Raksha Bandhan 2022: 12 अगस्त को राखी का क्या है शुभ मुहूर्त, दो घंटे का यह है सर्वोत्तम समय  

Raksha Bandhan 2022 Date, Puja Muhurat, Time; Is Saal Rakhi Kab Hai (2022 में रक्षाबंधन कब है): वर्ष 2022 में रक्षाबंधन 11 अगस्त के साथ 12 अगस्त को भी मनाया जा रहा है। यहां जानें 12 अगस्त को रक्षाबंधन पर राखी बांधने का उत्तम मुहूर्त कब है।

Raksha Bandhan 2022 Date, Muhurat, Time, Raksha Bandhan 2022 Shubh Muhurat
Raksha Bandhan 2022 Shubh Muhurat 
मुख्य बातें
  • इस वर्ष रक्षाबंधन 11 और 12 अगस्त दोनों दिन मनाया जा रहा है। 
  • हर वर्ष सावन मास की पूर्णिमा तिथि पर मनाया जाता है यह त्योहार। 
  • 12 अगस्त को भी राखी बांधने के लिए है शुभ मुहूर्त।

Raksha Bandhan 2022 Date, Muhurat, Time (Raksha Bandhan Kab Hai 2022): रक्षाबंधन बहन और भाई के अटूट प्रेम का प्रतीक माना गया है। यह त्योहार भारत में उत्साह, उमंग और प्यार के साथ मनाया जाता है। पंचांग के अनुसार, राखी का त्योहार सावन माह के शुक्ल पक्ष में पड़ने वाली पूर्णिमा तिथि पर मनाया जाता है। इस वर्ष रक्षाबंधन 11 अगस्त के साथ 12 अगस्त को भी मनाया जा रहा है। कुछ पंडितों के अनुसार, रक्षाबंधन मनाने के लिए उत्तम तिथि इस वर्ष 12 को है। पूर्णिमा तिथि तो 11 अगस्त की सुबह से ही शुरू हो गई थी लेकिन इसके साथ भद्राकाल भी लग गया था जिसकी वजह से 11 अगस्त को राखी बांधने का समय बेहद कम मिला। ऐसे में 12 अगस्त को राखी बांधने का सर्वोत्तम मुहूर्त बन रहा है। यहां देखें 12 अगस्त को राखी बांधने के लिए मुहूर्त कब है।

Raksha Bandhan 2022 Date, Muhurat, Tithi And All You Need To Know

Raksha Bandhan 2022 Date, Time, Puja Muhurat In India 

11 अगस्त के साथ 12 अगस्त को भी राखी बांधने का मुहूर्त है। 12 अगस्त को पूर्णिमा तिथि 07:06 पर समाप्त हो जाएगी। ऐसे में इस दिन सुबह जल्दी उठकर बहनें अपने भाई को राखी बांध लें। कल 07:06 के बाद राखी ना बांधे क्योंकि इसके बाद से भाद्रपद मास शुरू हो जाएगा और कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा तिथि लग जाएगी। इस समय के बाद से नया महीना शुरू हो जाएगा रक्षाबंधन मनाने के लिए अनुकूल नहीं है। 

रक्षाबंधन पर सबसे पहले नित्य क्रियाओं से निवृत्त होकर स्नान करें। फिर पूजा करने के ‌बाद भगवान गणेश को राखी बांधें। देवताओं को राखी बांधना शुभ माना गया है। इस दिन गणेश जी के साथ भगवान शिव, भगवान विष्णु, हनुमान जी और शनिदेव को राखी बांधने की परंपरा है। पूजा करने के बाद भाई को तिलक लगाएं और उनकी कलाई पर राखी बांधें। इस दिन शुभ मुहूर्त का विशेष ध्यान रखें।


 

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर