Dussehra 2021 Date: व‍िजयदशमी 2021 में कब है, देखें क‍िस तारीख को मनाया जाएगा दशहरे का त्‍योहार

Dussehra 2021 Date, Vijayadashmi 2021 Date: सनातन धर्म में विजय दशमी पर्व का बहुत महत्व है। इस दिन मां दुर्गा तथा भगवान राम की पूजा-अर्चना करना लाभदायक माना गया है।

Dussehra 2021, dussehra 2021 date, dussehra 2021 date in india calendar, dussehra 2021 october date
नोट करें वर्ष 2021 में विजय दशमी की तिथि और जानें महत्व (Pic: Istock) 

मुख्य बातें

  • आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि पर पुरुषोत्तम राम ने रावण का वध किया था, इसके साथ मां दुर्गा द्वारा महिषासुर का संहार हुआ था।
  • सनातन धर्म में इस तिथि को बेहद शुभ माना गया है और इस दिन मां दुर्गा तथा भगवान राम की पूजा की जाती है।
  • दशहरा तिथि बुराई पर अच्छाई का प्रतीक मानी गई है, इस दिन रावण का पुतला जलाया जाता है और अच्छाई की जीत की खुशियां मनाई जाती हैं।

Dussehra 2021 Date Date: हिंदू पंचांग के अनुसार, वर्ष 2021 में दशहरा या विजय दशमी का पर्व 15 अक्टूबर के दिन पड़ रहा है। जानकार बताते हैं कि यह पर्व हर वर्ष आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि पर मनाया जाता है। धार्मिक कथाओं के मुताबिक, इस दिन भगवान राम ने अत्याचारी रावण का वध किया था। इसके साथ मां दुर्गा ने महिषासुर का अंत करके बुराई पर अच्छाई के जीत का परचम लहराया था। भक्त इस दिन  मां दुर्गा तथा भगवान श्री राम की पूजा-आराधना करते हैं। माना गया है इस दिन मां दुर्गा तथा भगवान श्री राम की पूजा-आराधना करने से जीवन में सकारात्मकता आती है। इस दिन रावण का पुतला जलाने का विधान है। ऐसा करके भक्त अपने अवगुणों को जीवन से बाहर करते हैं। 

Vijayadashmi 2021 Date and time, सन 2021 में दशहरा कब है

विजय दशमी तिथि: - 15 अक्टूबर 2021, शुक्रवार 

दशमी तिथि प्रारंभ: - 14 अक्टूबर शाम 06:52

दशमी तिथि समापन: - 15 अक्टूबर 2021 शाम 06:02

श्रवण नक्षत्र प्रारंभ: - 14 अक्टूबर 2021 सुबह 09:36

श्रवण नक्षत्र समाप्त: - 15 अक्टूबर 2021 सुबह 09:16

विजय दशमी का महत्व, VijayDashmi Mahatva in hindi 

विजय दशमी का त्योहार बुराई पर अच्छाई के जीत की खुशी में मनाया जाता है। इस दिन मां दुर्गा तथा भगवान राम की पूजा करना से भक्तों की परिशानियां दूर होती हैं। इस दिन किसान नई फसलों का जश्न मनाते हैं। वहीं प्राचीन कथाओं के अनुसार, इस दिन योद्धा अपने हथियारों की पूजा करते थे। ऐसा करके वह अपनी जीत का जश्न मनाते थे। 

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर