Nag Panchami Puja Vidhi and Samagri List: नाग पंचमी का त्योहार कल, जानें पूजा विधि और सामग्री लिस्ट

Nag Panchami 2022 Puja Vidhi and Samagri List: कल मनाई जाएगी नाग पंचमी। मान्यताओं के अनुसार, इस दिन नागों की पूजा करने से भोलेनाथ का भी आशीर्वाद मिलता है।

Nag Panchami 2022, Date, Time, Puja Vidhi and Samagri List
Nag Panchami 2022 Puja Vidhi And Puja Samagri List (Pic: iStock) 
मुख्य बातें
  • कल यानी 02 अगस्त को है नाग पंचमी।
  • इसी दिन ऋषि आस्तिक मुनि ने सभी सर्पों का वंश खत्म होने से बचाया था 
  • सांपों की पूजा करने से कालसर्प दोष से मुक्ति मिलती है

Nag Panchami 2022, Date, Time, Puja Vidhi and Samagri List: हिंदू पंचांग के अनुसार, नाग पंचमी (Nag Panchami 2022) हर साल सावन मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मनाई जाती है। इस वर्ष नाग पंचमी 2 अगस्त यानी कल मनाई जाएगी (Nag Panchami 2022 Date)। प्राचीन काल से ही हिंदू धर्म में नाग देवता की पूजा की जाती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार नाग पंचमी के दिन ही ऋषि आस्तिक मुनि ने सर्पों का वंश खत्म होने से बचाया था। हिन्दू धर्म में नाग देवता को शक्ति और सूर्य का स्वरूप माना जाता है। कुछ लोग इन्हें मां लक्ष्मी का स्वरूप भी मानते है। यदि आप नाग देवता को प्रसन्न करने के लिए कल उनकी पूजा करने की सोच रहे हैं, तो सबसे पहले आपको पूजा करने की विधि (Nag Panchami Puja Vidhi) और सामग्री लिस्ट (Nag Panchami Puja Samagri) जान लेनी चाहिए।

नाग पंचमी 2022 पूजन सामग्री (Nag Panchami 2022 Puja Ki Samagri)

नाग देवता की तस्वीर

दूध

फूल

अक्षत

मेवा 

रत्न 

फल

पूजा का बर्तन

दही

शुद्ध घी

मिष्ठान

बेलपत्र

धतूर

भांग

जौ

तुलसी का पत्ता

गाय का कच्चा दूध

कपूर

आम का पल्लव

जनेऊ

गन्ने का रस

धूप

दीप

इत्र

रोली

मौली

चंदन

भगवान शिव और मां पार्वती की श्रृंगार सामग्री

पूजा करने की विधि (Nag Panchami 2022 Puja Vidhi In Hindi)

नाग देवता की पूजा करने के लिए कल सुबह-सुबह नित्य क्रिया से निवृत्त होकर स्वच्छ वस्त्र धारण करें। अब घर की पूजा स्थल की सफाई करें। अब वहां एक चौकी पर पीला वस्त्र बिछाकर नाग देवता की तस्वीर स्थापित करें। अब उनके सामने दीपक जलाएं। अब भगवान के सामने जल अर्पित करें। इसके बाद भगवान शिव को भी जल अर्पित करें। अब मां पार्वती, शिव शंकर, गणेश जी और नाग देवता को भोग लगाकर उनकी आरती करें। आरती के बाद भगवान से प्रार्थना करें।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर