भगवान शिव से युद्ध करने चले गए थे पांडव, श्राप के बाद कलियुग में लिया जन्म

पांडवों से किस बात से क्रोधित थे शिवजी और क्यों दिया ये श्राप? पांडवों से जुड़ी इस कहानी के बारे में कम ही लोग जानते होंगे।

Lord Shiva
Lord Shiva 

मुख्य बातें

  • महाभारत के बाद 36 साल तक पांडवों का हस्तिनापुर में राज किया।
  • पांडव भगवान शिव से ही युद्ध करने चले गए।
  • श्रीकृष्ण ने उन्हें बताया कि कौन-सा पांडव कलियुग में कहां और किसके घर जन्म लेगा।

नई दिल्ली. महाभारत युद्ध के बाद 99 कौरव की मृत्यु हो गई थी। वहीं, 36 साल तक पांडवों का हस्तिनापुर में राज किया। पांडवों को भगवानों का अंश कहा जाता था, जिन्होंने हमेशा सत्य का साथ दिया। लेकिन, क्या आप जानते हैं कि पांडवों ने कलयुग में भी जन्म लिया था।  

भविष्यपुराण के मुताबिक, महाभारत युद्ध के दौरान आधी रात के समय अश्वत्थामा, कृतवर्मा और कृपाचार्य यो तीनों पांडवों के शिविर के पास गए और उन्होंने मन ही मन भगवान शिव की आराधना कर उन्हें प्रसन्न कर लिया। 

भगवान शिव ने उन्हें पांडवों के शिविर में प्रवेश करने की आज्ञा दे दी। जिसके बाद अश्र्वत्थामा में पांडवों के शिविर में घुसकर शिवजी से प्राप्त तलवार से पांडवों सभी पुत्रों का वध कर दिया और वहां से चले गए।

भगवान शिव से किया युद्ध
पांडवों को इसके बारे में पता चला तो उन्होंने इसे भगवान शिव से ही युद्ध करने चले गए। पांडव और शिवजी का आमना-सामना हुआ तो उनके सभी अस्त्र-शस्त्र शिवजी में समा गए। क्रोधित शिवजी बोले तुम सभी श्रीकृष्ण के भक्त हो।

इस अपराध का फल तुम्हे इस जन्म में  नहीं बल्कि कलियुग में मिलेगा। लेकिन इसका फल तुम्हें कलियुग में फिर से जन्म लेकर भोगना पड़ेगा। पांडव जब श्रीकृष्ण के पास पहुंचे, तब श्रीकृष्ण ने उन्हें बताया कि कौन-सा पांडव कलियुग में कहां और किसके घर जन्म लेगा।

यहां जन्में थे पांचों पांडव
कलियुग में अर्जुन का जन्म परिलोक नाम के राजा के यहां हुआ था। उनका नाम ब्रह्मानंद था। वहीं, युधिष्ठर का जन्म वत्सराज नाम के राजा के यहां हुआ। उनका नाम मलाखान था। 

कलियुग में भीम वनरस राज्य के राजा बनें। उनका नाम वीरण था। नकुल का जन्म कान्यकुब्ज के राजा रत्नभानु के यहां हुआ। उनका नाम लक्षण था। कलियुग में सहदेव का जन्म भीमसिंह नाम के राजा घर में हुआ। उनका नाम देवसिंह था। 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर