LIVE BLOG
More UpdatesMore Updates

Dussehra 2021, Mantra, Puja Vidhi, Upay, Shubh Muhurat: दशहरा पर देश भर में रावण दहन, लोगों ने कोरोना के भी जलाए पुतले

Dussehra 2021, Upay, Shubh Muhurat, Mantra, Puja Vidhi: आज पूरे भारत में दशहरा का पवित्र पर्व मनाया जा रहा है। दशहरा या विजयदशमी पर सूर्य देव को अर्घ्य अर्पित करना लाभदायक माना गया है। इस दिन विधिपूर्वक सूर्य देव को अर्घ्य अर्पित करने से शत्रु परास्त होते हैं।
Dusshera 2021 Puja Vidhi
तस्वीर साभार:  Times Now
Dusshera 2021 Puja Vidhi

Dussehra 2021 Date, Mantra, Puja Vidhi, Upay: आज पूरे भारत में दशहरा यानी विजयदशमी का पर्व धूमधाम से और श्रद्धा-भाव के साथ मनाया जा रहा है। आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि पर मां दुर्गा ने महिषासुर नामक राक्षस का संहार किया था। इसी दिन भगवान श्रीराम ने लंकापति रावण का वध किया था। दशहरा या विजयदशमी का पर्व बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक माना गया है। आज ही के दिन नवरात्रि व्रत का पारण किया जाता है तथा दुर्गा विसर्जन किया जाता है। भारत के विभिन्न प्रांतों में दशहरा का पर्व लोक परंपराओं के साथ मनाया जाता है। दशहरा या विजयदशमी पर भारत के कई प्रांतों में अस्त्र-शास्त्र की पूजा, शमी वृक्ष पूजन और सूर्यदेव को अर्घ्य अर्पित किया जाता है। 

दशहरा पर विधिपूर्वक सूर्यदेव को अर्घ्य अर्पित करना लाभदायक माना गया है। इस दिन सूर्य देव को अर्घ्य अर्पित करने से भक्तों को कई लाभ प्राप्त होते हैं। हिंदू मान्यताओं के अनुसार, यह उपाय करने से साहस में वृद्धि होती है इसके साथ शत्रुओं का विनाश होता है। 

Oct 15, 2021  |  09:07 PM (IST)
देशभर में धूमधाम से मनाई गई विजय दशमी, दशहरा पर हुए रावण दहन

राजधानी दिल्ली और देश के अन्य हिस्सों में हर जगह धूमधाम से विजय दशमी का पर्व मनाया गया। कई जगहों पर रामलीला का आयोजन भी किया गया है। जगह जगह पर रावण दहन भी किया गया, अलग अलग तरह के रावण को बनाकर लोगों ने जलाया, वहीं पटना में तो लोगों ने कोरोना के रावण का पुतला भी जलाया।

Oct 15, 2021  |  08:18 PM (IST)
अमेठी में स्मृति ईरानी ने किया रावण दहन
केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने दुर्गा मंदिर में पूजा की और अमेठी के रामलीला मैदान में 'रावण दहन' कार्यक्रम में भी शामिल हुईं।
Oct 15, 2021  |  07:27 PM (IST)
लव-कुश राम लीला में सीएम केजरीवाल ने किया रावण दहन
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने लव-कुश रामलीला में पहुंचकर राजधानी में रावण दहन कार्यक्रम का हिस्सा बनते हुए अपने हाथ से तीर चलाकर रावण के पुलते का दहन किया।
Oct 15, 2021  |  06:57 PM (IST)
रावण के साथ कोरोना के पुतले का दहन
जगह जगह रावण के पुतलों का दहन देश भर में शुरू हो गया है और इस बीच पटना शहर में रावण के पुतले के साथ कोरोना का पुतला बनाकर इसका भी दशहरा के अवसर पर दहन किया गया है।
Oct 15, 2021  |  06:04 PM (IST)
दशहरा 2021 शस्त्र पूजा मुहूर्त

विजय दशमी या दशहरा पर शस्त्र पूजा विजय मुहूर्त में करने का विधान है। विजय दशमी 2021 पर 15 अक्टूबर को यह मुहूर्त दोपहर बाद 02:02 बजे से 02:48 बजे तक है। इसलिए इस शुभ मुहूर्त में आप शस्त्र पूजा कर सकते हैं, इसके अलावा अन्य समय पर भी शस्त्र पूजा की जाती है।

Oct 15, 2021  |  05:33 PM (IST)
दशहरा 2021 रावण दहन मुहूर्त

आज 16 अक्टूबर को दशहरा पूजा के बाद रावण के साथ-साथ कुंभकर्ण और मेघनाद के पुतलों के दहन की परंपरा है। रावण दहन का मुहूर्त शाम को 07 बजकर 26 मिनट से रात में 09 बजकर 22 मिनट तक मौजूद है। इस शुभ मुहूर्त में रावण दहन कीर्ति और यश देने वाला माना गया है।

Oct 15, 2021  |  04:56 PM (IST)
भगवान राम की भी होती है पूजा

दशहरा के शुभ दिन आध्यात्मिक और मानसिक शक्तियों में वृद्धि के साथ कष्टों के निवारण हेतु मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम की पूजा अर्चना की जाती है। श्रीरामचंद कृपालु भजमन स्तुति के साथ भगवान का इस दिन ध्यान करना चाहिए।

Oct 15, 2021  |  04:32 PM (IST)
दशहरा 2021 पर पूजा की विधि

सुबह स्नान करने के बाद सर्वप्रथम गाय के गोबर की दस केकड़ियां या कंडे बनाए जाते हैं। इन केकड़ियां पर आटा, हल्दी और रोली का टीका लगाया जाता है। इसके बाद नवरात्रि के दिन बोए जौ को इन केकड़ियां पर लगाया जाता है। धूप दीप कर आप इस तरह परिवार के साथ दशहरे की पूजा कर सकते हैं।

Oct 15, 2021  |  03:59 PM (IST)
दशहरा पर किसकी होती है पूजा?

दशहरा यानि विजयदशमी के दिन भगवान राम, मां दुर्गा, मां सरस्वती, भगवान गणेश और हनुमान जी की पूजा अर्चना की जाती है। तथा इस दिन शमी के वृक्ष की पूजा भी की जाती है।

Oct 15, 2021  |  03:04 PM (IST)
दशहरा 2021 पर कैसे करें सूर्यदेव को अर्घ्य अर्पित

दशहरा या विजय दशमी तिथि पर सूर्यदेव को अर्घ्य अर्पित करना भक्तों के लिए लाभदायक माना गया है। दशहरा पर यह उपाय करने से साहस में वृद्धि होती है तथा हर काम में सफलता मिलती है। ‌इस दिन जल में अक्षत या रोली डालकर लोटे से सूर्यदेव को अर्घ्य अर्पित करना चाहिए। इसके बाद 'ॐ घृणि सूर्याय नमः' मंत्र का जाप करना चाहिए।

Oct 15, 2021  |  02:34 PM (IST)
दशहरा 2021 पर कब है रावण दहन का समय, जानें यहां

रावण, कुंभकरण और मेघनाथ के पुतले का दहन करने के साथ मनुष्य अपने अंदर मौजूद अवगुणों का नाश भी करता है और हमेशा सत्य की राह पर चलने का संकल्प लेता है। हिंदू धर्म शास्त्रों के अनुसार, शुभ मुहूर्त में रावण दहन करना चाहिए। आज यानी 15 अक्टूबर, शुक्रवार को रावण दहन के लिए शाम 07:26 से रात 09:22 के बीच की समय अवधि उत्तम है।

Oct 15, 2021  |  01:52 PM (IST)
दशहरा 2021 पूजा के लिए यहां जानें श्री राम जी की आरती 

श्री रामचंद्र कृपालु भजु मन हरण भवभय दारुणम्
नवकंज-लोचन, कंज-मुख, कर कंज, पद कंजारुणम्

कंदर्प अगणित अमित छबि, नवनील-नीरद सुंदरम्
पट पीत मानहु तड़ित रुचि शुचि नौमि जनक-सुतानरम्

भजु दीनबंधु दिनेश दानव-दैत्य-वंश-निकंदनम्
रघुनंद आनँदकंद कोशलचंद दशरथ-नंदनम्

सिर मुकुट कुंडल तिलक चारु उदारु अंग विभूषणम्
आजानुभुज शर-चाप-धर, संग्राम-जित-खर-दूषणम्

इति वदति तुलसीदास शंकर-शेष-मुनि-मन रंजनम्
मम् हृदय-कंज-निवास कुरु, कामादि खल-दल-गंजनम्

Oct 15, 2021  |  01:21 PM (IST)
किस मुहूर्त में करें दशहरा 2021 की पूजा, जानें यहां 

हिंदू धर्म शास्त्रों के मुताबिक, विशिष्ट संयोग में दशहरा की पूजा करना लाभदायक माना गया है। आज दशहरा की पूजा के लिए शुभ मुहूर्त दोपहर 02:02 से 02:48 तक रहने वाला है। दशहरा की पूजा के लिए कुल 46 मिनट की अवधि है। शुभ मुहूर्त में दशहरा की पूजा करने से मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं तथा भगवान का आशीर्वाद मिलता है।

Oct 15, 2021  |  12:46 PM (IST)
क्या है दशहरा पर्व का महत्व, कब है शुभ मुहूर्त, जानें यहां

सनातन धर्म में दशहरा पर्व का विशेष महत्व है। ‌इस पर्व को बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक माना गया है। इस दिन महिषासुरमर्दिनि मां दुर्गा और भगवान श्री राम की पूजा करने से भक्तों को विशेष लाभ मिलता है तथा उनकी सभी परेशानियां दूर हो जाती हैं। आज, दशहरा के पर्व पर तीन शुभ योग बन रहे हैं। आज दोपहर 02:01 से 02:47 तक विजय मुहूर्त रहने वाला है।

Oct 15, 2021  |  12:16 PM (IST)
क्या है दशहरा का इतिहास, हिंदू धर्म शास्त्रों के अनुसार जानें यहां

हिंदू धर्म शास्त्रों में वर्णित कथाओं के अनुसार, मां सीता को अधर्मी रावण से बचाने के लिए, भगवान श्रीराम ने आश्विन मास के शुक्ल पक्ष में 9 दिनों तक मां दुर्गा की पूजा-आराधना की थी। और दसवें दिन भगवान श्रीराम ने रावण पर विजय प्राप्त किया था। इसीलिए दशहरा को विजयदशमी के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन रावण मेघनाथ और कुंभकरण का पुतला बनाकर जलाया जाता है और बुराई पर अच्छाई की जीत का जश्न मनाया जाता है।

Oct 15, 2021  |  11:37 AM (IST)
मेष और वृष राशि के जातक आज करें यह उपाय

दशहरा पर विभिन्न राशि के जातकों को विशेष उपाय अवश्य करने चाहिए। मेष राशि के जातक आज के दिन 'ॐ रामभद्राय नमः' मंत्र का जाप करें। इस मंत्र का जाप करने से मेष राशि के जातकों को विभिन्न क्षेत्रों में सफलता मिलेगी। वहीं, वृष राशि के जातक आज अपने खर्च पर ध्यान दें। आज का दिन वृष राशि के जातकों के लिए शुभ होने वाला है। इस दिन वृष राशि के जातकों को आर्थिक लाभ मिल सकता है।

Oct 15, 2021  |  11:01 AM (IST)
कब करें दशहरे पर शमी के पेड़ की पूजा?

हिंदू धर्म शास्त्रों के अनुसार दशहरा पर शमी के पेड़ की पूजा करना लाभदायक माना गया है। इस दिन शमी के पेड़ की पूजा करने से विभिन्न क्षेत्रों में सिद्धि प्राप्त होती है तथा शत्रु परास्त होते हैं। दशहरे पर प्रदोष काल में शमी वृक्ष पूजन किया जाता। शमी वृक्ष पूजन के लिए प्रदोष काल उत्तम माना गया है।

Oct 15, 2021  |  10:38 AM (IST)
आखिर दशहरा को क्यों कहा जाता है विजय दशमी, जानें यहां 

आज पूरे भारत में दशहरा का पर्व धूमधाम से मनाया जा रहा है। इस पर्व को विजय दशमी के नाम से भी जाना जाता है। ऐसा इसलिए क्योंकि आज के ही दिन श्री राम ने रावण का वध किया था, इसीलिए आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि यानी दशहरा को विजय दशमी के नाम से भी जाना जाता है।

Oct 15, 2021  |  09:48 AM (IST)
दशहरा का मंत्र

दशहरे पूजन में इस मंत्र का जाप करें - 

राम रामाय नम:- ॐ अपराजितायै नमः- पवन तनय बल पवन समाना, बुद्धि विवेक विज्ञान निधाना ।
कवन सो काज कठिन जग माहि, जो नहीं होत तात तुम पाहि ॥

Oct 15, 2021  |  08:52 AM (IST)
नीलकंठ के करें दर्शन

विजय दशमी तिथि पर नीलकंठ पक्षी का दर्शन करने की परंपरा है। मान्‍यता है क‍ि इस पक्षी को देखने से साक्षात भोलेनाथ के दर्शन व आशीर्वाद म‍िलता है।