दुखद खबरः द्रोणाचार्य अवॉर्ड मिलने से एक दिन पहले पड़ा दिल का दौरा, नहीं रहे पुरुषोत्तम राय

Dronacharya Award, National Sports Day : खेल दिवस पर शनिवार को पूर्व भारतीय कोच पुरुषोत्तम राय को द्रोणाचार्य अवॉर्ड दिया जाना था लेकिन उनका शुक्रवार को देहांत हो गया।

Purushottam Rai
पुरुषोत्तम राय  |  तस्वीर साभार: Twitter

नई दिल्लीः सालों की मेहनत का सबसे बड़ा पुरस्कार मिलने से ठीक पहले ही पूर्व कोच दुनिया को अलविदा कह गए। भारत के पूर्व एथलेटिक्स कोच पुरुषोत्तम राय को शनिवार को राष्ट्रीय खेल दिवस पर किसी कोच को मिलने वाला सर्वोच्च पुरस्कार 'द्रोणाचार्य अवॉर्ड' मिलना था। इस बार उनके नाम का चयन हुआ था लेकिन शुक्रवार को 79 वर्ष के पुरुषोत्तम राय का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया।

कर्नाटक एथलेटिक्स एसोसिएशन ने उनके निधन पर उनको याद करते हुए प्रेस विज्ञप्ति में लिखा, 'श्री राय 1980-90 के बीच एक समर्पित कोच थे। उन्होंने श्री कांतिरवा स्टेडियम में कई राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय एथलीटों को ट्रेनिंग दी थी। वो कर्नाटक में इस अवॉर्ड को हासिल करने वाले तीसरे कोच थे। इससे पहले स्वर्गीय एन.लिनगप्पा और पिछले साल वीआर बीडू को अवॉर्ड मिला था। उनके परिवार के साथ हमारी संवेदनाएं हैं, उनको इस दुख की घड़ी में भगवान शक्ति दे।'

गुरुवार को पूर्व कोच पुरुषोत्तम राय उस अभ्यास सत्र का भी हिस्सा बने थे जो कि अवॉर्ड सेरेमनी से पहले होता है। उन्हें ये पुरस्कार राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिलना था। इस बार कोविड-19 की वजह से पुरस्कार समारोह राष्ट्रपति भवन में नहीं बल्कि एक ऑनलाइन कॉन्फ्रेंस समारोह के रूप में होगा। अब उनका ये सम्मान उनके परिवार को सौंपा जाएगा।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर