेशंस डेवलपेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड से मिली जानकारी के अनुसार मौजूदा समय में दिल्ली स्थित बिजवासन रेलवे स्टेशन प्रोजेक्ट पर काम चल रहा है। जबकि 12 स्टेशन के लिए प्लानिंग हो चुकी है। और उन्हें विकसित किया जा रहा है। इस बीच अक्टूबर 2021 को इंडियन रेलवे स्टेशंस डेवलपेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड को बंद करने का फैसला, रेलवे द्वारा किया गया है। इसके बाद ऐसी संभावना है कि जिन स्टेशन के डेवलपमेंट का काम कंपनी के पास था, उसे संबंंधित जोन में आने वाले ऑफिस को सौंप दिया जाएगा। 

1. नागपुर
2.ग्वालियर
3.अमृतसर
4.साबरमती
5.शिवाजी नगर
6.सूरत
7.बंगलुरू का बयापनहल्ली
8.जयपुर का गांधी नगर
9.कानपुर
10.ठाकुरली
11.आनंद विहार
12.चंडीगढ़ 

जबकि रेलवे  भूमि विकास प्राधिकरण (Rail Land Development Authority)से मिली जानकारी के अनुसार 8 जून 2021 तक प्राधिकरण, 62 रेलवे स्टेशन के रिडेवलपमेंट की प्रक्रिया को शुरू कर चुका है। इसके तहत नई दिल्ली, फरीदाबाद, राजेंद्र नगर (पटना), चारबाग (लखनऊ), देहरादून, मुंबई सेंट्रल, गया, अहमदाबाद, पानीपत, जम्मू-तवी, रामेश्ववरम, मंगलौर,मदुरई, पुरी, जैसलमेर आदि स्टेशन शामिल हैं।

BIJWASAN STATION

इस तरह होगा 400 स्टेशन का डेवलपमेंट 

नीति आयोग द्वारा पेश किए गए नेशनल मोनटेाइजेशन पाइपलाइन के तहत 2024-25 तक कुल 400 स्टेशन को डेवलप किया जा रहा है। इसके तहत पीपीपी मोड से विकसित होने वाले इन स्टेशन से 76250 करोड़ रुपये जुटाए जाएंगे। योजना के अनुसार मौजूदा वित्त वर्ष में 40 स्टेशन पर काम किया जाएगा। जबकि 2022-23 में 120, 2023-24 में 120 और 2024-25 में 120 स्टेशन विकसित किए जाएंगे। इसके तहत  टियर-1 शहरों के 50 ,टियर-2 के 100 औरटियर-3 शहरों के 250 स्टेशन होंगे।

Gandhi Nagar Railway Station

Times Now Navbharat पर पढ़ें Business News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर