Kumbh Mela 2021:सोने-चांदी की पालकियों पर बैठकर स्नान करने पहुंचते हैं साधु संत, जानिए शाही स्नान का इतिहास

Shahi Snan Importance: कुंभ मेले में शाही स्नान का सबसे अधिक महत्व होता है। इस साल महाशिवरात्रि के दिन पहला शाही स्नान है। जानिए इस शाही स्नान का महत्व और इसकी कथा।

Shahi Snan
Shahi Snan 

मुख्य बातें

  • शिवरात्रि से शुरू हो रहे कुंभ मेले में सबसे अधिक महत्व होता है शाही स्नान का।
  • शाही स्नान के समय करीब तेरह अखाड़ों के साधु संत उस पवित्र नदी में स्नान करते हैं।
  • शाही स्नान परंपरा की शुरुआत 14वीं से 16वीं सदी के बीच हुई थी।

नई दिल्ली. 11 साल बाद हो रहे कुंभ मेले की तैयारियां जोर-शोर से चल रही है।  शिवरात्रि से शुरू हो रहे कुंभ मेले में सबसे अधिक महत्व होता है शाही स्नान का। इस साल शाही स्नान 11 मार्च को है। वहीं, मकर सक्रांति के मौके पर पहला मुख्य स्नान पड़ रहा है। 

शाही स्नान के समय करीब तेरह अखाड़ों के साधु संत उस पवित्र नदी में स्नान करते हैं जिसके किनारे पवित्र कुंभ मेले का आयोजन होता है। शाही स्नान की परंपरा सदियों पुरानी है लेकिन यह परंपरा वैदिक नहीं है। 

मान्यताओं के अनुसार शाही स्नान परंपरा की शुरुआत 14वीं से 16वीं सदी के बीच हुई थी। इस समय देश में मुगल शासक आने शुरु हो गए थे। धीरे-धीरे साधु इन शासकों को लेकर उग्र होने लगे और उनसे संघर्ष करने लगे। 

Kumbh Mela: No UP Board exams on shahi snan days | Allahabad News - Times  of India

कैसा होता है शाही स्नान
शासकों ने साधुओं के साथ बैठक करके काम का बंटवारा और झंडे का बंटवारा किया। साधु को सम्मान देने और उन्हें खास महसूस कराने के लिए उन्हें पहले स्नान का अवसर देने का निश्चय किया गया।

शाही स्नान के दौरान साधु-संत हाथी-घोड़ो सोने-चांदी की पालकियों पर बैठकर स्नान करने के लिए पहुंचते हैं। एक खास मुहूर्त से पहले साधु तट पर इकट्ठा होते हैं और जोर-जोर से नारे लगाते हैं। 

Majestical view - Kumbh Mela: Shahi Snan begins in Prayagraj Majestical  view - Kumbh Mela: Shahi Snan begins in Prayagraj | The Economic Times

इन तारीखों में होगा शाही स्नान 
कुंभ में इस साल चार शाही स्नान है। पहला शाही स्नान 11 मार्च यानी शिवरात्रि को है। वहीं, दूसरा शाही स्नान 12 अप्रैल सोमवती अमावस्या को है। तीसरा मुख्य शाही स्नान 14 अप्रैल मेष संक्रांति के दिन है।

Kumbh Mela: Administration plans big on first shahi snan | Allahabad News -  Times of India

चौथा शाही स्नान 27 अप्रैल को बैसाख पूर्णिमा के दिन होगा। वहीं, मकर संक्रांति पर मकर राशि में पांच ग्रह एक साथ विराजमान होगा। ये ग्रह हैं- सूर्य, शनि, बृहस्पति, बुध। इसके अलाव चंद्रमा गोचर रहेगा। इससे पांच ग्रहों का संयोग बनेगा।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर