राज्यसभा सांसद बनीं उड़नपरी पीटी ऊषा, राष्ट्रपति ने किया नामित, पीएम ने दी बधाई

PT Usha nominated to Rajya Sabha: पीएम नरेंद्र मोदी ने पीटी ऊषा को राज्यसभा सदस्य के रूप में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा नामित किए जाने पर बधाई दी है।

PM-Narendra-Modi-PT-USHA
पीएम नरेंद्र मोदी और पीटी ऊषा 
मुख्य बातें
  • पीटी ऊषा को राष्ट्रपित ने किया राज्यसभा के लिए नामित
  • सचिन तेंदुलकर बने थे राज्यसभा के लिए नामित होने वाले पहले खिलाड़ी
  • एमसी मेरीकॉम को भी राष्ट्रपति ने किया था राज्यसभा के लिए नॉमिनेट

नई दिल्ली: उड़नपरी के नाम से मशहूर भारत की सर्वकालिक महान महिला एथलीट पीटी ऊषा राज्यसभा सांसद बन गई हैं। 58 वर्षीय पीटी ऊषा को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राज्यसभा सदस्य के रूप में मनोनीत किया है। राज्यसभा में 12 सदस्यों को राष्ट्रपति मनोनीत कर सकते हैं। कला, साहित्य, ज्ञान, खेल और सामाजिक सेवाओं में विशिष्ट योगदान के लिए लोगों को राज्यसभा के लिए नामित किया जाता है।

पीएम मोदी ने दी राज्यसभा सांसद बनने पर बधाई
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूर्व ओलंपिक ट्रैक एंड फील्ड एथलीट पीटी उषा को राज्यसभा के लिए मनोनीत होने पर बधाई दी। पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा, पीटी ऊषा जी हर भारतीय के लिए एक प्रेरणा हैं। खेलों में उनकी उपलब्धियों को सभी जानते हैं और उसकी सराहना करते हैं। लेकिन पिछले कई वर्षों से वो देश के नवोदित एथलीटों का मार्गदर्शन कर रही हैं उनका यह काम उतना ही सराहनीय है। उन्हें राज्यसभा के लिए मनोनीत किए जाने पर बधाई। 

सचिन तेंदुलकर थे राज्यसभा के लिए मनोनीत होने वाले पहले खिलाड़ी
सचिन तेंदुलकर खेल के क्षेत्र से राज्यसभा के लिए नामित होने वाले पहले खिलाड़ी बने थे। सचिन तेंदुलकर के नामित होने से पहले खेल के क्षेत्र के लोगों को राज्यसभा में भेजे जाने का प्रावधान नहीं था लेकिन उनके बाद ओलंपिक पदक विजेता मुक्केबाज एमसी मेरीकॉम को भी राज्यसभा के लिए मनोनीत किया गया। 

संविधान देता है राष्ट्रपति को सदस्यों को नामित करने की शक्ति
भारतीय संविधान के अनुच्छेद  80 राज्यसभा के गठन का प्रावधान करता है। इसके मुताबित राज्यसभा के सदस्यों की अधिकतम संख्या 250 हो सकती है जो कि वर्तमान में 245 है। इनमें से 233 सदस्यों को विधानसभा सदस्यों द्वारा चुना जाता है। वहीं 12 सदस्यों राष्ट्रपति द्वारा निर्वाचित किया जाता है। राज्यसभा के लिए नामित सदस्य किसी राज्य का नहीं देश का प्रतिनिधित्व करते हैं। ये सदस्य राष्ट्रपति के चुनाव में वोट नहीं दे सकते। 

ओलंपिक पदक से गईं थीं चूक
मूल रूप से केरल से ताल्लुक रखने वाली पीटी ऊषा साल 1984 में लास एंजेल्स में आयोजित ओलंपिक खेलों में 400 मीटर बाधा दौड़ में कांस्य पदक जीतने से चूक गईं थी। साल 1986 में सियोल में आयोजित एशियाई खेलों में पीटी ऊषा ने चार स्वर्ण और एक रजत पदक के साथ कुल पांच पदक अपने नाम किए थे। चारों गोल्ड मेडल उन्होंने एशियाई रिकॉर्ड तोड़कर अपने नाम किए थे। 


 

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर