Kalimath Temple: यहां पर आज भी हैं मां काली के पैरों के निशान, दैत्यों के विनाश के लिए लिया था जन्म

Kalimath Temple Uttarakhand: स्कन्द पुराण के केदारखंड के 62वें अध्याय में मां काली के कालीमठ मंदिर का जिक्र है। यहां पर आज भी मां काली के पैरों के निशान मौजूद है।

Kalimath Temple
Kalimath Temple 

मुख्य बातें

  • उत्तराखंड में स्थित कालीमठ मंदिर एक सिद्धपीठ है।
  • मंदिर का जिक्र स्कंद पुराण में भी किया गया है।
  • मंदिर से आठ किलोमीटर की ऊंचाई पर एक दिव्य शिला है।

नई दिल्ली. हिंदू धर्म की पौराणिक मान्यताओं और कथाओं के अनुसार देवी-देवताओं का वास पहाड़ों में होता है। इसी कारण पहाड़ी राज्य उत्तराखंड को देवभूमि भी कहा जाता है। यहां पर कई मंदिर है जिसके रहस्य आज तक कोई सुलझा नहीं सका है। ऐसा ही एक है रुद्रप्रयाग में सिद्धपीठ कालीमठ मंदिर। 

स्कन्द पुराण के केदारखंड के 62वें अध्याय में मां काली के कालीमठ मंदिर का जिक्र है। इस मंदिर से आठ किलोमीटर की ऊंचाई पर एक दिव्य शिला है। इस शीला को कालीशिला के नाम से जाना जाता है। 

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार दानव शुंभ और निशुंभ और रक्तबीज का वध करने के लिए मां काली ने इस स्थान पर 12 साल की बालिका के रूप में जन्म लिया था।

नवरात्र स्पेशल: देवभूमि का जागृत सिद्धपीठ, जहां मां काली देती हैं साधकों को  शक्ति का वरदान (Kalimath Temple Rudraprayag)

आज भी है पैरों के निशान 
कालीशिला में आज भी मां काली के पैरों के निशान मौजूद है। कालीशिला में देवी-देवता के 64 यंत्र हैं। कहते हैं इन्हीं यंत्रों से मां दुर्गा को दैत्यों का संहार करने की शक्ति मिली थी। 

कालीमठ मंदिर में कोई मूर्ति नहीं है। इसके अंदर स्थित एक कुंड है, जिसकी पूजा की जाती है। कुंड को साल में एक दिन शारदीय नवरात्रि की अष्टमी के मौके पर खोला जाता है। 

Kalimath Temple: A Quick and Easy Travel Guide

ऐसी होती है पूजा 
कालीमठ मंदिर में पूजा भी विशेष रूप से होती है। अष्टमी की आधी रात की पूजा के दौरान इस जगह केवल मंदिर के ही पुजारी मौजूद रहते हैं। महाकाली के अलावा यहां महासरस्वती, महालक्ष्मी और महाकाली के मंदिर है। 

Kalimath Temples, Kalimath - Temples in Rudraprayag - Justdial

तीनों देवियों की पूजा दुर्गासप्तशति के वैकृति रहस्य में बताए गए विधान से होती है। इसके बाद साल के बाकी के दिनों में इसे रजतपट श्री यंत्र से ढका जाता है। 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर