हरियाली तीज पर 18 करोड़ के स्वर्ण रजत हिंडोले में विराजेंगे ठाकुर बांकेबिहारी

हरियाली तीज पर्व के अवसर पर 31 जुलाई को हरियाली तीज पर ठाकुर श्रीबांकेबिहारी विश्व में एकलौते स्वर्ण-रजत हिंडोले में विराजमान होकर भक्तों को दर्शन देंगे।

स्वर्ण रजत हिंडोले में विराजेंगे ठाकुर बांकेबिहारी
स्वर्ण रजत हिंडोले में विराजेंगे ठाकुर बांकेबिहारी 

हरियाली तीज पर्व के अवसर पर 31 जुलाई को हरियाली तीज पर ठाकुर श्रीबांकेबिहारी विश्व में एकलौते स्वर्ण-रजत हिंडोले में विराजमान होकर भक्तों को दर्शन देंगे। शाम 5 से रात 11 बजे तक ठाकुर बांकेबिहारी महाराज स्वर्ण रजत निर्मित हिंडोले में विराजमान होकर श्रद्धालुओं को दर्शन देंगे। बांकेबिहारी महाराज अपने अनूठे और दिव्य इस हिंडोले में पूरे ठाठ-बाट के साथ विराजते हैं और इसी के साथ ही वृंदावन के मंदिरों, मठों और आश्रमों में हिंडोला उत्सव का विधिवत शुभारंभ हो जाता है। यह महोत्सव रक्षाबंधन तक झूलनोत्सव के रूप में मनाया जाएगा।

श्रीबांकेबिहारी मंदिर के पुजारी नितिन सांवरिया गोस्वामी ने बताया कि 18 करोड़ के इस हिंडोले में 2200 तोला सोना और एक लाख तोला चांदी लगी है जिसकी 30 फुट ऊचांई है और 7 फुट चौड़ाई है। हिंडोला के निर्माण में 70 वर्ष पूर्व ₹30 लाख रुपये की लागत आई थी। नेपाल के टनकपुर से हिंडोले के लिए लकड़ी लाई गई थी। 15-8-1947 को पहली बार हिंडोले में बांकेबिहारी ने दर्शन दिए थे। बांकेबिहारी के दर्शन हेतु मंदिर में गेट 2 एवं 3 से प्रवेश होगा और गेट 1 एवं 4 से निकास होगा। 

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर