Shiv Ji Ki Aarti: मंगलकारी है भोलेनाथ की आरती, देखें ओम जय शिव ओंकारा, स्वामी जय शिव ओंकारा के ल‍िर‍िक्‍स

Shiv Ji Ki Aarti Lyrics in Hindi (ओम जय शिव ओंकारा, स्वामी जय शिव ओंकारा आरती) : भगवान श‍िव की आरती मंगलकारी मानी जाती है। यहां देखें भोलेनाथ की स्‍तुति में की जाने वाली श‍िव जी की आरती।

shiv ji ki aarti, shiv ji ki aarti in hindi, shiv ji ki aarti lyrics, shiv ji ki aarti lyrics in hindi, shiv ji ki aarti mantra, om jai shiv omkara swami jai shiv omkara, om jai shiv omkara swami jai shiv omkara aarti, om jai shiv omkara swami jai shiv om
om jai shiv omkara swami jai shiv omkara aarti lyrics  

मुख्य बातें

  • शिव आरती (Shiv Ji Ki Aarti) पढ़ने से भगवान शिव का आशीर्वाद प्राप्त होता है
  • मान्‍यता है क‍ि शिव आरती (Shiv Aarti hindi mein) नकारात्मक शक्तियों का नाश करती है
  • शिवजी की आरती ( Om Jai Shiv Omkara hindi aarti) पढ़ने से भोलेनाथ बहुत जल्द प्रसन्न होते हैं

Shiv Ji Ki Aarti Lyrics In Hindi, Om Jai Shiv Omkara Swami Jai Shiv Omkara Aarti : हिंदू धर्म में भोलेनाथ को त्रिलोकीनाथ के नाम से भी पुकारा जाता हैं। मान्यताओं के अनुसार शिव शंकर की पूजा आराधना करने से गृहस्थ जीवन में अनुकूलता प्राप्त होती है। गृहस्त व्यक्ति का जीवन हमेशा सुखमय बना रहता है। 

भोलेलाथ के पूजा में उनकी आरती पढ़ने से सभी मनोकामना शीघ्र पूर्ण हो जाती हैं। यदि आप भोलेनाथ की असीम कृपा खुद के ऊपर बनाएं रखना चाहते है, तो यह आरती सुबह-शाम जरूर पढ़ें। यहां आप त्रिलोकीनाथ की आरती शुद्ध-शुद्ध देखकर पढ़ सकते हैं।

 shiv ji ki aarti lyrics in hindi, shiv ji ki aarti mantra, om jai shiv omkara swami jai shiv omkara, शिवजी की आरती


जय शिव ओंकारा ॐ जय शिव ओंकारा ।
ब्रह्मा विष्णु सदा शिव अर्द्धांगी धारा  
    ।।ॐ जय शिव..॥

  एकानन चतुरानन पंचानन राजे
हंसानन गरुड़ासन वृषवाहन साजे
          ।।ॐ जय शिव..॥


दो भुज चार चतुर्भुज दस भुज अति सोहे।
त्रिगुण रूपनिरखता त्रिभुवन जन मोहे
       ॥ ॐ जय शिव..॥


 अक्षमाला बनमाला रुण्डमाला धारी ।
 चंदन मृगमद सोहै भाले शशिधारी
       ॥ ॐ जय शिव..॥


  श्वेताम्बर पीताम्बर बाघम्बर अंगे ।
सनकादिक गरुणादिक भूतादिक संगे
       ॥ ॐ जय शिव..॥


कर के मध्य कमंडलु चक्र त्रिशूल धर्ता ।
जगकर्ता जगभर्ता जगसंहारकर्ता
     ॥ ॐ जय शिव..॥


ब्रह्मा विष्णु सदाशिव जानत अविवेका ।
प्रणवाक्षर मध्ये ये तीनों एका
   ॥ ॐ जय शिव..॥


काशी में विश्वनाथ विराजत नन्दी ब्रह्मचारी ।
नित उठि भोग लगावत महिमा अति भारी
        ॥ ॐ जय शिव..॥


त्रिगुण शिवजीकी आरती जो कोई नर गावे ।
कहत शिवानन्द स्वामी मनवांछित फल पावे
        ॥ ॐ जय शिव..॥


श‍िव जी की आरती का महत्‍व 

शिव शंकर की आराधना करने से घर में माता लक्ष्मी की कृपा सदैव बनी रहती है। शिव की भक्ति करने से व्यक्ति को कभी भी आर्थिक समस्याएं से जूझना नहीं पड़ता है। धर्म के अनुसार शिव शंकर एक मात्र ऐसे भगवान है, जो बहुत जल्द प्रसन्न हो जाते हैं। उनके प्रसन्न होने से व्यक्ति की सभी विघ्न-बाधाएं दूर हो जाती है। शिव शंकर को भोलेनाथ, गंगाधर, नीलकंठ  आदि नामों से भी पुकारा जाता हैं।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर