Investment Tips : कब और कहां पैसा निवेश करने से होगा फायदा, जानिए 5 महत्वपूर्ण बातें

Best Investment Options and Plans: अपने वित्तीय लक्ष्य की पूर्ति के लिए सिर्फ एक जगह निवेश पर निर्भर रहना आपके लिए हानिकारक सिद्ध हो सकता है। यहां जानिए कहां कब निवेश करना चाहिए।

Best Investment Options and Plan in India When and where investing money will benefit, know 5 important things
निवेश टिप्स 

एक पुरानी कहावत है कि "अपना सब कुछ एक ही जगह दांव पर न लगाएं।” इस कहावत के जरिए यह सलाह दी गई है कि अगर आप अपना उद्देश्य पूरा होते देखना चाहते हैं तो सिर्फ एक दिशा में अपना श्रम और प्रयास न लगाएं। ऐसा इसलिए है क्योंकि यदि आपका निर्णय किसी बिंदु पर विफल हो जाता है तो उसकी वजह से न सिर्फ आपका उद्देश्य विफल होगा बल्कि अब तक लगा समय और प्रयास भी निरर्थक साबित होगा। वित्तीय संदर्भ में, इसका उपयोग एसेट आवंटन से जुड़ी रणनीतियों की व्याख्या करने के लिए किया जाता है ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि आपका निवेश पोर्टफोलियो किसी एक निवेश इंस्ट्रूमेंट्स में केंद्रित नहीं हैं बल्कि उसे डाइवर्सिफाई किया गया है।

अपने वित्तीय लक्ष्य की पूर्ति के लिए सिर्फ एक एसेट पर निर्भर रहना आपके लिए हानिकारक सिद्ध हो सकता है। यदि आपने अपने लक्ष्य और उसे हासिल करने के लिए (भविष्य के सभी कारकों को ध्यान में रखते हुए) आवश्यक धनराशि पर निर्णय ले लिया है, तो अलग-अलग एसेट में आनुपातिक रूप से राशि निवेशित करना सबसे अच्छा है। आदर्शतः आपको अपनी उम्र, आय, जोखिम उठाने की क्षमता, क्षितिज और रिटर्न की उम्मीद के आधार पर विभिन्न एसेट क्लास में निवेश करना चाहिए।

उदाहरण के लिए, 20 से 30 वर्ष के युवा निवेशकों को अपने कुल निवेश का बड़ा हिस्सा सुनियोजित रूप से इक्विटी वाले इंस्ट्रूमेंट में लगाना चाहिए और बाकी पैसा अन्य विकल्पों जैसे कि बांड, रियल एस्टेट या गोल्ड में लगाना चाहिए। 50 से अधिक उम्र वाले निवेशक के लिए यह अनुपात पूरी तरह से भिन्न होगा क्योंकि इस उम्र में जोखिम लेने की क्षमता आमतौर पर कम होती है। आप इक्विटी में कम पैसा लगाने पर विचार कर सकते हैं, जबकि डेब्ट इंस्ट्रूमेंट में अधिक राशि आवंटित कर सकते हैं।

एसेट आवंटन को बेहतर ढंग से समझने के लिए, इन 5 लाभों पर नजर डालें कि यह आपका पैसा बढ़ाने तथा महत्वपूर्ण वित्तीय लक्ष्यों को प्राप्त करने में कैसे मदद करता है।

जोखिम को डाइवर्सिफाई करना

अगर आप विभिन्न एसेट श्रेणियों में अपनी निवेश राशि को आनुपातिक ढंग से आवंटित करते हैं, तो इससे आपका जोखिम भी डाइवर्सिफाई होगा। इसका सीधा मतलब यह है कि डाइवर्सिफाइड पोर्टफोलियो में आपका जोखिम एक केंद्रित पोर्टफोलियो की तुलना में कम होगा। ऐसा समय भी आ सकता है जब डेब्ट इंस्ट्रूमेंट के आपके निवेश अच्छा प्रदर्शन नहीं कर रहे होंगे लेकिन इक्विटी में आपके निवेश काफी अच्छा प्रदर्शन कर रहे होंगे, या फिर इक्विटी में आपके निवेश अच्छा प्रदर्शन नहीं कर रहे होंगे जबकि डेब्ट वाले आपके निवेश काफी अच्छा प्रदर्शन कर रहे होंगे। यह इस बात का ध्यान रखता है कि आपका निवेश अत्यधिक जोखिम में न रहे क्योंकि एसेट आवंटन की रणनीति आपके पक्ष में जोखिम कारक को काफी हद तक नियंत्रित रखती है।

रिटर्न में स्थिरता

आवंटन रणनीति के साथ जोखिम को डाइवर्सिफाई कर आप हमेशा अपने निवेश से अनुकूलित और स्थिर रिटर्न पाने की उम्मीद रख सकते हैं, लेकिन यदि आप केवल एक ही एसेट में निवेश करते हैं तो ऐसा करना संभव नहीं होगा। उदाहरण के लिए, यदि आपने इक्विटी में ही पूरा निवेश किया है, तो कई बार ऐसा समय भी आता है जब आपकी निवेश राशि का मूल्य आधा या आधे से भी कम हो सकता है। ऐसी स्थिति में ही एसेट आवंटन रणनीति से निवेशक को मदद मिलती है। यदि किसी एसेट क्लास का मूल्य गिर जाता है, तो अन्य एसेट से मिलने वाला रिटर्न या तो उस प्रभाव को बेअसर कर देता है या निवेश पोर्टफोलियो के मूल्य को अचानक गिरने से रोक देता है।

तत्काल लिक्विडिटी

एसेट आवंटन प्रक्रिया से आपको जरूरत के वक्त लिक्विड फंड की उपलब्धता में भी मदद मिलती है। उदाहरण के लिए, यदि आपने अपने निवेश पोर्टफोलियो को इक्विटी, डेब्ट और रियल एस्टेट में उचित अनुपात में बाँट रखा है, तो आप जरूरत पड़ने पर कभी भी पहले दो को आसानी से नकदी रूप में बदल सकते हैं। लेकिन अगर आपका पूरा निवेश रियल एस्टेट में है, तो आपको नकदी संकट का सामना करना पड़ सकता है क्योंकि संपत्ति को बेचना एक लंबी प्रक्रिया है।

यह आपको केंद्रित और अनुशासित रखता है

निवेश करते समय एसेट आवंटन रणनीति अपनाने का सबसे अच्छा परिणाम एक निवेशक के रूप में आप पर इसका सकारात्मक प्रभाव है। यह प्रक्रिया सुनिश्चित करती है कि आप पूरी अवधि में अपने निवेश दृष्टिकोण में अनुशासित बने रहते हैं, और इस प्रकार अपने लक्ष्यों से आपका ध्यान नहीं हटता है। यह वास्तव में बहुत महत्वपूर्ण है कि आप अपने वित्तीय लक्ष्य से न चूकें और अपने चुने हुए रास्ते से पीछे न हटें। आपका ध्यान आपको किसी खास समय पर परेशान नहीं होने देता है, और इस तरह आप एक अनुभवी और प्रसन्न निवेशक बनकर उभरते हैं।

यह आपको तनाव मुक्त रखता है

जब आपका जोखिम कम होता है और आपके पास अपने वित्तीय लक्ष्य तक पहुँचने की सहजता होती है, तो आप अपने निवेश को लेकर तनाव मुक्त रहते हैं। इसके अतिरिक्त, आपको अपेक्षित रिटर्न प्राप्त करने के लिए बाजार बेहतर होने तक इंतजार नहीं करना पड़ता क्योंकि आपके निवेश अच्छी तरह से आवंटित होते हैं। यह आपके निवेश संबंधी तनाव को दूर रखने में मदद करता है।

हालाँकि, आपके पास हमेशा एसेट आवंटन रणनीति होनी चाहिए, क्योंकि जैसे-जैसे आपका निवेश हर गुजरते साल के साथ बढ़ता जाता है वैसे ही आपकी उम्र भी बढ़ती जाती है। वास्तव में, आवंटन के प्रमुख मापदंडों में से एक आपकी उम्र है क्योंकि यह जोखिम लेने की आपकी क्षमता को निर्धारित करती है। निवेशकों को यह सलाह दी जाती है कि वे हर 5-7 साल में अपनी पोर्टफोलियो की समीक्षा करते रहें। और अगर जरूरत पड़ती

है तो वे अपने पोर्टफोलियो को रीबैलेंस कर सकते हैं। आप इसके लिए किसी वित्तीय सलाहकार से पेशेवर मदद भी ले सकते हैं। विभिन्न एसेट श्रेणियों में अपने निवेश के प्रदर्शन और मूल्य निर्माण को देखते हुए, आप अपने निवेश को प्रभावित करने वाले विभिन्न बाजार कारकों के आधार पर रणनीतिक और सुनियोजित एसेट आवंटन के बीच थोड़ा स्विच कर सकते हैं। ऐसा करते समय, आपके लिए अपने वित्तीय लक्ष्यों को अक्षुण्ण और केंद्रित बनाए रखना अत्यंत महत्वपूर्ण है।

(इस लेख के लेखक, BankBazaar.com के CEO आदिल शेट्टी हैं)
(डिस्क्लेमर: यह जानकारी एक्सपर्ट की रिपोर्ट के आधार पर दी जा रही है। बाजार जोखिमों के अधीन होते हैं, इसलिए निवेश के पहले अपने स्तर पर सलाह लें।) ( ये लेख सिर्फ जानकारी के उद्देश्य से लिखा गया है। इसको निवेश से जुड़ी, वित्तीय या दूसरी सलाह न माना जाए)

Times Now Navbharat पर पढ़ें Business News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर