Dev Deepawali 2021: देव दीपावली कब है? यहां जानिए देव दिवाली की तिथि, मुहूर्त और महत्व

Dev Diwali 2021 date and puja Muhurat time 2021: देव दीपावली कार्तिक पूर्णिमा तिथि को देवताओं द्वारा मनाया जाने वाला त्योहार माना जाता है। 2021 में देव दिवाली कब है, पूजा शुभ मुहूर्त और इसका महत्व जानने के लिए आगे पढ़ें।

Dev Deepawali 2021 Date and Muhurat Time
देव दीपावली की तिथि और मुहूर्त का समय 
मुख्य बातें
  • देवताओं ने मनाया था त्रिपुरासुर के विनाश का जश्न।
  • कार्तिक पूर्णिमा तिथि के समय होता है देव दिवाली का उत्सव।
  • देव दीपावली 2021 की तिथि, मुहूर्त और महत्व

Dev Deepawali 2021: देव दीपावली का त्योहार हर साल कार्तिक पूर्णिमा के साथ होता है। उत्सव कार्तिक शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि से शुरू होता है और पांचवें दिन, यानी कार्तिक पूर्णिमा तिथि (पूर्णिमा की रात) पर समाप्त होता है। इसे देव दीपावली के रूप में जाना जाता है, क्योंकि इस दिन देवताओं ने दीपावली मनाई और असुर भाइयों पर भगवान शिव की विजय का जश्न मनाया, जिन्हें सामूहिक रूप से त्रिपुरासुर के रूप में जाना जाता है। कब है देव दीपावली 2021 की तारीख, पूजा शुभ मुहूर्त और महत्व जानने के लिए नीचे स्क्रॉल करें।

देव दीपावली 2021 तिथि (Dev Deepawali Purnima Tithi)

इस साल देव दीपावली 18 नवंबर को मनाई जाएगी। पूर्णिमा तिथि 18 नवंबर को दोपहर 12:00 बजे शुरू होती है और 19 नवंबर को दोपहर 2:26 बजे समाप्त हो रही है।

देव दीपावली 2021 पूजा शुभ मुहूर्त (Dev Deepawali Significance)

देव दीपावली पूजा प्रदोष काल के दौरान की जाती है। पूजा का मुहूर्त शाम 5:09 बजे से शाम 7:47 बजे तक है।

देव दीपावली का महत्व / पौराणिक कथा (Dev Deepawali 2021 Significance)

तारकासुर नाम का एक राक्षस रहता था जिसके तीन पुत्र थे - तारकक्ष, विद्युन्माली और कमलाक्ष। तीनों ने गहन तपस्या करके भगवान ब्रह्मा का आशीर्वाद मांगा था। इसलिए, उनकी भक्ति से प्रसन्न होकर, जैसे ही भगवान ब्रह्मा उनके सामने प्रकट हुए, तीनों ने अमरता का वरदान मांगा। लेकिन चूंकि आशीर्वाद ब्रह्मांड के नियमों के खिलाफ था, इसलिए ब्रह्मा ने इसे देने से इनकार कर दिया।

इसके बजाय, उन्हें एक वरदान दिया जिसमें यह आश्वासन दिया कि जब तक कोई उन तीनों को एक तीर से नहीं मारेगा, तब तक उनका अंत नहीं होगा। ब्रह्मा द्वारा आशीर्वाद प्राप्त करने के तुरंत बाद, तीनों ने तीनों लोकों में बड़े पैमाने पर विनाश किया और मानव सभ्यता के लिए भी खतरा साबित हुए।

इसलिए, भगवान शिव ने त्रिपुरारी या त्रिपुरांतक का अवतार लिया और एक ही तीर से तीनों राक्षसों को मार डाला। इस प्रकार, त्रिपुरासुर को नष्ट करके भगवान शिव ने शांति स्थापना की।

यह त्योहार पवित्र शहर वाराणसी और अयोध्या में बड़े पैमाने पर मनाया जाता है। इस दिन, भक्त गंगा के पवित्र जल में डुबकी लगाते हैं और फिर शाम के समय घाटों व अपने घरों में तेल के दीपक (दीपदान) जलाते हैं। इस प्रकार, वे भगवान शिव को श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं, जिन्हें प्राचीन शहर काशी में विश्वनाथ कहा जाता है।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर