Nag Devta Ki Aarti: नाग पंचमी पर नाग देवता को प्रसन्न करने के लिए पढ़ें 'आरती कीजे श्री नाग देवता की' आरती

Nag Pachami 2022 Aarti, Nag Devta Ki Aarti Lyrics In Hindi (आरती कीजे श्री नाग देवता की): नाग पंचमी के दिन लोग विधि-विधान से नागों की पूजा-अर्चना करते हैं। ऐसा कहा जाता है, कि नागों की पूजा करने से भोलेनाथ की विशेष कृपा प्राप्त होती हैं।

Nag Panchami 2022, Nag Devta Ki Aarti Lyrics In Hindi
Nag Panchami Ki Aarti Lyrics In Hindi (Pic: iStock) 
मुख्य बातें
  • भारत में कल मनाई जाएगी नाग पंचमी
  • इस दिन नागों की पूजा करने से भोलेनाथ होते हैं बेहद प्रसन्न 
  • यहां पढ़ें नाग पंचमी स्पेशल आरती हिंदी में

Nag Panchami 2022, Nag Devta Ki Aarti Lyrics In Hindi (आरती कीजे श्री नाग देवता की): भारत में कल धूमधाम के साथ नाग पंचमी का पर्व मनाया जाएगा। यह हर साल सावन मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मनाई जाती है। इस दिन विधि-विधान से नामों की पूजा की जाती है। ऐसा कहा जाता है, कि नागों की पूजा करने से सर्प दोष से मुक्ति मिलने के साथ-साथ सभी मनोकामनाएं भी शीघ्र पूर्ण होती हैं। आपको बता दें नाग देवता की पूजा करने से भोलेनाथ बेहद प्रसन्न होते है। कुछ जगहों पर तो इस दिन कई तरह के धार्मिक आयोजन भी किए जाते हैं। यदि आप भी नाग देवता के साथ साथ भोलेनाथ का आशीर्वाद पाना चाहते हैं, तो कल नागों पूजा करने के बाद इस आरती को जरूर पढ़ें। मान्यताओं के अनुसार इस आरती को पढ़ने से नाग देवता बहुत जल्द प्रसन्न होकर सभी मुरादें पूर्ण कर देते हैं।

Nag Panchami 2022 Date, Time And All You Need To Know

नाग पंचमी 2022 आरती (Nag Panchami 2022 Aarti)

आरती कीजे श्री नाग देवता की,
भूमि का भार वहनकर्ता की ।
उग्र रूप है तुम्हारा देवा भक्त, 
सभी करते है सेवा।।
मनोकामना पूरण करते, 
तन-मन से जो सेवा करते।
आरती कीजे श्री नाग देवता की, 
भूमि का भार वहनकर्ता की।।
भक्तों के संकट हारी की आरती कीजे श्री नागदेवता की।

Also Read: Horoscope Today, 02 August 2022: नाग पंचमी पर किन राशियों पर बरसेगी भोलेनाथ की कृपा, देखें आज का राशिफल व उपाय

आरती कीजे श्री नाग देवता की, 
भूमि का भार वहनकर्ता की।।
महादेव के गले की शोभा ग्राम देवता मै है पूजा।
श्वेत वर्ण है तुम्हारी ध्वजा।।
दास ऊंकार पर रहती कृपा सहस्त्रफनधारी की ।
आरती कीजे श्री नाग देवता की, 
भूमि का भार वहनकर्ता की ।।
आरती कीजे श्री नाग देवता की, 
भूमि का भार वहनकर्ता की।।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर