Mango Wood For Havan: इस वजह से किया जाता है आम की लकड़ी से हवन, जानें क्या हैं इसके महत्व

Mango Wood Importance: हिंदू धर्म में होने वाले पूजा पाठ, विवाह, गृह शांति, सत्यनारायण कथा और शुभ कार्यों के दौरान हवन किया जाता है। लेकिन हवन सिर्फ आम की लकड़ी से ही की जाती है। आइए जानते हैं आम की लकड़ी से हवन करने का महत्व।

Mango Wood Havan
आम की लकड़ी से हवन  |  तस्वीर साभार: People
मुख्य बातें
  • हिंदू धर्म में कई अवसरों पर किए जाते हैं हवन और यज्ञ
  • हवन में आम की लकड़ी का वैज्ञानिक और धार्मिक महत्व
  • वातावरण शुद्ध होने के साथ कई बैक्टीरिया को मारता है हवन

Mango Wood significance for Havan: हिंदू धर्म में हवन का विशेष महत्व होता है और हवन को शुभ माना जाता है। हवन में घी, कपूर, लौंग, इलायची, मिश्री, चावल, ब्राम्ही, मुलैठी जैसी कई सामग्रियों को आम की लड़की में जलाई जाती है और पुरोहित द्वारा इस हवन में मंत्रों का उच्चारण किया जाता है। हवन में हमेशा ही आम की लकड़ी का इस्तेमाल किया जाता है। इसे लेकर सिर्फ धार्मिक नहीं बल्कि वैज्ञानिक महत्व भी है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि आखिर क्यों हवन में सिर्फ आम की ही लकड़ी का इस्तेमाल होता है। अगर नहीं तो ये खबर आपके लिए है।

वैज्ञानिकों द्वारा किए गए रिसर्च के अनुसार आम की लकड़ी से कार्बन डाइऑक्साइट अन्य लकड़ी की तुलना में कम मात्रा में निकलती है। साथ ही ये अधिक ज्वलनशील होती है। रिसर्च में ये भी पाया गया है कि आम की लकड़ी जलने से इसमें फॉर्मिक एल्डिहाइड नामक गैस निकलती है, जिससे कई तरह की बैक्टीरिया और जीवाणु मर जाते हैं। साथ ही आम की लकड़ी से वातावरण भी शुद्ध हो जाता है।

Also Read: हवन के बिना अधूरी है चैत्र नवरात्रि की पूजा, करना चाहते हैं मां दुर्गा को प्रसन्न तो जानें सही तरीका

ज्योतिष के अनुसार हवन में आम की लड़की का महत्व
हिंदू धर्म में हवन एक ऐसी प्रथा है जो लगभग हर हिंदू परिवारों में होता है। आम की लकड़ी में धूप, देवदारू लकड़ी, कपूर, गुलाब की पंखुड़ी, चंदन, लोबान, घी, नागकेसर, तागर, लौंग, अक्षत और फूल जैसी सामग्री मिलाकर हवन किया जाता है। माना जाता है कि ऐसा करने से आस-पास की नकारात्मक उर्जा दूर होती है।

हिंदू धर्म में कब होते हैं हवन
ऊपर दी गई जानकारी से इस बात का पता तो चल गया कि हवन या यज्ञ सिर्फ आम की लकड़ी से ही किया जाता है। अब आगे जानते हैं कि हिंदू धर्म में किन अवसरों पर हवन करने की परंपरा है। बता दें कि गृह शांति, बच्चे के जन्म के बाद, शादी-विवाह, मृत्यु के बाद आत्मा शांति के लिए, सत्यनारायण पूजा के दौरान, कुछ नए और विशेष कार्यों के दौरान हवन किए जाते हैं।  

(डिस्क्लेमर: यह पाठ्य सामग्री आम धारणाओं और इंटरनेट पर मौजूद सामग्री के आधार पर लिखी गई है। टाइम्‍स नाउ नवभारत इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है।)

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर