Social Distancing App: ये 5 सोशल डिस्टेंसिंग एप आपको कोरोना वायरस के खतरे से बचाने में करेंगे मदद, करें ट्राय

Social Distancing App: कोरोना वायरस का अब तक कोई अचूक इलाज सामने नहीं आया है ऐसे में इसका एक ही इलाज है सोशल डिस्टेंसिंग। आरोग्य सेतु के अलावा मार्केट में अन्य कई सारे एप हैं जिनके बारे में हम आपको बताएंगे- 

social distancing app
सोशल डिस्टेंसिंग एप (Source: Pixabay) 

मुख्य बातें

  • सोशल डिस्टेंसिंग मेंटेन करने के लिए आरोग्य सेतु के अलावा कई एप मार्केट में उपलब्ध हैं
  • सोशल डिस्टेंसिंग एप यूजर्स को कोरोना वायरस के खतरे से लड़ने में मदद करता है
  • कोरोना वायरस का अचूक इलाज अभी तक सामने नहीं आया है

कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या दिन ब दिन तेजी से बढ़ती जा रही है। अनलॉकिंग की प्रक्रिया शुरू करने के बाद मरीजों की संख्या में ऐसी तेजी आई कि एक बार फिर से राज्यों ने लॉकडाउन की अवधि बढ़ाने पर जोर देना शुरू कर दिया है। कुछ राज्यों ने अपने-अपने इलाको में लॉकडाउन फिर से लागू भी कर दिया है। केंद्र सरकार के द्वारा जारी दिशानिर्देशों को भी सख्ती से पालन करने पर जोर दिया जा रहा है। इनमें सोशल डिस्टेंसिंग सबसे सख्त है। 

कोरोना वायरस का अब तक कोई अचूक इलाज सामने नहीं आया है ऐसे में इसका एक ही इलाज है सोशल डिस्टेंसिंग। सोशल डिस्टेंसिंग आप जितना मेंटेन करते हैं उतना ही आप कोरोना वायरस के खतरे से अपने आप को बचा सकते हैं। इस कड़ी में कई सारे एप भी आपकी मदद करते हैं। सरकार ने भी हाल ही में आरोग्य सेतु नामक एक एप लॉन्च किया है जो लोगों की इस काम में मदद करता है। इसके अलावा मार्केट में अन्य कई सारे एप हैं जिनके बारे में हम आपको बताएंगे- 

आरोग्य सेतु

गृह मंत्रालय ने उन क्षेत्रों में इस एप को इंस्‍टॉल करना अनिवार्य कर दिया है, जहां कोरोना वायरस संक्रमण के अधिक मामले हैं। इसका इस्तेमाल संक्रमण के मामलों में संपर्क का पता लगाने और यूजर्स को चिकित्सीय सलाह देने में किया जा रहा है। कोरोना वायरस (COVID-19) के बारे में आम लोगों को जानकारी देने के लिए भारत सरकार ने आरोग्य सेतु (Aarogya Setu) ऐप लॉन्च किया है। यह किसी  भी व्यक्ति को खुद से वायरस के खतरे को पकड़ने में मदद करेगा। यह एक सुरक्षित मोबाइल एप्लिकेशन है जो लोगों को लेटेस्ट कोरोना वायरस अपडेट के बारे में सूचित रहने में मदद करता है या उनकी वर्तमान स्वास्थ्य-स्थिति का स्व-मूल्यांकन करने में उनकी सहायता करता है।

Sodar (गूगल का)

गूगल ने एंड्रॉयड के लिए सोशल डिस्टेंसिंग एप सोडर लॉन्च किया है। ये एप दो मीटर के दायरे को लेकर अपडेट देता है जिसका यूजर को पालन करना होता है। ये एप क्रोम पर WebXR का इस्तेमाल कर एक वर्चुअल सर्किल क्रिएट करता है।

1point5

युनाइटेड नेशंस टेक्नोलॉजी इनोवेशन लैब्स के द्वारा डिजाइन किया गया ये एप यूजर के नजदीकी करीब डेढ़ मीटर तक के डिवाइसेस को स्कैन करता है। अगर किसी ने गाइडलाइंस का उल्लंघन किया है तो ये एप अलर्ट करने के लिए डिवाइस वाइब्रेट करता है। गूगल प्ले स्टोर पर ये एप उपलब्ध है। ये एप किसी प्रकार का कोई पर्सनल इंफॉर्मेशन लीक नहीं करता है।

DROR

गुरुग्राम की एक कंपनी के द्वारा तैयार किया गया ये एप एंड्रॉयड और आईओएस दोनों पर उपलब्ध है। यह एक पर्सनल सेफ्टी असिस्टेंट प्लेटफॉर्म की तरह काम करता है। यूजर्स को रोजाना, सप्ताहिक और 15 दिनों के आधार पर सोशल डिस्टेंसिंग प्रैक्टिस की रिपोर्ट मिलती है। इसमें 24x7 इमरजेंसी हेल्पलाइन नंबर भी है इसके अलावा ट्रैक माई ट्रिप फीचर भी है। आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस की मदद से भी ये एप काम करता है।

WaitQ

ये एक्सपर्ट्स के द्वारा तैयार किया गया एप है। इस एप में सड़कों पर, पेट्रोल पंप, मॉल्स सैलून, पब्लिक ट्रांसपोर्ट पर आपको सोशल डिस्टेंसिंग प्रैक्टिस करने के लिए अलर्ट किया जाता है। किसी जगह पर कितनी भीड़ है उस जगह के बारे में आपको रियल टाइम अपडेट मिलती है। 


 

अगली खबर