Budh Purnima Date 2021: बुद्ध पूर्णिमा कब है? हिंदुओं के लिए भी महत्वपूर्ण है वैसाख मास का यह दिन

बौद्ध धर्म के लोगों के साथ हिंदू धर्मावलंबियों के लिए भी बुद्ध पूर्णिमा बेहद खास पर्व है। कहा जाता है कि इस दिन गौतम बुध का जन्म हुआ था। हिंदू मान्यता अनुसार, गौतम बुध भगवान विष्णु के नौवें अवतार थे।

Buddha Purnima 2021 Date and Muhurat
बुद्ध पूर्णिमा 2021  |  तस्वीर साभार: Getty Images

मुख्य बातें

  • बौद्ध धर्म के लोगों के लिए महत्वपूर्ण है बुद्ध पूर्णिमा का पर्व, जिसे वैशाख पूर्णिमा भी कहते हैं।
  • बुद्ध पूर्णिमा यानी वैशाख पूर्णिमा पर हुआ था गौतम बुद्ध का जन्म, इसी दिन हुई ज्ञान प्राप्ति।
  • मान्यता अनुसार, भगवान विष्णु के नौवें अवतार माने जाते हैं गौतम बुद्ध।

बौद्ध धर्म के अनुयायियों के लिए बुद्ध पूर्णिमा का पर्व बहुत महत्व रखता है। यह पर्व उनके प्रमुख त्योहारों में से एक है। हिंदू पंचांग के मुताबिक, हर वर्ष बुद्ध पूर्णिमा वैशाख के महीने में मनाई जाती है। यही कारण है कि कई लोग बुद्ध पूर्णिमा को वैशाख पूर्णिमा भी कहते हैं। मान्यताओं के अनुसार, बुद्ध पूर्णिमा के दिन गौतम बुद्ध ने जन्म लिया था। सिर्फ इसी वजह से ही नहीं बल्कि बुद्ध पूर्णिमा कई और कारणों की वजह से भी अनुकूल तिथि मानी गई है। जिसमें यह भी कहा जाता है कि बुध पुर्णिमा पर ही गौतम बुद्ध को ज्ञान प्राप्ति हुई थी।

आप लोग यह बात जानकर हैरान रह जाएंगे की गौतम बुध के महानिर्वाण के वजह से भी यह दिन इतिहास और आस्था के हिसाब से बहुत महत्वपूर्ण मानी जाती है। सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में बौद्ध धर्म के अनुयायी श्रद्धा-पूर्वक बुद्ध पूर्णिमा को मनाते हैं। 

यहां जानें, इस वर्ष कब है बुद्ध पुर्णिमा।

बुध पूर्णिमा तिथि और मुहूर्त
बुद्ध पूर्णिमा तिथि- 26 मई 2021, बुधवार
पूर्णिमा तिथि प्रारंभ- 25 मई 2021 (रात 8:20 से लेकर)
पूर्णिमा तिथि समाप्त- 26 मई 2021 (शाम 04:40 तक)

हिंदू धर्मावलंबियों के लिए बुद्ध पूर्णिमा क्यों है खास?
बुद्ध पूर्णिमा सिर्फ बौद्ध धर्म में आस्था रखने वालों के लिए ही नहीं बल्कि हिंदू धर्मावलंबियों के लिए भी बहुत मायने रखती है। मान्यताओं के अनुसार, ऐसा कहा जाता है कि गौतम बुद्ध भगवान विष्णु के नौवें अवतार हैं। इसीलिए सनातन धर्म के लोगों के लिए भी बुद्ध पूर्णिमा बहुत पवित्र और अनुकूल मानी जाती है।

क्या होता है इस दिन?
बुद्ध पूर्णिमा बहुत पवित्र त्योहार मानी जाती है, इस दिन लोग तरह-तरह के समारोह को आयोजित करते हैं। बौद्ध घरों में बुद्ध पुर्णिमा पर दीए जलाए जाते हैं और फूलों से घर को सुसज्जित किया जाता है। इस दिन धार्मिक कार्य करने से विशेष लाभ मिलता है। कई लोग इस दिन दान-पुण्य जैसे कार्यों में लीन रहते हैं।

मान्यताओं के अनुसार, बुद्ध पूर्णिमा पर पितरों का तर्पण किया जाता है। कहा जाता है कि पितरों का तर्पण करने से और मिठाई, सत्तू, कपड़े और जलपान जैसी चीजों का दान करने से पुण्य की प्राप्ति होती है।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर