तीरंदाज दीपिका कुमारी और अतानु दास ने रांची में शादी की- देखिए PHOTOS

Deepika Kumari and Atanu Das tie knot: भारत के दिग्गज तीरंदाज दीपिका कुमारी और अतानु दास ने झारखंड की राजधानी रांची में मंगलवार को शादी कर ली।

Deepika Kumari Atanu Das get married in Ranchi
Deepika Kumari Atanu Das get married in Ranchi, रांची में दीपिका कुमारी और अतानु दास का विवाह  |  तस्वीर साभार: IANS

मुख्य बातें

  • भारतीय तीरंदाज दीपिका कुमारी और अतानु दास ने की शादी
  • रांची में परिवार के करीबी लोगों के बीच हुआ विवाह
  • कोरोना महामारी को देखते हुए सोशल डिस्टेंसिंग के सभी नियमों का हुआ पालन

नई दिल्लीः बेशक कोरोना वायरस महामारी के चलते पूरी दुनिया में खलबली मची हुई है और खेल जगत में भी सभी गतिविधियां लंबे समय तक ठप्प पड़ी रहीं। लेकिन अब धीरे-धीरे महामारी से लड़ते हुए सब कुछ पटरी पर लाने का प्रयास किया जा रहा है। फिर चाहे वो लोगों का कामकाज हो या फिर निजी जिंदगी। इसी कड़ी में रांची से भी खेल प्रेमियों के लिए एक अच्छी खबर आई जहां भारतीय तीरंदाज दीपिका कुमारी और अतानु दास ने शादी कर ली।

विदेश में कई खेल शुरू किए जा चुके हैं लेकिन भारत में कोविड-19 का प्रकोप अभी थमा नहीं है इसलिए खेल गतिविधियां अभी भी बंद हैं। इस दौरान अंतरराष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी ज्यादा से ज्यादा समय अपने परिवार के साथ बिता रहे हैं। तीरंदाज दीपिका कुमारी और अतानु दास ने भी इस समय का फायदा उठाया और मंगलवार को रांची में उनका विवाह हो गया। दीपिका कुमारी पूर्व विश्व नंबर.1 तीरंदाज होने के साथ-साथ कॉमनवेल्थ गेम्स में स्वर्ण पदक विजेता हैं जबकि उनके पति अतानु दास भी भारत की रिकर्व तीरंदाजी टीम के अहम सदस्य हैं। यही नहीं, दोनों ने 2013 में वर्ल्ड कप मिक्स टाइटल भी जीता था।

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन भी शामिल रहे

दीपिका और अतानु की शादी के दौरान कुछ ही खास नाम शामिल हुए थे। इनमें सबसे बड़ा नाम झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन का था जो समय निकालकर इस शादी में पहुंचे और जोड़ी को आशीर्वाद व शुभकामनाएं दीं। आर्चर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (AAI) के नए अध्यक्ष व झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा का दीपिका के करियर में अहम योगदान रहा है, वो भी वहां मौजूद रहे।

कोरोना नियमों का पूरा पालन

कोरोना महामारी को देखते हुए इस शादी में सरकार द्वारा जारी किए गए सभी नियमों का पालन किया गया। एक बार में सिर्फ 50 अतिथि वहां मौजूद रहे और सभी मेहमानों को आगमन के साथ ही हैंड सैनेटाइजर और मास्क दिए गए। मेहमानों को अलग-अलग टाइम स्लॉट के हिसाब से बुलाया गया था ताकि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराया जा सके और भीड़ की स्थिति ना बने। मेहमानों का पहला बैच शाम 7 बजे तक रवाना कर दिया गया जबकि दूसरा बैच उसके बाद आया और डेढ़ घंटे में वे भी रवाना हो गए।

अगली खबर