काफी 'खतरनाक' है जासूसी सॉफ्टवेयर Pegasus, जानिए आपके फोन में यह क्या कर सकता है 

पेगासस स्पाइवेयर का मामला सामने आने के बाद स्नूपिंग की चर्चा एक बार फिर तेज हो गई है। पेगासस को अब तक का सबसे बेहतरीन जासूसी का सॉफ्टवेयर माना जाता है। यह आपके मोबाइल का एक्सेस दूसरे को भेज देता है।

Pegasus a sophisticated snooping software may harm you in many ways
काफी खतरनाक है पेगासस सॉफ्टवेयर।  |  तस्वीर साभार: BCCL

मुख्य बातें

  • जासूसी सॉफ्टवेयर के मामले में अव्वल दर्जे का माना जाता है पेगासस सॉफ्टवेयर
  • इजरायल की कंपनी एनएसओ ने बनाया है इसे, लाइसेंस के लिए भारी फीस लेती है
  • यह सॉफ्टवेयर यूजर के फोन में चुपके से दाखिल हो जाता है और जानकारियां चुरा लेता है

नई दिल्ली : पेगासस जासूसी कांड का मामला भारत सहित दुनिया भर में गरमा गया है। इस दावे के बाद कि सरकारों ने अपने नागरिकों की जासूसी के लिए इजरायल की कंपनी एनएसओ के सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया है, सियासत में भूचाल आ गया है। मीडिया रिपोर्टों में दावा किया गया है कि भारत में नेताओं, पत्रकारों सहित नामी-गिरामी करीब 300 लोगों के फोन टेप कर उनकी जासूसी की गई है। पेगासस केस के मामले पर कांग्रेस आक्रामक है और उसने सरकार पर लोकतांत्रिक अधिकारों के हनन का आरोप लगाते हुए इसकी निष्पक्ष जांच कराए जाने की मांग की है। संसद में इस पर चर्चा के लिए आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह ने राज्यसभा में नोटिस दिया है।    

एनएसओ ने क्यों बनाया पेगासस
इजरायल की कंपनी एनएसओ साइबर सुरक्षा के क्षेत्र में काम करती है। दुनिया में बढ़ते अपराध और आतंकवाद को देखते हुए कंपनी ने इस तरह का सॉफ्टवेयर बनाने पर विचार किया जो अपराधियों को पकड़ने में खुफिया एवं सुरक्षा एजेंसियों की मदद करे। इसे ध्यान में रखते हुए कंपनी ने पेगासस सॉफ्टवेयर तैयार किया। कंपनी अपना यह अप्लिकेशन सम्प्रभू देशों को बेचती है। किसी निजी व्यक्ति के हाथ में यह सॉफ्टवेयर नहीं आता। कंपनी अपने इस सॉफ्टवेयर के लाइसेंस के लिए भारी मात्रा में पैसे लेती है। 

क्या कर सकता है पेगासस
आईओएस और एंड्रायड ऑपरेटिंग सिस्टम को हैक कर सकता है। एप्पल अपनी डाटा की सुरक्षा के लिए जानी जाती है लेकिन इस अप्लिकेशन ने उसमें भी सेंध लगा दी। बाद में एप्पल ने अपने डिवाइसों की खामियों को दूर किया।  

  1. बताया जाता है कि यह आईपैड और आईफोन को भी हैक कर सकता है। 
  2. यह फोन के कैमरा और माइक्रोफोन को भी ऑन कर सकता है। 
  3. एनएसओ अपने इस सॉफ्टवेयर के लाइसेंस के लिए सलाना सरकारों से 50 से 60 करोड़ रुपए लेती है। 
  4. यह अप्लिकेशन एक बार डाउनलोड हो जाने के बाद हजारों मील दूर बैठा व्यक्ति आपके फोन को एक्सेस कर सकता है। 
  5. पेगासस आपके फोन की पूरी सूचना बाहर भेज सकता है। वह आपका पासवर्ड, कॉन्टैक्ट लिस्ट, मैसेज, लाइव व्वॉयस को हैक कर बाहर भेज सकता है। 
  6. पेगासस के बारे में कहा जाता है कि यह इंक्रिप्टेड संदेशों को भी सुन और पढ़ सकता है।

पेगासस है क्या
पेगासस एक ऐसा मॉलवेयर या सॉफ्टवेयर या एप्लिकेशन है जो आपके फोन में आकर आपकी निजी सूचनाओं, बातचीत और वीडियो को आपकी जानकारी के बगैर बाहर अपने हैंडलर को भेज देता है। इसे जासूसी का अब तक का सबसे बेहतरीन सॉफ्टवेयर माना जा रहा है। फोन में इसे डिटेक्ट करना आसान नहीं होता। जिस फोन नंबर की जासूसी करनी होती है, उस नंबर पर कोई मैसेज, लिंक, पॉप अप आता है। जब कोई व्यक्ति इसे क्लिक करता है तो यह अप्लिकेशन उसके फोन में डाउनलोड हो जाता है।

एक मिस्ड कॉल से भी फोन में दाखिल हो सकता है
व्यक्ति को पता नहीं होता है कि उसके फोन में जासूसी करने वाला अप्लिकेशन डाउनलोड हो गया है। ये जासूसी सॉफ्टवेयर इस तरह से डिजाइन किए जाते हैं कि यूजर के जानकारी के बिना उसके फोन का एक्सेस कंपनी को मिल जाए। चर्चा यह भी कि एक मिस्ड कॉल से भी पेगासस आपके फोन में दाखिल हो सकता है।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर