Nag Panchami 2022 Date, Puja Muhurat: जानें कब है नाग पंचमी और क्या है पूजा मुहूर्त

Nag Panchami 2022 Date Kab Hai, Time, Puja Muhurat (नाग पंचमी कब है 2022): हिंदू धर्म में हर साल सावन मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को बड़ी धूम-धाम के साथ नाग पंचमी मनाई जाती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन नाग देवता पूजा करने से मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है। 

Nag Panchami 2022 Date, Time, Puja Muhurat in India, 2022 Mein Nag Panchami Kab Hai
Nag Panchami 2022 Date And Time (Pic: iStock) 
मुख्य बातें
  • कल मनाई जाएगी नाग पंचमी
  • इस दिन नाग देवता की विधि-विधान से की जाती है पूजा अर्चना 
  • मान्यताओं के अनुसार नाग देवता की पूजा करने से मनोवांछित फलों की होती है प्राप्ति

Nag Panchami 2022 Date, Time, Puja Muhurat in India: Nag Panchami 2022: हिंदू धर्म में नाग देवता की पूजा करने की प्रथा सदियों से चली आ रही हैं। हिंदू धर्म में नाग पंचमी के दिन विधि-विधान से नाग देवता की पूजा की जाती है। ऐसा कहा जाता है, कि इस दिन नागों की पूजा करने से कुंडली से सर्प दोष दूर होने के साथ-साथ मनोवांछित फल की प्राप्ति की होती हैं। हिंदू पंचांग के अनुसार नाग पंचमी हर साल सावन मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मनाई जाती है। इस बार नाग पंचमी कल यानी 2 अगस्त दिन मंगलवार को मनाई जाएगी। तो आइए जान लें नाग पंचमी की तारीख, पूजा विधि और शुभ मुहूर्त।

Nag Panchami 2022 Date, Time And All You Need To Know

नाग पंचमी 2022 तारीख

हिंदू पंचांग के अनुसार नाग पंचमी हर साल सावन माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मनाई जाती है। इस बार नाग पंचमी कल यानी 2 अगस्त को मनाई जाएगी।

नाग पंचमी 2022 शुभ मुहूर्त

पंचमी तिथि प्रारंभ- 2 अगस्त 2022, सुबह 5:13 से शुरू

पंचमी तिथि समाप्त- 3 अगस्त 2022, सुबह 5:41 पर

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार नाग देवता की पूजा करने का शुभ मुहूर्त 2 अगस्त को सुबह 5:45 से 8:25 तक हैं।

नाग पंचमी की पूजा विधि

-  नाग पंचमी के दिन जल्द उठकर सुबह जल्दी उठकर नित्य क्रिया से निवृत्त होकर स्वच्छ वस्त्र धारण कर लें।

- अब भोग लगाने के लिए खीर और सेवइयां बना लें।

- अब घर के मंदिर की सफाई करके वहां एक चौकी रख लें।

- अब उस चौकी पर लाल अथवा पीले रंग का कपड़ा बिछा लें।

- चौकी के ऊपर नाग देवता की तस्वीर रखें।

- नाग देवता की तस्वीर पर जल अर्पित करें और उन्हें पंचामृत से स्नान कराएं।

- अब चंदन, अक्षत, फूल और जल लेकर उन्हें अर्पित करें।

- अब पूजा की सामग्री अर्पित करते समय 'ॐ भुजंगेशाय विद्महे, सर्पराजाय धीमहि, तन्नो नाग: प्रचोदयात्' मंत्रों का जाप करते रहे ।

- अब खीर, लड्डू और अन्य प्रसाद से नाग देवता को भोग लगाएं।

- अब नाग देवता की तस्वीर के सामने धूप-दीप जलाकर उनकी आरती करें।

पूजा करने के बाद सच्चे हृदय से नाग देवता का मनन करते हुए हाथ जोड़कर उनसे प्रार्थना करें कि हे प्रभु आप हमारे जीवन के सभी कष्टों को दूर करें।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर