कन्‍या राशि के जातक मानें लाल किताब की ये सलाह, भाग्‍य चमकते नहीं लगेगी देर 

उपाय-टोटके
Updated Jul 18, 2019 | 20:44 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

अगर आप कन्या राशि के हैं तो अपने भाग्य को तेज करने के साथ लाल किताब से अपने मित्र ग्रह, शुभ और अशुभ संकेतों को पहचाने का तरीका जानें।

Lal kitab upay For virgo or kanya rashi
Lal kitab upay  |  तस्वीर साभार: Representative Image
मुख्य बातें
  • कन्या राशि के लिए बाधक ग्रह मंगल है और बाधक राशि वृश्चिक
  • अगर आपकी राशि में बुध नीचे है तो आपको बुरे संकेत मिलेंगे
  • बुधवार को कोई नमकीन चीज न खाएं

नई दिल्ली। Lal kitab ke upay: आपको यह पता होता है कि आप किस राशि के हैं लेकिन ये पता नहीं होता कि आपकी राशि किस तत्व प्रधान की है और उसका राशि स्वामी कौन है। यह जानना जरूरी है क्योंकि आप राशि के प्रधान तत्व और राशि स्वामी को जब जानेंगे तो आप उस राशि को बलवान बनाने का प्रयास करेंगे। ऐसा कर के आप अपने भाग्य को चमकाएंगे। इतना ही नहीं आपको यह भी जानना चाहिए कि आपका कारक ग्रह कौन सा है, कौन सा ग्रह मित्र और कौन शत्रु है। 

साथ ही आपके जीवन की घटनाएं या व्यक्तित्व के संकेत भी शुभ और अशुभ चीजों की जानकारी देते हैं। तो आइए लाल किताब से जानें कि कन्या राशि के लिए क्या शुभ है और किससे सावधान रहना चाहिए।

बाधक राशि वृश्चिक और बाधक ग्रह है मंगल
कन्या राशि के लिए बाधक ग्रह मंगल है और बाधक राशि वृश्चिक। बुध इस राशि के ग्रह स्वामी हैं और कारक ग्रह के रूप में शुक्र हैं। ये अर्थ तत्व प्रधान राशि है। कन्या राशि छठवें भाव में होती है और बुध ग्रह का अपना घर छठवां और सातवां होता है। लेकिन अगर बुध नीच का हो कुंडली में तो ये कन्या राशि के लिए बेहद चिंताजनक होता है। ऐसे में बुध को बेहतर बनाने के लिए विशेष उपाय करने होते हैं। अगर आपकी राशि में बुध नीच का है तो आपको कुछ ऐसे संकेत मिलेंगे।

बुध के अशुभता की निशानी ऐसे दिखेगी
अगर बुध खराब या नीच का होगा तो कन्या राशि के जातक को चेचक, दिमाग से जुड़े रोग, नाड़ी संबंधित परेशानी, दांत की समस्या या मुख रोग होने की संभावना बहुत होगी। ऐसा व्यक्ति बार-बार इन रोगों की चपेट में आता रहेगा।

  • ऐसे जातक कभी न तो किसी एक नौकरी या बिजनेस में टिक पाते हैं और न ही इनमें स्थितरता होती है।
  • ऐसे जातको का संबंध स्त्री पक्ष से सही नहीं रहता खास कर इनका कभी भी अपनी बहन, बुआ, मौसी से पटरी नहीं खाती।
  • अगर हो बुध नीच का तो क्या करें
  • ऐसे जातक जिनका बुध कमजोर या नीच का हो वे बुधवार को नमक का त्याग कर दें।
  • ऐसे जातक अपनी बहन को कभी भी दुख न दें या दुखी बहन को खुश करने का प्रयास करें।
  • ऐसे जातक कभी भी अपने वादे से न मुकरें और अपने किए वादे को कभी भी न तोड़ें।
  • ऐसे जातक कभी घर में तोता न पालें। ऐसा करने से आपका बुध और नीच होगा।
  • कभी किसी को दिखावा करने के लिए कोई झूठ, कपट या अन्याय का सहारा न लें।

इन अचूक उपायों से करें अपना भला

  • जब भी बारिश हो आप एक हरे बॉटल में इसका पानी भर कर घर में रख लें। पुराने पानी को किसी पेड़ में डाल दें।
  • हरी साबूत मूंग को लेकर उसे किसी भी नदी या बहते जल में प्रवाहित करें।
  • बुधवार के दिन दुर्गा मां की पूजा करें और भगवान गणपति को दूब चढ़ाएं।
  • बुधवार का व्रत रखने का प्रयास करें और इस दिन गाय को हरा चारा और सुहागिनों को लाल चूड़ी दें।

ये कुछ प्रयास हैं जो कन्या राशि के जातक कर सकते हैं और अपने बुध ग्रह के बुरे प्रकोप से बच सकते हैं।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर