आपकी आय टैक्स के दायरे नहीं है? फिर भी करें ITR फाइल, होंगे कई लाभ

आपकी आय इनकम टैक्स के दायरे से बाहर है? कानून तो आईटीआर भरने की जरूरत नहीं है फिर भी भरे, कई तरह के फायदे होंगे। 

Is your income not taxable? Still file ITR, there will be many benefits
आईटीआर फाइल करने से कई लाभ मिलते हैं 

मुख्य बातें

  • 60 वर्ष से कम आयु के व्यक्ति की आय सालाना 2.5 लाख रुपए है तो वे टैक्स के दायरे से बाहर हैं।
  •  60 वर्ष से 80 वर्ष तक से लोगों के लिए टैक्स छूट सीमा 3 लाख रुपए है।
  • 80 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्तियों के लिए टैक्स छूट सीमा 5 लाख रुपए है।

वित्तीय वर्ष 2020-21 या निर्धारण वर्ष (AY) 2021-22 के लिए इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करने की अंतिम तिथि 30 सितंबर, 2021 है। 60 वर्ष से कम आयु के व्यक्ति प्रति वर्ष 2.5 लाख रुपए तक कमाते हैं। वे इनकम टैक्स से मुक्त है। उस व्यक्ति को इनकम रिटर्न (ITR) दाखिल करना जरूरी होता है जिसकी कुल आय टैक्स छूट की सीमा से अधिक है। 60 वर्ष से अधिक लेकिन 80 वर्ष से कम (वरिष्ठ नागरिकों) के लिए, यह छूट सीमा 3 लाख रुपए है और 80 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्तियों (सुपर वरिष्ठ नागरिकों) के लिए छूट की सीमा 5 लाख रुपए है। कानून के हिसाब से अगर आपकी आय टैक्स छूट की सीमा से कम है, तो भी आपको आईटीआर दाखिल करने की आवश्यकता नहीं है, लेकिन आपको यह सलाह दी जाती है कि आप अपना इनकम टैक्स रिटर्न (आईटीआर) दाखिल करें क्योंकि इसके कई लाभ हैं।

लोन के लिए पात्र बनना

अगर आप लोन के लिए आवेदन कर रहे हैं, तो बैंक पात्रता की जांच करते हैं जो किसी की आय पर निर्भर करती है। वे आय के आधार पर लोन की मात्रा भी तय करते हैं जिसे इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल कर प्राप्त किया जा सकता है। ईजी लोन प्रोसेसिंग के लिए विभिन्न संस्थानों द्वारा आईटीआर दस्तावेज स्वीकार किए जाते हैं। आमतौर पर बैंक अपने ग्राहकों के लिए लोन प्रोसेस करते समय तीन साल का आईटीआर मांगते हैं। अगर आप कार या घर खरीदने की योजना बना रहे हैं या पर्सनल लोन की तलाश कर रहे हैं तो आईटीआर आपके लिए बहुत मददगार दस्तावेज साबित होगा।

पता और आय प्रूफ

इनकम टैक्स निर्धारण आदेश का उपयोग एक वैध पते के प्रूफ के रूप में किया जा सकता है। इसका इस्तेमाल आधार कार्ड के लिए भी किया जा सकता है। आम तौर पर, नियोक्ता अपने कर्मचारियों को फॉर्म 16 जारी करते हैं और यह एक व्यक्ति की आय के प्रमाण के रूप में कार्य करता है। आईटीआर फाइलिंग दस्तावेज स्व-नियोजित लोगों या फ्रीलांसरों के लिए प्रामाणिक आय प्रमाण के रूप में कार्य करता है। वित्तीय वर्ष के दौरान, किसी व्यक्ति की आय और व्यय का विस्तृत विवरण इसमें दिया जाता है।

वीजा अप्रूवल

किसी व्यक्ति को वीजा जारी करने के लिए अधिकांश देश दस्तावेजों के बीच आईटीआर की मांग करते हैं। यह मदद करता है अगर कोई व्यक्ति देश का टैक्स-अनुपालन नागरिक है। यह वीजा प्रोसेसिंग अधिकारियों को आपकी वर्तमान वित्तीय स्थिति और आय स्तरों के बारे में एक अंतर्दृष्टि भी देता है। इसलिए, भले ही आपकी आय टैक्स योग्य ब्रैकेट से कम हो, अपना आईटीआर दाखिल करें क्योंकि यह आपके वीजा प्रोसेसिंग, अनुमोदन को आसान बना सकता है।

टैक्स रिफंड

अगर कोई व्यक्ति आईटीआर फाइल करता है, तो वे टर्म डिपॉजिट जैसे उपकरणों से होने वाली आय पर टैक्स बचा सकते हैं। लाभांश आय पर भी टैक्स बचाया जा सकता है। कोई व्यक्ति आईटीआर रिफंड के माध्यम से टैक्स आउटगो का दावा कर सकता है क्योंकि ये उपकरण टैक्स के लिए उत्तरदायी हैं। अगर विभिन्न स्रोतों से कुल सकल आय 2.5 लाख रुपए से अधिक है, तो कोई टैक्स रिफंड का दावा कर सकता है और स्रोत पर काटे गए धन को वापस पा सकता है। यह लागू होता है अगर आपने इस तरह से निवेश किया है कि आपकी शुद्ध आय एक वर्ष में 2.5 लाख रुपए से कम है।

नुकसान का दावा

कोई व्यक्तिगत टैक्सपेयर के लिए निर्दिष्ट नुकसान का दावा करने के लिए, नियत तारीख के भीतर इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करना अनिवार्य है। यह नुकसान पूंजीगत लाभ, व्यवसाय या पेशे के रूप में हो सकता है। इनकम टैक्स के नियम कैरी-फॉरवर्ड लॉस को केवल उन्हीं लोगों को कैपिटल गेन के खिलाफ सेट करने की इजाजत देते हैं जो संबंधित असेसमेंट ईयर में आईटीआर फाइल करते हैं।

गौर हो कि टैक्स योग्य वर्ग से कम आय वाले कुछ व्यक्ति अभी भी कानून में निर्दिष्ट कुछ मामलों में इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करने के लिए बाध्य हो सकते हैं:-

भारत के बाहर स्थित किसी भी संपत्ति (किसी भी इकाई में वित्तीय हित सहित) रखने वाला व्यक्ति; या  भारत के बाहर स्थित किसी भी खाते में हस्ताक्षर करने का अधिकार रखने वाला व्यक्ति; या  व्यक्ति भारत के बाहर स्थित किसी संपत्ति (किसी भी इकाई में वित्तीय हित सहित) का लाभार्थी है।

किसी व्यक्ति ने किसी बैंक या सहकारी बैंक के किसी भी चालू खाते में एक वित्तीय वर्ष में 1 करोड़ रुपए से अधिक की राशि जमा की है।

किसी व्यक्ति ने एक वित्तीय वर्ष में 2 लाख रुपए से अधिक की विदेश यात्रा पर खर्च किया है।

किसी व्यक्ति ने एक वित्तीय वर्ष में 1 लाख रुपए या उससे अधिक का बिजली खर्च किया है।

किसी भी टैक्स संधि राहत का लाभ उठाने, अतिरिक्त रोके गए टैक्सों की वापसी का दावा करने या पर्सनल लोन आदि के लिए आवेदन करते समय इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करने की आवश्यकता हो सकती है।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर