Paush Month 2021: उन्नति और प्रतिष्ठा के लिए पौष मास में जरूर कर लें ये काम, मिलेंगे अचूक लाभ

Pausha Maas Surya Aradhana: शास्त्रों में वर्णित है कि पौष् मास में सूर्य की आराधना हर किसी को जरूर करनी चाहिए। सूर्यदेव की कृपा यदि आप पाना चाहते तो पौष मास में रोज एक बार आदित्य हृदय स्तोत्र का पाठ कर लें।

Benefits of Aditya Hridaya Stotra, आदित्य हृदय स्तोत्र पाठ के लाभ
Benefits of Aditya Hridaya Stotra, आदित्य हृदय स्तोत्र पाठ के लाभ 

मुख्य बातें

  • पौष मास भगवान सूर्य और विष्णु को समर्पित है
  • पौष मास में रविवार का दिन बहुत पुण्यलाभ देने वाला माना गया है
  • सूर्य देव को जल देने के बाद आदित्य हृदय स्तोत्र का पाठ करना चाहिए

पौष मास में सूर्य आराधाना करने से मनुष्य को सूर्य समान तेज की प्राप्ति होती है। जिस प्रकार सूर्य सर्वव्रत पूजनीय माने गए हैं और उनकी ऊर्जा से दुनिया चलायमान होती है, उसी प्रकार यदि मनुष्य सूर्यदेव की अराधान करे तो उसे भी वैसा ही आशीर्वाद प्राप्त होता है। जीवन में उन्नति और प्रगति के लिए मनुष्य को सूर्य अपना हमेशा तेज रखना चाहिए और इसके लिए जरूरी है कि सूर्य देव की आराधना की जाए। सूर्य देव को प्रसन्न करने के लिए यदि मनुष्य दिन में एक बार आदित्य हृदय स्तोत्र का पाठ कर ले तो उसकी सारी ही कामनाएं पूर्ण हो जाती हैं।

पौष मास भगवान सूर्य और विष्णु को समर्पित है। इस मास में रविवार का दिन बहुत पुण्यलाभ देने वाला माना गया है, क्योंकि ये सूर्यदेव का दिन होता है। ज्योतिष में सूर्य को आत्मा का कारक माना गया है। इस पौष मास की शुरुआत 31 दिसंबर 2020 से हो चुकी है और 28 जनवरी 2021 तक यह जारी रहेगा। इसलिए पौष मास में सूर्य देव को जल देने के बाद आदित्य हृदय स्तोत्र का पाठ नियमित रूप से करना चाहिए और इससे बहुत ही अप्रत्याशित लाभ मिलता है। लंबी उम्र, नौकरी में पदोन्नति, धन प्राप्ति, प्रसन्नता, आत्मविश्वास तथा सभी कार्यों में सफलता मिलती की प्राप्ति होती है और मनुष्य की हर कामना पूरी होती है। करियर की उन्नति के लिए, राजकीय मान-सम्मान की प्राप्ति के लिए सूर्य का कुंडली में अनुकूल होना बेहद जरूरी माना गया है। अगर कुंडली में सूर्य प्रभावशाली न हो तो इसके प्रतिकूल फल मिलते हैं।

ऐसी स्थिति में सूर्य देव का पूजन तथा सूर्य यंत्र की प्रतिष्ठा कर धारण करने या पूजन करने से सूर्य का शीघ्र ही सकारात्मक फल प्राप्त होने लगता है।

तो आइए पौष मास में आदित्य हृदय स्तोत्र का संपूर्ण पाठ करें

ततो युद्धपरिश्रान्तं समरे चिन्तया स्थितम्‌ । रावणं चाग्रतो दृष्ट्वा युद्धाय समुपस्थितम्‌ ॥1॥

दैवतैश्च समागम्य द्रष्टुमभ्यागतो रणम्‌ । उपगम्याब्रवीद् राममगस्त्यो भगवांस्तदा ॥2॥

राम राम महाबाहो श्रृणु गुह्मं सनातनम्‌ । येन सर्वानरीन्‌ वत्स समरे विजयिष्यसे ॥3॥

आदित्यहृदयं पुण्यं सर्वशत्रुविनाशनम्‌ । जयावहं जपं नित्यमक्षयं परमं शिवम्‌ ॥4॥

सर्वमंगलमागल्यं सर्वपापप्रणाशनम्‌ । चिन्ताशोकप्रशमनमायुर्वर्धनमुत्तमम्‌ ॥5॥

रश्मिमन्तं समुद्यन्तं देवासुरनमस्कृतम्‌ । पुजयस्व विवस्वन्तं भास्करं भुवनेश्वरम्‌ ॥6॥

सर्वदेवात्मको ह्येष तेजस्वी रश्मिभावन: । एष देवासुरगणांल्लोकान्‌ पाति गभस्तिभि: ॥7॥

एष ब्रह्मा च विष्णुश्च शिव: स्कन्द: प्रजापति: । महेन्द्रो धनद: कालो यम: सोमो ह्यापां पतिः ॥8॥

पितरो वसव: साध्या अश्विनौ मरुतो मनु: । वायुर्वहिन: प्रजा प्राण ऋतुकर्ता प्रभाकर: ॥9॥

आदित्य: सविता सूर्य: खग: पूषा गभस्तिमान्‌ । सुवर्णसदृशो भानुर्हिरण्यरेता दिवाकर: ॥10

हरिदश्व: सहस्त्रार्चि: सप्तसप्तिर्मरीचिमान्‌ । तिमिरोन्मथन: शम्भुस्त्वष्टा मार्तण्डकोंऽशुमान्‌ ॥11॥

हिरण्यगर्भ: शिशिरस्तपनोऽहस्करो रवि: । अग्निगर्भोऽदिते: पुत्रः शंखः शिशिरनाशन: ॥12॥

व्योमनाथस्तमोभेदी ऋग्यजु:सामपारग: । घनवृष्टिरपां मित्रो विन्ध्यवीथीप्लवंगमः ॥13॥

आतपी मण्डली मृत्यु: पिगंल: सर्वतापन:। कविर्विश्वो महातेजा: रक्त:सर्वभवोद् भव: ॥14॥

नक्षत्रग्रहताराणामधिपो विश्वभावन: । तेजसामपि तेजस्वी द्वादशात्मन्‌ नमोऽस्तु ते ॥15॥

नम: पूर्वाय गिरये पश्चिमायाद्रये नम: । ज्योतिर्गणानां पतये दिनाधिपतये नम: ॥16॥

जयाय जयभद्राय हर्यश्वाय नमो नम: । नमो नम: सहस्त्रांशो आदित्याय नमो नम: ॥17॥

नम उग्राय वीराय सारंगाय नमो नम: । नम: पद्मप्रबोधाय प्रचण्डाय नमोऽस्तु ते ॥18॥

ब्रह्मेशानाच्युतेशाय सुरायादित्यवर्चसे । भास्वते सर्वभक्षाय रौद्राय वपुषे नम: ॥19॥

तमोघ्नाय हिमघ्नाय शत्रुघ्नायामितात्मने । कृतघ्नघ्नाय देवाय ज्योतिषां पतये नम: ॥20॥

तप्तचामीकराभाय हरये विश्वकर्मणे । नमस्तमोऽभिनिघ्नाय रुचये लोकसाक्षिणे ॥21॥

नाशयत्येष वै भूतं तमेष सृजति प्रभु: । पायत्येष तपत्येष वर्षत्येष गभस्तिभि: ॥22॥

एष सुप्तेषु जागर्ति भूतेषु परिनिष्ठित: । एष चैवाग्निहोत्रं च फलं चैवाग्निहोत्रिणाम्‌ ॥23॥

देवाश्च क्रतवश्चैव क्रतुनां फलमेव च । यानि कृत्यानि लोकेषु सर्वेषु परमं प्रभु: ॥24॥

एनमापत्सु कृच्छ्रेषु कान्तारेषु भयेषु च । कीर्तयन्‌ पुरुष: कश्चिन्नावसीदति राघव ॥25॥

पूजयस्वैनमेकाग्रो देवदेवं जगप्ततिम्‌ । एतत्त्रिगुणितं जप्त्वा युद्धेषु विजयिष्यसि ॥26॥

अस्मिन्‌ क्षणे महाबाहो रावणं त्वं जहिष्यसि । एवमुक्ता ततोऽगस्त्यो जगाम स यथागतम्‌ ॥27॥

एतच्छ्रुत्वा महातेजा नष्टशोकोऽभवत्‌ तदा ॥ धारयामास सुप्रीतो राघव प्रयतात्मवान्‌ ॥28॥

आदित्यं प्रेक्ष्य जप्त्वेदं परं हर्षमवाप्तवान्‌ । त्रिराचम्य शूचिर्भूत्वा धनुरादाय वीर्यवान्‌ ॥29॥

रावणं प्रेक्ष्य हृष्टात्मा जयार्थं समुपागतम्‌ । सर्वयत्नेन महता वृतस्तस्य वधेऽभवत्‌ ॥30॥

अथ रविरवदन्निरीक्ष्य रामं मुदितमना: परमं प्रहृष्यमाण: । निशिचरपतिसंक्षयं विदित्वा सुरगणमध्यगतो वचस्त्वरेति ॥31॥

सूर्य यंत्र 2 प्रकार के होते हैं। प्रथम नवग्रहों का एक ही यंत्र होता है और दूसरा नवग्रहों का अलग-अलग पूजन यंत्र होता है। दोनों यंत्रों के एक जैसे ही लाभ होते हैं। इस यंत्र को सामने रखकर नवग्रहों की उपासना करने से सभी प्रकार की आपदाएं नष्ट होती हैं। आरोग्य प्राप्त होता है। व्यापार आदि में सफलता मिलती है। समाज में यश-पद-प्रतिष्ठा-प्रगति प्राप्त होती है। शुभ कार्यों में किसी भी प्रकार की बाधा नहीं आती है। इस पाठ को करने से शत्रु बाधा दूर होती है।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर