Christmas tree history: जानें क्रिसमस से जुड़े अनसुने- अनोखे तथ्य और रोचक स्टडीज

CHRISTMAS UNKNOWN FACTS: 25 दिसंबर को ईसा मसीह के जन्मदिन की खुशी में क्रिसमस मनाया जाता है। तो चलिए इस पर्व से जुडे कुछ अनसुने तथ्य और स्टडीज के बारे में बताएं, जिसके बारे में शायद ही आपने सुना होगा।

CHRISTMAS UNKNOWN FACTS, क्रिसमस से जुड़े अनसुने रोचक तथ्य
CHRISTMAS UNKNOWN FACTS, क्रिसमस से जुड़े अनसुने रोचक तथ्य 

मुख्य बातें

  • आमतौर पर क्रिसमस पेड़ बिकने से पहले 15 साल पुराने होते है
  • क्रिसमस के बाद क्रिसमस पेड़ जानवरों को खिलाएं जाते हैं
  • क्रिसमस के दिन बनी डबलरोटी पर कभी फफूंदी नहीं लगती

Christmas 2020: क्रिसमस को बड़ा दिन भी कहते हैं। इस दिन चर्च को बहुत ही सुंदर तरीके से सजाया जाता है। क्रिसमस के पहले वाली रात में गिरजाघरों में प्रार्थना सभा का भी आयोजन होता है जो रात 12 बजे तक चलती है। 12 बजे के बाद से क्रिसमस की धूम शुरू हो जाती है। मान्यता है कि यीशु के जन्म से पहले ही ये भविष्यवाणी हो गई थी कि धरती पर ईश्वर का पुत्र जन्म लेने वाले हैं। मान्यता है कि सर्वप्रथम इसकी खबर गडरियो को मिली थी।

खबर मिलते ही आकाश में एक तारे का भी जन्म हुआ था और इसे ही ईश्वर के जन्म का संकेत माना गया था। प्रभु यीशु ने 30 साल की उम्र तक कई जगहों पर घूमकर लोगों को शिक्षा दी थी। यीशु को अपनी मौत का पहले से पता था और  उन्होंने अपने अनुयायियों को बता दिया था। यीशु ने क्रूस पर झूलते हुए भी मारने वालों के लिए प्रार्थना की थी कि, प्रभु इन्हें क्षमा कर देना, ये नादान हैं। क्रिसमस के पावन पर्व पर आइए आपको इससे जुड़े कुछ अनसुने तथ्य और इस दिन पर हुई कुछ स्टडीज के बारे में बताएं।

जानें, क्रिसमस के ये अनसुने रोचक तथ्य

  1. संत निकोलस ने अपना पूरा जीवन यीशू को समर्पित कर दिया था। वे यीशू के जन्मदिन के मौके पर रात के अंधेरे में बच्चों को गिफ्ट दिया करते थे। यही संत निकोलस बच्चों के लिए सांता क्लॉज बन गए और वहां से यह नाम संपूर्णविश्व में लोकप्रिय हो गया।

  2. सेंटा क्लॉज़ जिस वाहन पर बैठकर आते हैं उसे रेनडियर चलाता है। उस रेनडियर को रूडोल्फ, बिल्ट्ज़न, क्यूपिड, डोनर, कॉमेट, विन्सन, प्रेन्सर, डांसर, डेसर आदि कई नामो से भी जाना जाता है।

  3. 20वी सदी में इंग्लैंड ने केवल 7 वाइट क्रिसमस देखी है। वाइट क्रिसमस का मतलब है, जब इंग्लैंड के लंदन वेदर सेंटर में बर्फ रुई की तरह गिरती है।

  4. मान्यता है कि  क्रिसमस के दिन बनाई गई डबलरोटी यानी केक पर फफूंदी कभी नहीं लग सकती है।

  5. क्रिसमस क्रैकर यानी पटाकों का चलन टॉम स्मिथ ने 1847 में क्रैकर का आविष्कार करके किया था।

  6. आज भी हर वर्ष दस लाख लेटर सेंटा क्लास के अपने पोस्टल कोड पर H0H 0H0, North Pole, Canada के पते पर भेज दिए जाते हैं।

  7. क्रिसमस के फादर के दो एड्रेस है बताए गए हैं। पहला नार्थ पोल और दूसरा एडिनबर्ग।

  8. क्रिसमस वाले पेड़ को पहली बार सजाने वाला सख्स मार्टिन लूथर को माना जाता है।

  9. क्रिसमस के मौजों ( स्टॉकिंग ) की स्टोरी 3 बहनों की बताई जाती है। जो अपने विवाह के लिए दहेज जमा करने में असमर्थ थीं, क्योंकि वह बहुत गरीब लोग थे।  एक दिन एक धनी पादरी निकोलस चिमनी से उनके घर आए और उनके मौजों को सोने के सिक्के से से भर दिया था।

  10. एक भारी लक्कड़ का लठ जिसे यूले लोग कहते हैं, इसे क्रिसमस से 12 दिन पहले से हर रोज जलाया जाता है।

  11. पोलैंड में क्रिसमस पर मकड़ी और मकड़ी के जालों को क्रिसमस पेड़ पर सजाने का रिवाज आम है। मान्यता है कि मकड़ी ने पहले बच्चे जीसस के लिए कम्बल बुना था। इसलिए पोलैंड के लोग मकड़ी को सुख-समृद्धि का प्रतीक मानते है।

  12. आमतौर पर क्रिसमस पेड़ बिकने से पहले 15 साल पुराने होते है।

  13. एक शोध के अनुसार क्रिसमस के समय सुसाइड की घटनाएं अप्रत्याशित रूप से बहुत कम हो जाती हैं, जबकि वसंत ऋतु में आत्महत्याएं सबसे ज्यादा होती हैं।

  14. क्रिसमस पर्व का शुभ रंग हरा, लाल और सुनहरा माना गया है। हरा रंग ज्यादा समय जीवन जीने और पुनर्जन्म का प्रतीक है, लाल रंग ईसा मसीह के खून का प्रतीक  और सुनहरा रंग संपदा और धन का प्रतीक माना जाता है।

  15. क्रिसमस का सबसे लंबा पेड़ 221 फूट का डगलस फर का काटा गया था। ये गिनीज बुक्स ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में शामिल है। इस पेड़ को 1950 में वाशिंगटन शॉपिंग सेंटर में प्रस्तुत किया गया था।

  16. सन 350 ईसवी में रोम के पादरी पॉप जूलियस फर्स्ट ने 25 दिसंबर को आधिकारिक तौर पर ईसा मसीह के जन्मदिन को मनाने की घोषणा की थी।

  17. फेसबुक पोस्ट के गणना के अनुसार क्रिसमस आने के 2 हफ्ते पहले सबसे अधिक प्रेमी जोड़ों का ब्रेकअप होता है, जबकि क्रिसमस के दिन ब्रेकअप की संख्या कम होती है।

  18.  चिड़ियाघरों में दान किये गए क्रिसमस पेड़ को जानवरों को खिलाएं जाते है।

  19. पहले विश्व युद्ध के दौरान 1914 में जब क्रिसमस आने वाला था। तब जर्मनी और इंग्लैंड के बीच युद्ध विराम हुआ था।

  20.  डेनमार्क, फ़िनलैंड, आइसलैंड, नोर्वे, स्वीडन आदि देशों में क्रिसमस ईव पर डोनाल्ड डक देखने की प्रथा है। यह प्रथा 1960 से चलती आ रही है।

नोट- क्रिसमस से जुडी ये जानकारी और तथ्य कई स्रोतों से जुटाए गए हैं। यह सामान्य जानकारी हैं जो रोचक होने के साथ ही स्टडीज बेस्ड हैं।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर