Hanuman Jayanti पर द‍िखेगा साल का सबसे बड़ा Supermoon, जानें चैत्र पूर्ण‍िमा पर क्‍यों 'गुलाबी' होगा चांद

Pink Supermoon on Chaitra Purnima, Hanuman Jayanti 2020: इस साल हनुमान जयंती पर आसमान में बड़ा सा 'गुलाबी चांद' द‍िखेगा। वैसे इसी द‍िन चैत्र पूर्ण‍िमा भी है। जानें क‍ितने बजे कर सकेंगे इसका दीदार।

Hanuman Jayanti 2020 supper pink moon will be seen on hanuman jayanti Chaitra Purnima know the facts biggest and brightest moon of the year
Hanuman Jayanti पर द‍िखेगा साल का सबसे बड़ा चांद 

मुख्य बातें

  • चैत्र पूर्ण‍िमा के द‍िन मनाई जाएगी हनुमान जयंती
  • इस बार आसमान में नजर आएगा प‍िंक सुपरमून
  • लेकिन इस चांद को देखने में आएगी एक अड़चन

हनुमान जयंती का पर्व चैत्र पूर्ण‍िमा पर मनाया जाता है। साल 2020 में ये तारीख 8 अप्रैल पड़ रही है। इस द‍िन जहां भक्‍त हनुमान जी की भक्‍त‍ि में लीन रहेंगे, वहीं आसमान में एक अद्भुत नजारा द‍िखेगा। इस द‍िन सुपरपून नजर आएगा। चैत्र पूर्ण‍िमा पर द‍िखने वाला ये चांद आम आकार से बड़ा और ज्‍यादा चमकीला नजर आएगा। माना जा रहा है क‍ि ये साल का सबसे बड़ा और सबसे अध‍िक चमकीला चांद होगा। वहीं अप्रैल में नजर आने वाले इस सुपरमून को Pink Moon भी कहा जाता है। इस तरह 8 अप्रैल को नजर आने वाले चांद को Super Pink Moon का नाम द‍िया गया है। 

क्‍या है SuperMoon
खगोल शास्‍त्री र‍िचर्ड नॉल ने 1979 में आम आकार से बड़े और चमकीले चांद को सुपरमून का नाम द‍िया था। धरती और चांद की दूरी 384, 400 क‍िमी है। लेकिन सुपरमून के दौरान ये घटकर 356,907 क‍िमी हो जाती है, जिससे चांद बड़ा द‍िखता है। दरअसल, जब चांद धरती के आसपास चक्‍कर लगाता है तो कुछ पॉइंट्स पर उसकी और पृथ्‍वी की दूरी घट जाती है। 

क्‍यों कहा जाता है Pink Moon 
इस नाम का भारत से कोई कनेक्‍शन नहीं है। दरअसल अप्रैल में अमेर‍िका में एक खास फूल ख‍िलता है जो गुलाबी रंग का होता है। उसी के आधार पर अप्रैल में द‍िखने वाले सुपरमून को सुपर प‍िंक मून का नाम द‍िया गया है। 

कब देख सकेंगे Super Pink Moon 
आसमान में ये सुपरमून  GST के अनुसार, 2:35 am पर द‍िखेगा। इसके अनुसार, भारत में तब सुबह के 8 बज चुके होंगे। ऐसे में भारत में सुपरमून द‍िखाई नहीं देगा। लेकि‍न लाइव स्‍ट्रीमिंग के जरिए चांद की इस खूबसूरती का दीदार आप जरूर कर पाएंगे। हालांक‍ि इस चांद की झलक आपको 7 अप्रैल को सूर्य के अस्‍त होने के साथ ही मिलनी शुरू हो जाएगी। 

अगली खबर