Vastu tips for books: वास्तु के अनुसार इस दिशा में रखें पढ़ने वाली किताबें, मुश्‍क‍िल चीजें भी आएंगी समझ

study vastu tips: वास्तु शास्त्र में क‍िताबों को रखने के खास न‍ियम बताए गए हैं। इसके अनुसार विद्यार्थी को पूर्व दिशा की तरफ मुंह करके अध्‍ययन करना चाह‍िए।

Vastu tips for books, vastu tips for books in hindi, where to keep books as per vastu, which direction is good for keeping books,वास्तु के अनुसार पढ़ाई की किताबें कहां रखें, वास्तु के अनुसार किताबें कहां रखनी चाहिए,  वास्तु टिप्स फॉर बुक्स, वास्तु के अनुस
Vastu tips for books, 

मुख्य बातें

  • वास्तु शास्त्र के अनुसार पूर्व दिशा की तरफ मुंह करके पढ़ना बेहद लाभकारी होता है
  • वास्तु के अनुसार किताबें खुली हुई रैक में नहीं रखनी चाहिए इससे घर में नकारात्मक उर्जा उत्पन्न होती है
  • वास्तु शास्त्र के अनुसार बुक शेल्फ हमेशा ड्राइंग रूम में रखना लाभकारी होता है

Vastu tips for books: वास्तु शास्त्र के अनुसार हर काम के अलग-अलग नियम होते है। यदि आप उनको फॉलो करके किसी काम को करें, तो आप हर काम को सही तरीके से पूर्ण कर सकते हैं। लोग अक्सर पढ़ाई को लेकर ज्यादा चिंतित रहते हैं। यदि यदि आप इस चिंता को दूर करने के लिए यहां बताए गए नियमों को फॉलो करें, तो आपकी पढ़ाई से संबंधित समस्या बहुत हद तक दूर हो सकती है। वास्तु शास्त्र के अनुसार यदि सही दिशा में किताबों को रखा जाए, तो व्यक्ति को पढ़ाई में आने वाली परेशान‍ियां दूर हो सकती हैं। वह व्यक्ति जीवन में सफलता प्राप्त कर सकता है। यहां जानें किताबों को वास्तु शास्त्र के अनुसार किस दिशा में रखना लाभकारी होता है। 

वास्तु शास्त्र के अनुसार किताब रखने की सही दिशा

  1. वास्तु शास्त्र के अनुसार विद्यार्थी को पूर्व दिशा की तरफ मुंह करके पढ़ना लाभकारी होता है।
  2. वास्तु के अनुसार स्टडी रूम हमेशा ईशान और पूर्व के मध्य, उत्तर और वायव्य, पश्चिम और वायव्य कोण में बनाना चाहिए।
  3. वास्तु के अनुसार स्टडी रूम में किताबें कभी खुली हुई  रैक पर नहीं रखनी चाहिए। इससे नकारात्मक उर्जा उत्पन्न होती है।
  4. वास्तु शास्त्र के अनुसार बुक शेल्फ को हमेशा ड्राइंग रूम में रखना चाहिए।
  5. वास्तु के अनुसार बुक शेल्फ या किताबों को हमेशा साफ-सुथरी जगह रखना चाहिए। धूल मिट्टी होने से पढ़ने में अवरोध पैदा हो सकती है।
  6. विद्यार्थियों को नैऋत्य दिशा या दक्षिण दिशा की तरफ कभी भी बैठकर नहीं पढ़ना चाहिए।

note : ये लेख आम धारणाओं पर आधार‍ित है। टाइम्‍स नाउ नवभारत इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर