Patal Lok: पृथ्वी के नीचे हैं सात लोक, जानिए कहां है पाताल लोक और कैसा दिखता है ये

ब्रह्मांड में भूलोक और स्वर्गलोक के जैसे ही पाताल लोक का भी अस्तित्व है। जानते हैं कहां है पाताल लोक और कैसा दिखता है ये।

Patal Lok
पाताल लोक (source: Pixabay)  |  तस्वीर साभार: Representative Image

मुख्य बातें

  • ब्रह्मांड में भूलोक और स्वर्गलोक के जैसे ही पाताल लोक का भी अस्तित्व है
  • हिंदू महाग्रंथों और पुराणों के मुताबिक ब्रह्मांड में तीन लोक हैं जिसे त्रैलोक्य कहा जाता है
  • पृथ्वी के नीचे सात लोक हैं और सबसे अंतिम लोक पाताल लोक है

हिंदू मान्यताओं के मुताबिक जिस तरह भू लोक और स्वर्गलोक का ब्रह्मांड में अस्तित्व है उसी तरह से पाताल लोक का भी अस्तित्व है। आज हम इसी पाताल लोक के बारे में जानने की कोशिश करेंगे कि ये आखिर में कहां पर है और कैसा दिखता है। हिंदू महाग्रंथों और पुराणों के मुताबिक ब्रह्मांड में तीन लोक हैं जिसे त्रैलोक्य कहा जाता है। इसे कृतक त्रैलोक्य, महर्लोक और अकृतक त्रैलोक्य कहा जाता है। 

कृतक त्रैलोक्य को त्रिभुवन भी कहा जाता है इसके तीन भेद हैं- भूलोक, भुवर्लोक और स्वर्लोक। जितनी दूर तक सूर्य, चंद्रमा आदि का प्रकाश जाता है भूलोक कहलाता है। इसके अलावा पृथ्वी और सूर्य के बीच के लोक को भुवर्लोक कहते हैं यह सभी ग्रहों और नक्षत्रों का क्षेत्र है। तीसरा स्वर्लोक इसे स्वर्गलोक भी कहा जाता है। यह सूर्य और ध्रुव के बीच का भाग है जिनके बीच चौदह लाख योजन की दूरी का अंतर है। इसी में स्पतर्षि मंडल आता है। 

क्या है पाताल लोक
पुराणों में पाताल लोक से जुड़ी कई कहानियों का वर्णन मिलता है। पुराणों के अनुसार भूलोक यानि पृथ्वी के नीचे सात लोग स्थित है जिनमें सबसे निचला हिस्सा पाताल लोक कहलाता है। कहा जाता है कि इक बार देवी पार्वती की कान की बाली गलती से पाताल लोक में गिर गई थी उन्होंने काफी इसे ढूंढ़ने की कोशिश की लेकिन उन्हें इसका पता नहीं चला। भूलोक के नीचे रहने वाले शेषनाग को जब इसका पता लगा तो उन्होंने क्रोधित होकर पाताल लोक से ही जोर की फुफकार मारी और पृथ्वी के अंदर से गर्म जल की फुहार निकल पड़ी और इसी जल के साथ मणि (कान की बाली) भी बाहर आ गई। 

पृथ्वी के नीचे के सातों लोगों के नाम हैं क्रमश: अतल, वितल, सुतल, रसातल, तलातल, महातल और पाताल। विष्णु पुरान के मुताबिक पूरे भूलोक का क्षेत्रफल 0 करोड़ योजन है और इसकी उंचाई 70 सहस्त्र योजन है। और इसी के नीचे ये सातों लोक बसे हैं।

ये हैं पाताल लोक के निवासी
ऐसा माना जाता है कि पाताल लोक के सबसे मध्य भाग में शेषनाग विराजमान हैं। पाताल लोग के निवासियों में दैत्य, दानव, मत्स्य कन्याओं की जातियां, नागों इत्यादि पाए जाते हैं। इसके अलावा यहां पर हिमालय के समान ही एक पर्वत भी है जिसे अरुणनयन भी कहा जाता है। 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर