Rama Ekadashi 2020: दीपावली से तीन द‍िन पहले है रमा एकादशी का व्रत, मां लक्ष्‍मी को जरूर लगाएं तुलसी जी का भोग

Rama ekadashi : दीपावली से 3 दिन पहले रमा एकादशी का व्रत 11 नवंबर 2020 को पड़ रहा है। इस दिन विधिवत तरीके से माता लक्ष्मी की पूजा करने पर आपको पूरे साल धन की कोई कमी नहीं होगी।

Rama ekadashi 2020 date vrat puja vidhi tulsi bhog to maa laxmi
Rama Ekadashi 2020 

मुख्य बातें

  • दीपावली से तीन दिन पहले आती है रमा एकादशी
  • इस द‍िन श्री व‍िष्‍णु और लक्ष्‍मी पूजन साथ करना चाह‍िए
  • मां लक्ष्‍मी को तुलसी का भोग पूजन में जरूर लगाएं

साल के नवंबर महीने में कई त्योहार एक साथ पड़ते हैं। करवा चौथ, दीपावली, छठ जैसे मुख्य त्योहारों के बीच एक त्योहार और पड़ता है वह है रमा एकादशी का व्रत। शास्त्रों के अनुसार, इस खास दिन पर माता लक्ष्मी की विधिवत तरीके से जो भी भक्त पूजा-अर्चना करता है उसे जीवन में कभी भी आर्थिक समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ता है।

कब पड़ता है यह व्रत (Rama Ekadashi 2020 Date)
यह व्रत हर साल कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की एकादशी को मनाया जाता है। इस साल यह व्रत दीपावली से ठीक 3 दिन पहले 11 नवंबर दिन बुधवार को पड़ रहा है।

भगवान विष्णु के साथ करनी चाहिए पूजा (Rama Ekadashi Vishnu Laxmi Pujan)
रमा एकादशी को माता लक्ष्मी के साथ भगवान विष्णु की पूजा भी की जाती है। माना जाता है ऐसा करने आपकी जीवन की सभी समस्याएं दूर हो जाती हैं। इस खास दिन पर माता लक्ष्मी और भगवान विष्णु की पूजा एक साथ करना ही शुभ माना जाता है।

रमा एकादशी व्रत नाम क्यों पड़ा (Rama Ekadashi Mahatva)
इस सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु की धर्मपत्नी देवी लक्ष्मी का एक नाम रमा भी है। इसीलिए, इस एकादशी को उनके नाम रमा एकादशी के नाम से जाना जाता है। ऐसा माना जाता है कि भगवान विष्णु देवी लक्ष्मी का यह नाम बहुत ही अधिक प्रिय है। देवी लक्ष्मी धन संपदा की देवी कही जाती हैं। इसलिए इस दिन देवी लक्ष्मी की विशेष पूजा करने वाले को आजीवन सुख और समृद्धि की प्राप्ति होती है।

रमा एकादशी व्रत की पूरी विधि (Rama Ekadashi Vrat Vidhi)
इस खास दिन पर सुबह-सवेरे उठकर नहा धोकर नित्य क्रियाओं से निवृत्त होकर पूजा घर में जाएं। वहां जाकर माता लक्ष्मी को धूप, अगरबत्ती दिखा कर, सुंदर लाल, पीले फूल चढ़ाकर उनकी विधिवत तरीके से पूजा-अर्चना करें। फिर माता लक्ष्मी को फलों और तुलसी के पत्तों का भोग लगाएं। इस दिन माता लक्ष्मी को तुलसी के पत्ते जरूर चढ़ाने चाहिए, यह शुभ माना जाता है। उसके बाद व्रत की पूरी कथा पढ़े।

घर में सुंदरकांड, भजन व गीता का पाठ करा सकते हैं (Rama Ekadashi Puja)
इस शुभ दिन पर आप अपने घर में सुंदरकांड का पाठ करा सकते हैं या फिर भजन संध्या का आयोजन कर सकते हैं या फिर गीता का पाठ करा सकते हैं। इससे आपके घर से सभी नकारात्मक शक्तियां दूर चली जाएंगी और आपके घर में हर तरफ खुशहाली छा जाएगी।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर