Policy renewal: लैप्स हो चुकी है लाइफ इंशोरेंस पॉलिसी तो करें ये काम, इस तरह कर सकते हैं एक्टिव

LIC policy revival: बीमा पॉलिसी चुनने और उसकी प्रीमियम राशि का निर्धारण करते समय कुछ बातों का खास ध्यान देने की जरूरत होती है। इस तरह आप प्रीमियम के रिस्क को समझ सकते हैं।

Policy renewal
लैप्स हो चुकी है लाइफ इंशोरेंस पॉलिसी तो करें ये काम 

मुख्य बातें

  • बीमा पॉलिसी खरीदते कुछ बातों का खास ख्याल रखना चाहिए।
  • पॉलिसी लैप्स होने के बाद उसे रेनवेड करा सकते हैं।
  • इस तरह आप अपने पॉलिसी को फिर से एक्टिव कर सकते हैं।

कई बार हम लाइफ इंशोरेंस पॉलिसी खरीद लेते हैं, लेकिन बाद में आर्थिक स्थिति सही नहीं होने पर प्रीमियम भुगतान जारी नहीं रख पाते हैं। लेकिन अगर आप चाहे तो ट्रैक पर वापस आने के बाद इसे फिर से स्थापित कर सकते हैं। वहीं बीमा पॉलिसी खरीदते समय और प्रीमियम राशि का निर्धारण करते समय कुछ बातों का खास ध्यान देने की जरूरत होती है। उम्र, लिंग, हेल्थ कंडीशन, लाइफस्टाइल जैसी कई कारक चेक करने की आवश्यकता होती है। 

कम आयु वाले लोगों के साथ-साथ बिना बीमारी और मेडिकल हिस्ट्री वाले लोगों को कम रिस्क माना जाता है और वें कम प्रीमियम का भुगतान करते हैं। एक्सपर्ट का मानना है कि अगर पॉलिसी नवीनीकरण नहीं किया जाता है और लैप्स हो जाती है, ऐसे में पॉलिसी से हाथ धो सकते हैं। अगर आपका बीमाकर्ता ऐसा करने की अनुमति देता है तो आप पॉलिसी को वापस रेनवेड करा सकते हैं।  वहीं कुछ कंपनियों की लैप्स पॉलिसी को रिवाइव करने के लिए खास कैंपेन चला रही हैं। 

PolicyX.com के संस्थापक नवल गोयल ने कहा कि महामारी के दौरान जब हर कोई बीमा करवाना चाहता है या सुरक्षित रहना चाहता है, तो हमेशा यह सलाह दी जाती है कि लैप्स पॉलिसी को रेनवेड करें। अगर आपकी बीमा कंपनी आपको लैप्स बीमा पॉलिसी को रेनवेड करने की अनुमति दे रही है, तो आपको नए निवेश करने के बजाय इसके लिए निश्चित रूप से जाना चाहिए। यह आपको मौजूदा बीमा कवर के साथ उपलब्ध वित्तीय लाभों को बनाए रखने में मदद करेगा। 

उन्होंने आगे कहा कि सामान्य रूप से पुराने प्रीमियम दर पर रिवाइवल होता है, और आपकी पॉलिसी अवधि के दौरान अर्जित बोनस रेस्टोरेट हो जाएगा। साथ ही , यह बहुत सारे कारकों पर निर्भर करता है, जैसे कि पहले से भुगतान किया गया प्रीमियम, पॉलिसी धारक की स्वास्थ्य स्थिति, प्रीमियम का भुगतान न करने पर जुर्माना और बहुत कुछ। अगर यह एलआईसी पॉलिसी है तो ग्राहकों को कुछ छूट है क्योंकि कंपनी के पॉलिसीधारक जिन्होंने 1 जनवरी 2014 को अपनी पॉलिसी खरीदी थी, वे पांच साल के भीतर अपनी गैर-लिंक्ड पॉलिसी को पुनर्जीवित कर सकते हैं और पहले अनपेड के तीन साल के भीतर यूनिट-लिंक्ड पॉलिसीज प्रीमियम कर सकते हैं।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर