शन‍िवार को ऐसे करें पीपल की पूजा, होती रहेगी धन की वर्षा

आध्यात्म
Updated Dec 06, 2017 | 14:09 IST | Medha Chawla

पीपल के पेड़ को हिंदू धर्म में खासा महत्‍व द‍िया गया है। एक खास व‍िध‍ि से शन‍िवार को इसकी पूजा की जाए तो इसे धन प्राप्‍त‍ि का अचूक उपाय माना जाता है...

पीपल के पेड़ में जल देने से शन‍ि को शांत किया जा सकता है  |  तस्वीर साभार: BCCL

नई द‍िल्‍ली: पीपल के पेड़ पर सभी देवताओं की कृपा मानी जाती है। पीपल के पेड़ का पूजन खासतौर पर शनि दोष को दूर करने के लिए किया जाता है। 

माना जाता है क‍ि शनिवार को पीपल के पेड़ में जल देने से शन‍ि को शांत किया जा सकता है। पीपल के पेड़ की परिक्रमा का भी विशेष महत्व गिना जाता है। वहीं पीपल के पत्‍तों के उपाय भी बताए जाते हैं जो आर्थिक स्थिति में सुधार ला सकते हैं। 

ये भी पढ़ें: इस मंदिर में होती है भगवान शिव के अंगूठे की पूजा, रहस्य बना है इसका पानी

अगर आपके सामने लगातार आर्थिक परेशान‍ियां आ रही हैं तो आप इस उपाय को आजमा सकते हैं। हालांकि इस उपाय का प्रयोग लालच के चलते ना करें। 

शन‍िवार को करें ये उपाय 
शनिवार की शाम को शनिदेव की विधिवत पूजा करें। इसके बाद पीपल के पेड़ के नीचे सरसों तेल का दिया जलाकर रखें। अब उसी पीपल के पेड़ से उसके कुछ पत्ते तोड़कर घर ले आएं और इनको गंगाजल से धो लें। अब पानी में हल्दी डालकर एक गाढ़ा घोल तैयार करें और दाएं हाथ की अनामिका अंगुली से इस घोल को लेकर पीपल के पत्‍ते पर  ह्रीं लिखें।

ये भी पढ़ें: श‍िव लगाते हैं शरीर पर भस्‍म, जानें क्‍या है इस रूप का राज

Also Read: श‍िव देते हैं मनचाहे जीवनसाथी का वरदान, ये है पूजा का व‍िधान

अब अपने घर के पूजास्थल पर इसे ले जाकर रखें और धूप-बत्ती आदि से इसकी पूजा करें। अपने ईष्टदेव का ध्यान करते हुए प्राथना करें कि आपकी मनोकामना पूर्ण हो।

अगर आपके घर में पूजास्थल ना हो तो किसी साफ स्थान पर चटाई बिछाकर पद्मासन में बैठ जाएं। किसी साफ प्लेट में इस पत्ते को रखें और उसी प्रकार धूप बत्ती दिखाते हुए पूजा करें।

Also Read: रविवार को करें काली चीजों का दान, शनिदेव से मिलेगा ये वरदान

हर शन‍िवार को बदलें पत्‍ता 
पूजन के बाद पीपल के पत्ते को पर्स या तिजोरी में रखें। हर शनिवार को पुराना पत्ता किसी मंदिर में जाकर चढ़ा आएं और पहले बताई गई विधि के अनुसार नया पत्ता लेकर आएं। कुछ हफ्ते तक इस उपाय को करने धन की समस्‍या दूर होने लगेगी। 

धर्म और आस्‍था से जुड़े लेख पढ़ने के लिए देखें Spritual सेक्‍शन... 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर