जोधपुर के इस मंदिर में प्रेमियों को मिलाते हैं गजानन, माथा टेकने से विवाह में आ रही है बाधा भी होती है दूर 

धार्मिक स्‍थल
Updated Sep 11, 2019 | 09:03 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

राजस्थान में एक ऐसा मंदिर हैं जहां लोग अपनी जोड़ियां बनाने या प्रेमी का साथ पाने की चाह में बप्पा के आगे शीष झुकाते हैं। मान्यता हैं यहां आने वाले प्रेमियों की मुराद जरूर पूरी होती है।

Ishkiya gajanan temple
Ishkiya gajanan temple  |  तस्वीर साभार: Representative Image

नई दिल्‍ली: Ishkiya Ganesh Ji Temple : राजस्थान के जोधपुर में स्थित इश्किया गजानन का मंदिर, प्रेमियों के लिए वरदान से कम नहीं। ये मंदिर प्रेम करने वालों के लिए ही है, हालांकि यहां सभी आते हैं। प्रेमियों को अपने साथी का साथ चाहिए होता है इसलिए वे यहां भगवान के आगे शीश झुकाने और मनोकामना की पूर्ति के लिए आते हैं, जबकि विवाहित जोड़े अपनी जोड़ी को बनाए रखने के लिए यहां आकर गणपति जी का आर्शीवाद लेते हैं।

 

इश्किलया गजानन मंदिर में हर दिन भीड़ रहती हैं, लेकिन गणेश चतुर्थी से दस दिनों तक यहां मेला सा लगा रहता है। मान्यता है कि यहां आकर बप्पा के चरणों में शीष झुका कर मांगी गई मुराद जरूर पूरी होती हैं और कोई खाली हाथ नहीं लौटता। इश्किया गजानन का मंदिर राजस्थान के जोधपुर में स्थित है।

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

A post shared by Design Indian kitchen (@designindiankitchen) on

जल्दी विवाह भी होता है तय
इश्किया गजानन मंदिर में उन लोगों कि मुरादें भी पूरी होती हैं जिनके विवाह में बाधा आ रही हो या रिश्ते जल्दी नहीं जुड़ पाते। यहां बुधवार को आकर बप्पा को लाल सिंदूर और दूर्वा चढ़ाने से विवाह भी जल्दी तय हो जाता है। इतना ही नहीं यदि प्रेम विवाह करने वाले जोड़े साथ आकर पूजा करें तो बप्पा उनकी जोड़ी जरूर बना देते हैं। मंदिर में केवल प्रेमी जोड़े ही नहीं आते बल्कि वे लोग भी आते हैं जिनके वैवाहिक जीवन में अड़चन या परेशानी हो।

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

A post shared by Mr. Yogesh Bapu Kolhe (@bhatkanti_mulga) on

गुरु गणपति के नाम से जाना जाता था ये मंदिर
पहले इश्किया गजानन का यह मंदिर गुरु गणपति के नाम से प्रसिद्ध था लेकिन इस मंदिर में हमेशा से प्रेमी जोड़े ही आते थे और यहां आकर मंदिर परिसर में बैठते थे। मंदिर के जाने का रास्ता एक निजी घर से हो कर जाता है और वह गली बेहद संकरी है। ऐसे में प्रेमियों के लिए यह जगह काफी सुरक्षित भी थी और प्रभु के चरणों में बैठकर प्रेमी सच्चे मन से अपना साथी पाने की आस भी रखते थे। इसके बाद से ही इस मंदिर का नाम इश्किया गजानन पड़ गया। बुधवार के दिन यहां सबसे ज्यादा भीड़ होती है। मान्यता है कि प्रेमी युगल को साथ पूजा करने से जल्दी ही उनकी मुराद पूरी हो जाती है।

अगली खबर
loadingLoading...
loadingLoading...
loadingLoading...