कोरोना काल में फोन को सैनिटाइज करना कितना जरूरी? रहें सावधान, वरना हो जाएगा नुकसान

How to sanitize phone during covid: कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए फोन को सैनिटाइज करना भी जरूरी है, लेकिन इस क्रम में थोड़ी सी लापरवाही भी आपको मुश्किलों में डाल सकती है।

कोरोना काल में फोन को सैनिटाइज करना कितना जरूरी? रहें सावधान, वरना हो जाएगा नुकसान
कोरोना काल में फोन को सैनिटाइज करना कितना जरूरी? रहें सावधान, वरना हो जाएगा नुकसान  |  तस्वीर साभार: BCCL

मुख्य बातें

  • कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए समय-समय पर फोन को सैनिटाइज करना जरूरी है
  • हालांकि फोन को सैनिटाइज करते समय थोड़ी सी लापरवाही भी मुश्किलों का सबब बन सकती है
  • सैनिटाइजर के गलत इस्‍तेमाल से फोन की स्क्रीन, हेडफोन जैक और स्पीकर खराब हो सकते हैं

नई दिल्‍ली : कोरोना वायरस संक्रमण से पूरी दुनिया में तबाही मची है। हर किसी को इस दौरान विशेष सावधानी बरतने और बहुत आवश्‍यक होने पर ही बाहर निकलने की सलाह दी जा रही है। सार्वजनिक स्‍थलों पर लोगों को मास्‍क लगाने और सोशल डिस्‍टेंसिंग बरतने की सलाह दी जा रही है तो दिन में कई बार साबुन से हाथ धोने और सैनिटाइजर का इस्तेमाल करने के लिए भी बोला जा रहा है।

कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए यह सब जरूरी है और लोग इनका इस्‍तेमाल कर भी रहे हैं। लोगों को कामकाज के सिलसिले में बाहर निकलना ही पड़ता है और बाहर से आने के बाद वे साफ-सफाई का ख्‍याल भी खूब रख रहे हैं। इस क्रम में कई बार वे फोन को भी सैनिटाइज करते हैं, क्‍योंकि यह बाहर भी उनके साथ होता है और कभी किसी से बात करने के लिए तो कभी सामानों की ऑनलाइन खरीद के दौरान भी वे इसका इस्‍तेमाल करते ही हैं। लेकिन क्‍या आपको मालूम है कि फोन को सैनिटाइज करने का गलत तरीका आपकी परेशानी बढ़ा सकता है।

हो सकता है शॉर्ट सर्किट का खतरा

दरअसल, बाहर से आने के बाद फोन को सैनिटाइज करने के लिए कु छ लोग एंटी-बैक्टेरियल वेट-वाइप्स का इस्तेमाल करते हैं तो कुछ लोग अलग-अलग तरह के हैंड सैनेटाइजर भी इस्तेमाल करते हैं। गलत तरीके से सैनिटाइजर का इस्‍तेमाल फोन की स्क्रीन, हेडफोन जैक और स्पीकर को खराब कर सकता है। यहां तक कि इससे फोन में शॉर्ट सर्किट का खतरा भी हो सकता है।

इन दिनों मोबाइल शॉप रिपेयरिंग सेंटर्स पर ऐसे लोगों की भीड़ बढ़ रही है, जो अपना फोन ठीक कराने के लिए पहुंच रहे हैं। उनमें जो शिकायतें सामने आ रही हैं, उससे यही लग रहा है कि फोन को सैनिटाइज करते समय सावधानी नहीं बरती गई। दरअसल, इस क्रम में कई बार ऐसा होता है जब फोन में सैनिटाइजर चला जाता है और इससे फोन खराब हो जाता है।

चूंकि सैनिटाइजर में अल्‍कोहल होता है, ऐसे में फोन का रंग भी बदल सकता है। इतना ही नहीं इससे फोन के डिस्प्ले और कैमरा लेंस को नुकसान पहुंच सकता है और शॉर्ट सर्किट का खतरा पैदा हो सकता है। इसलिए यह जरूरी है कि फोन को साफ करते समय विशेष सावधानी बरती जाए।

फोन को कैसे करें सैनिटाइज?

फोन को सैनेटाइजर से साफ करते समय उसे ऑफ कर देना चाहिए। रूई या किसी सूती कपड़े में हल्‍का सा सैनेटाइजर लेकर फोन को साफ किया जा सकता है। बाजार में इसके लिए कई मेडिकेटेड वाइप्स भी हैं, जो आसानी से मेडिकल स्‍टोर पर उपलब्ध है। कुछ वाइप्‍स में 70 प्रतिशत तक एल्कोहल भी होता है। ये वाइप्स काफी हद तक सूखे होते हैं, जिसके कारण मोबाइल में सैनिटाइजर जाने का खतरा नहीं होता।

फोन की साफ-सफाई के लिए बैक्टीरियल टिश्यू पेपर का इस्‍तेमाल भी किया जा सकता है। इनकी मदद से फोन के हर कोने को अच्‍छी तरह साफ किया जा सकता है। इसके अतिरिक्‍त आप इस बारे में अपने फोन कंपनी के कस्टमर केयर से भी बात कर बेहतर जानकारी जुटा सकते हैं।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर