Ganesh Chaturthi 2022: अपने फोन पर सिद्धिविनायक मंदिर की लाइव आरती ऐसे देखें

देशभर में 31 अगस्त यानी आज गणेश चतुर्थी मनाई जा रही है। अगर आप मुंबई के सिद्धिविनायक मंदिर के भगवान गणेश के लाइव दर्शन करना चाहते हैं तो इसका तरीका यहां जानें।

Lord Ganesha
सिद्धिविनायक मंदिर के भगवान गणेश (Photo- Siddhivinayak Temple) 
मुख्य बातें
  • आज गणेश चतुर्थी मनाई जा रही है
  • भक्त मुंबई के सिद्धिविनायक मंदिर भी दर्शन के लिए जाते हैं
  • मंदिर की पूजा को ऑनलाइन भी देखा जा सकता है

Ganesh Chaturthi 2022: भारत में आज गणेश चतुर्थी मनाई जा रही है। भगवान गणेश को समर्पित उत्सव 10 दिन तक जारी रहेगी। इस मौके पर देशभर के भक्त मुंबई के सिद्धिविनायक मंदिर भी दर्शन के लिए जाते हैं और आरती में शामिल होते हैं। हालांकि, जो भक्त इस बार सिद्धिविनायक मंदिर तक नहीं जा पाएंगे। वे मंदिर की पूजा को ऑनलाइन भी देख सकते हैं। 

हिंदू कैलेंडर के मुताबिक, इस साल आज यानी 31 अगस्त को गणेश चतुर्थी मनाई जा रही है। वहीं, 9 सितंबर को गणेश विसर्जन किया जाएगा। इस बीच अगर आप चाहें तो  सिद्धिविनायक मंदिर के भगवान गणेश का दर्शन कर सकते हैं। मंदिर की ऑफिशियल वेबसाइट से भक्त पूजा को देख सकते हैं। 

Ganesh Chaturthi 20222: ऐसे डाउनलोड करें WhatsApp स्टिकर्स, जानें तरीका

इस लिंक पर जाकर करें लाइव दर्शन: 

https://www.siddhivinayak.org/live-darshan/

भक्त चाहें तो iOS, Android और iPad पर भी ऐप के जरिए गणपति बप्पा के दर्शन कर सकते हैं। 

Apple के लिए लिंक: 

https://apps.apple.com/in/app/siddhivinayak-temple/id1524939351

Android के लिए लिंक: 

https://play.google.com/store/apps/details?id=com.cynapto.ssvt

Happy Ganesh Chaturthi 2022 Whatsapp Status: स्टेटस में लगाने के लिए ऐसे डाउनलोड करें HD इमेज, यहां जानें तरीका

आरती का समय: 

बुधवार से सोमवार

  • काकड़ आरती - प्रातः 5.30 बजे से प्रातः 6.00 बजे तक।
  • शाम की आरती - शाम 7.30 बजे। रात 8 बजे तक। 
  • शेजआरती - दिन की अंतिम आरती : रात 9.50 बजे (शेजआरती के बाद मंदिर के कपाट बंद रहते हैं)। 
  • मंदिर 'शेजआरती' के बाद अगली सुबह तक पूरी तरह से बंद रहता है।

मंगलवार 

  • काकड़ आरती - प्रातः 5.00 बजे से प्रातः 5.30 बजे तक।
  • रात्रि आरती- रात्रि 9.30 बजे से 10.00 बजे तक।
  • शेजआरती - दिन की अंतिम आरती: 12 बजे (शेज आरती के बाद मंदिर के दरवाजे बंद रहते हैं)। 
Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर