Ramadan 2021 Day 10: आज है रमजान का 29वां रोजा, जानिए सहरी और इफ्तार का टाइम टेबल

Ramzan 2021 Calendar Sehri and Iftar Daily Timings: रमजान का आज 29वां दिन है। जानिए रमजान 12 मई का सहरी और इफ्तार का टाइम टेबल क्या है।

सहरी एंड इफ्तार डेली टाइमिंग्स 2021, सहरी एंड इफ्तार डेली टाइमिंग 2021, रमादान सहरी, रमादान सहरी टाइम
रमजान 2021-सहरी और इफ्तार का टाइम टेबल 

मुख्य बातें

  • रमजान इस्लाम धर्म में सबसे मुबारक महीना माना जाता है
  • इस पूरे महीने 30 दिन रोजे रखे जाते हैं, उसके बाद ईद होती है
  • 12 मई को रमजान महीने का 29वां रोजा है

नई दिल्ली: रमजान का पाक महीना खत्म होने वाला है। आज यानी 12 मई को रमजान का 29वां रोजा है। जल्द ही मुस्लिम समुदाय के लोग अपने सबसे बड़े त्यौहारों में से एक ईद-उल-फितर मनाएंगे, जो रमजाम के बाद आती है। बता दें कि पिछले महीने चांद दिखने के बाद रमजान की शुरुआत हुई थी। पहला रोजा 14 अप्रैल बुधवार को रखा गया था। मुस्लमानों के लिए यह माह बहुत अधिक महत्व का होता है। इस महीने में सभी व्यस्क मुसलमानों के लिए उपवास रखना जरूरी होता है। वहीं, बीमार व्यक्ति और गर्भवती महिलाओं के लिए ये जरूरी नहीं होता है।

मुस्लिम समुदाय में रमजान के महीने को सबसे पाक माना जाता है, इस्लामिक मान्यताओं अनुसार मोहम्मद साहब को इसी दौरान इस्लाम धर्म की पवित्र पुस्तक कुरान शरीफ का ज्ञान प्राप्त हुआ था।तभी से रमजान के महीने को पवित्र महीने के रूप में मनाया जाता है  जिसे 30 दिनों तक मनाया जाता है और ये सबसे शुभ त्योहार ईद-उल-फितर में से एक के साथ संपन्न होता है। इस महीने के दौरान मुसलमान 30 दिनों तक रोजा के रूप में जानने वाले एक दिन के उपवास को रखते हैं।

रमजान का पवित्र महीना  रमजान के पाक दिनों में रोज़ा, मानवता की सेवा, ईश्वर की बन्दगी जैसे नेक कार्यों से धैर्य, आत्म अनुशासन, सहनशीलता, सादगी आदि मूल्यों को बढ़ावा मिलता है। इससे परस्पर प्रेम और भाईचारे की भावना बलवती होती है।

रमजान में 30 दिनों के रोजे होते हैं 

रमजान में दुनिया भर के मुसलमान पूरे दिन उपवास रखते हैं। ये महीना अपनी इच्छाओं पर लगाम लगाने का है। माहे रमजान एक महीने का होता है जिसमें मुस्लिम संप्रदाय के लोग अल्लाह की इबादत करते है और इस दौरान रोजाना सहरी और इफ्तार का खासा महत्व होता है।

Ramzan 2021 Calendar: Sehri and Iftar Daily Timings

रमजान का मुक़द्दस (पवित्र) महीना हर इंसान को अपनी जिंदगी को सही राह पर लाने का पैगाम देता है। खुद को हर बुराई से बचाकर अल्लाह के नजदीक ले जाने की यह सख्त कवायद हर मुस्लिम के लिये खुद को पाक-साफ करने का सुनहरा मौका होती है।

 इस महीने में सहरी और इफ्तार का खासा महत्‍व होता है। सुबह के समय सहरी का वक्‍त होता है और शाम को इफ्तार का। इन दोनों का ही समय तय होता है और उसी के हिसाब से सहरी और रोजा इफ्तार किया जाता है। आइये जानते हैं इस बार क्‍या है सहरी और इफ्तारी का वक्‍त। देखिए रमजान महीने का पूरा टाइम टेबल।

Sahari and Iftar Daily Timings 2021

सहरी एंड इफ्तार डेली टाइमिंग्स 2021-

तारीख  सहरी टाइम टेबल इफ्तार टाइम टेबल
14 अप्रैल,2021 4:35 AM 6:47 PM
15 अप्रैल,2021 4:34 AM 6:48 PM
16 अप्रैल, 2021 4:32 AM 6:48 PM
17 अप्रैल,2021 4:31 AM 6:49 PM
18 अप्रैल,2021 4:30 AM 6:49 PM
19 अप्रैल,2021 4:29 AM 6:50 PM
20 अप्रैल,2021 4:27 AM

6:50 PM

21 अप्रैल,2021 4:26 AM 6:51 PM
22 अप्रैल, 2021 4:25 AM 6:52 PM
23 अप्रैल,2021 4:24 AM

6:52 PM

24 अप्रैल, 2021 4:23 AM

6:53 PM

25 अप्रैल, 2021 4:22 AM

6:53 PM

26 अप्रैल, 2021 4:19 AM 6:54 PM
27 अप्रैल, 2021 4:20 AM

6:55 PM

28 अप्रैल , 2021 4:18 AM

6:55 PM

29 अप्रैल, 2021 4:17 AM

6:56 PM

30 अप्रैल, 2021 4:16 AM

6:56 PM

1 मई , 2021 4:15 AM 6:57 PM
2 मई , 2021 4:14 AM 6:58 PM

3 मई, 2021

4:13 AM 6:58 PM
5 मई 2021 4:12 AM 6:59 PM
6 मई, 2021 4:11 AM 6:59 PM
7 मई , 2021 4:10 AM 7:00 PM
8 मई , 2021 4:09 AM

7:01 PM

9 मई , 2021 4:08 AM

7:01 PM

10 मई , 2021 4:06 AM 7:02 PM
11 मई , 2021 4:05 AM 7:03 PM
12 मई , 2021 4:04 AM 7:04 PM
13 मई , 2021 4:03 AM 7:04 PM

​रमजान का महीना पाक महीना होता है जिसमें इस्लाम धर्म के लोग अल्लाह से अपनी गलतियों की माफी मांगते हैं और अच्‍छे कर्म करने का फैसला लेते हैं, यह महीना त्‍याग और समर्पण का होता है। 

मंगलवार को इस्लामी कलेंडर के आठवें महीने शाबान का 30वां दिन होगा। फतेहपुरी मस्जिद के इमाम के मुताबिक ‘तराहवी’ में पूरे कुरान का पाठ करना जरूरी नहीं होता है, बल्कि यह विशेष नमाज़ जरूरी होती है।‘तराहवी की नमाज़’ में हाफिज़-ए-कुरान (जिसे कुरान मुंह-जुबानी याद होता है) इस पवित्र किताब का पाठ करता है और उसके पीछे बड़ी संख्या में लोग कुरान सुनते हैं।

रमज़ान इस्लामी कलेंडर का नौवां महीना है। इस पूरे महीने दुनियाभर के मुसलमान सूरज निकलने से पहले से लेकर सूर्य अस्त होने तक कुछ खाते-पीते नहीं हैं। इसे रोज़ा कहा जाता है। इस महीने की मुसलमानों के बीच काफी अहमियत है और समुदाय के लोग बड़ी संख्या में मस्जिदों का रुख कर नमाज़ अदा करते हैं और अन्य इबादतें करते हैं।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर