Naraka Chaturdashi 2021 Date, Puja Timings: नरक चतुर्दशी में श्री हरि भगवान विष्णु की पूजा अर्चना करने से होगी सौंदर्य की प्राप्ति, जानिए शुभ मुहूर्त पूजा विधि और महत्व

Naraka Chaturdashi 2021 Date, Time, Puja Muhurat in Hindi: नरक चतुर्दशी का पावन पर्व धनतेरस के अगले दिन यानि छोटी दीपावली को मनाया जाता है। इस बार नरक चतुर्दशी 3 नवंबर 2021, बुधवार को है।

Naraka Chaturdashi date in india
Naraka Chaturdashi in 2021 
मुख्य बातें
  • नरक चतुर्दशी का पावन पर्व 3 नवंबर 2021, बुधवार को है।
  • नरक चतुर्दशी को रूप चतुर्दशी, नरक चौदस और काली चौदस भी कहा जाता है।
  • नरक चतुर्दशी के दिन यमराज की पूजा करने से अकाल मृत्यु का भय होता है खत्म।

Naraka Chaturdashi 2021 Date, Time, Puja Muhurat: नरक चतुर्दशी का सनातन धर्म में विशेष महत्व है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन विधि विधान से श्री हरि भगवान विष्णु की पूजा अर्चना करने से सौंदर्य की प्राप्ति होती है। इसे रूप चतुर्दशी, नरक चौदस और काली चौदस के नाम से भी जाना जाता है।

नरक चतुर्दशी के दिन शाम के समय यमराज की पूजा करने से नरक की यातनाओं और अकाल मृत्यु का भय खत्म होता है। इस दिन मां काली की पूजा का भी विधान है। कहा जाता है कि इस दिन मां काली की पूजा अर्चना करने से शत्रुओं पर विजय की प्राप्ति होती है। नरक चतुर्दशी का पावन पर्व धनतेरस के अगले दिन यानि छोटी दीपावली को मनाया जाता है। इस बार नरक चतुर्दशी 3 नवंबर 2021, बुधवार को है। 

Why is Narak Chaturdashi celebrated know about puja vidhi - Astrology in  Hindi - Narak Chaturdashi 2021: क्यों मनाई जाती है नरक चतुर्दशी, यहां जानें  वजह

कब है नरक चतुर्दशी या रूप चौदस (Naraka Chaturdashi 2021 date in india)
हिंदू पंचांग के अनुसार नरक चतुर्दशी का पावन पर्व 3 नवंबर 2021, बुधवार को है। इस दिन यम देव की पूजा अर्चना करने से नरक की यातनाओं से मुक्ति मिलती है और अकाल मृत्यु का भय खत्म होता है। आइए जानते हैं शुभ मुहूर्त

Narak Chaturdashi 2019: ऐसे करें नरक चौदस और छोटी दीपावली पर पूजा, जानें  विधि, मुहूर्त | Naraka chaturdashi 2019 how to worship on naraka chaudas  and diwali read here puja vidhi muhurta | TV9 Bharatvarsh

Also Read: Narak chaturdashi: कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष को होती है नरक चतुर्दशी, जानें इसकी कथा और पूजा विधि

नरक चतुर्दशी का शुभ मुहूर्त (Naraka Chaturdashi puja muhurat)
नरक चतुर्दशी 3 नवंबर 2021 बुधवार को 09 बजकर 2 मिनट से आरंभ होगी और 4 नवंबर 2021, गुरुवार को सुबह 06 बजकर 03 मिनट पर समाप्त होगी। दोपहर 01 बजकर 33 मिनट से 02 बजकर 17 मिनट तक विजय मुहूर्त रहेगा। पूजा पाठ के लिए यह सर्वश्रेष्ठ समय है।

Narak Chaturdashi 2021: कब है नरक चतुर्दशी? जानें इस दिन का महत्व, होती है  इन 6 देवों की पूजा - Narak Chaturdashi 2021 date puja shubh muhurat 6 gods  worshiped on this day tlifd - AajTak

पूजा विधि (Naraka Chaturdashi Puja Vidhi)
सूर्योदय से पहले स्नान कर साफ और स्वच्छ वस्त्र धारण करें। इस दिन 6 देवी देवताओं यमराज, श्री कृष्ण, काली माता, भगवान शिव, हनुमान जी और वामन की पूजा का विधान है। ऐसे में घर के ईशान कोण में इन सभी देवी देवताओं की प्रतिमा स्थापित कर विधि विधान से पूजा अर्चना करें। सभी देवी देवताओं के सामने धूप दीप जलाएं, कुमकुम का तिलक लगाएं और मंत्रो का जाप करें।

बता दें इस दिन यमदेव की पूजा अर्चना करने अकाल मृत्यु का भय खत्म होता है और सभी पापों का नाश होता है। तथा घर में सकारात्मकता का वास होता है। ऐसे में शाम के समय यमदेव की पूजा करें और चौखट के दोनों ओर दीप जलाकर रखें।

नरक चतुर्दशी का महत्व (Naraka Chaturdashi 2021 Importance)
नरक चौदस का पावन पर्व कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष के चौदस को मनाया जाता है। इसे नरक मुक्ति का त्योहार भी माना जाता है। इस दिन यमराज की पूजा अर्चना करने से नरक की यातनाओं से मुक्ति मिलती है और सभी पापों का नाश होता है। नरक चौदस के दिन तिल के तेल से मालिस करने से त्वचा पर निखार आता है।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर