Vastu Shastra Tips: घर पर भूलकर भी न रखें भगवान की खंडित मूर्तियां, हो सकता है भारी नुकसान

Vastu Tips: वास्तु शास्त्र में ऐसी कई बातों का उल्लेख किया गया है, जिनका पालन करने से हमारी जिंदगी खुशहाल हो सकती है। वहीं वास्तु शास्त्र में कुछ ऐसी भी बातें लिखी हैं जिन पर विशेष ध्यान देना जरूरी है।

Temple
Temple 
मुख्य बातें
  • घर का निर्माण करवाते समय वास्तु शास्त्र का विशेष ध्यान रखना चाहिए
  • वास्तु शास्त्र को कभी भी अनदेखा नहीं करना चाहिए इससे घर में कई विपत्तियां सकती हैं।
  • अपने घर में पूजा घर हमेशा ईशान कोण में बनवाइए और शंखनाद की स्थापना कीजिए।

नई दिल्ली. किसी भी चीज का निर्माण करवाते समय हमें वास्तु शास्त्र पर विशेष ध्यान देना चाहिए। ऐसा कहा जाता है कि जो घर वास्तु शास्त्र के अनुसार निर्मित होता है उस घर में सुख और समृद्धि हमेशा बनी रहती है। 

वास्तु शास्त्र के ज्ञानी यह बताते हैं कि कुछ बातों को अनदेखा या अनसुना कर देने से घर में परेशानियां आ सकती हैं।  परिवार के सदस्यों को कई तकलीफों का सामना करना पड़ सकता है।

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर के ईशान कोण में पूजा घर बनवाना बहुत शुभ माना जाता है। कहा जाता है कि उत्तर पूर्वी दिशा बहुत पवित्र होती है और इस दिशा में पूजा घर होने से भगवान प्रसन्न रहते हैं। 

पूजा घर में रखें शंख
वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में शंखनाद रखने से सारी नकारात्मक शक्तियां दूर हो जाती हैं और माता लक्ष्मी वास करती हैं। अगर आपके घर में वास्तु दोष है तो शंख रखने से इनसे मुक्ति मिलती है। वास्तु शास्त्र के अनुसार शंख को जमीन पर रखना वर्जित माना गया है।

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में अगर भगवान की खंडित मूर्तियां या तस्वीरें रखी हैं तो यह अशुभ है। इनको घर में रखने से भारी नुकसान का सामना करना पड़ सकता है। 

इस तरह से रखें शिवलिंग 
अगर आपके पूजा घर में शिवलिंग है तो उसे किसी रेशमी कपड़े के ऊपर रखें। घर में शिवलिंग को हमेशा रेशमी कपड़े के ऊपर रखना चाहिए इससे आर्थिक तंगी दूर होती है। 

वास्तु शास्त्र के मुताबिक, अगर आपके घर में शिवलिंग है तो उसके साथ शिव परिवार की मूर्तियां भी रखिए। इसके साथ पूजा घर में कभी पूर्वजों की तस्वीर ना रखें। 

पूर्व दिशा की तरफ मुंह करके कीजिए पूजा
वास्तु शास्त्र के अनुसार यह कहा गया है कि भगवान की पूजा करते समय चेहरा पूर्व दिशा की ओर होना चाहिए। अगर पूर्व दिशा की तरफ पूजा नहीं हो सकता है तो पश्चिम दिशा की ओर मुंह करके भगवान की पूजा कीजिए।

वास्तु शास्त्र के अनुसार यह कहा गया है कि पूजा घर की दीवार पीले, हरे या हल्के गुलाबी रंग की होनी चाहिए। इसके साथ पूजा घर के मंदिर की दीवार एक रंग की होनी चाहिए। 

थाली में रखें कलश 
लोग अक्सर पूजा करते समय कलश को जमीन पर रख देते हैं। वास्तु शास्त्र के हिसाब से कलश को कभी भी जमीन पर नहीं रखना चाहिए इससे वास्तु दोष होते हैं। पूजा करते समय कलश को हमेशा थाली पर रखें। 

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर