Sai Baba Worship Rules: साईं बाबा की पूजा में भूलकर भी न करें ये गलतियां, वरना होगा बड़ा नुकसान

sai kripa, Rules of Sai Baba Worship : साईं बाबा की पूजा बहुत ही सामान्य सी मानी जाती है, लेकिन पूजा करते हुए कुछ बातों का ध्यान जरूर रखना चाहिए। उनकी पूजा में कुछ भूल अक्षम्य मानी गई है।

Sai Kripa,साईं कृपा
Sai Kripa,साईं कृपा 

मुख्य बातें

  • साईं की पूजा कभी किसी के बुरे के लिए नहीं करनी चाहिए
  • साईं बाबा की पूजा में हमेशा शांत मन से बैठना चाहिए
  • कभी भारी मन से साईं के किसी पाठ को नहीं करना चाहिए

शिरडी के साईं बाबा का स्मरण करने मात्र से जीवन में कई संकट दूर हो जाते हैं। उनकी पूजा बहुत ही साधारण तरीके से कोई भी कर सकता है लेकिन उनकी पूजा में कुछ नियम भी हैं। इनका उल्लंघन नहीं करना चाहिए। साईं की पूजा गुरुवार के दिन विशेष रूप से की जाती हैं, क्योंकि ये दिन साईं का होता है। साईं अपने भक्तों के प्रेम के भूखे होते हैं और वह अपने भक्तों से प्रेम की ही आस रखते हैं। सच्चे प्रेम से उन्हें एक फूल चढ़ाने वाले का भी वह हर कष्ट दूर कर देते हैं। उनकी पूजा में लाग-लपेट नहीं होती, लेकिन यदि पूजा में कुछ एक भूल यदि कर दी जाए तो उसके परिणाम गंभीर होते हैं। तो आइए जानें किन भूल से बचकर रहना चाहिए।

सर्वप्रथ ऐसे करें साईं बाबा की पूजा

साईं बाबा की पूजा के लिए स्नान-ध्यान कर सर्वप्रथम उनका स्मरण करें। उसके बाद साईं की प्रतिमा को दूध-दही मिश्रित जल से स्नान कराएं। फिर स्वच्छ जल से साईं को स्नान कर वस्त्र अर्पित करें। इसके बाद फूल, माला, धूप-दीप और नैवेद्य के साथ उनकी पूजा प्रारंभ करें। इसके बाद श्रद्धा और सबुरी को समर्पित दो घी के दीपक साईं बाबा के समक्ष जलाएं। याद रखें इन दोनों दीपकों में इतना घी रखना चाहिए जिससे साईं के समक्ष 21 मिनट तक जल सके। वहीं बैठ कर सतचरित्र का पाठ करें। ध्यान रहना चाहिए कि साईं बाबा के सामने किए गए पथों की संख्या 11 हो। पाठ के बाद अंत में ऊं साईं नाथाय नमः, ऊं श्री शिर्डी देवाय नमः जाप करते हुए साईं को फल, मिष्‍ठान अर्पित करें।

न करें साईं पूजा में ये गलतियां

  1. साईं की पूजा अपने और अपने परिवार के कल्याण के लिए करें, कभी किसी को हानि पहुंचाने के लिए नहीं करें। वरना इसका परिणाम बहुत ही गंभीर होगा।

  2. साईं की पूजा करते समय मन को शांत रखें। कभी गुस्से या भारी मन से साईं की पूजा न करें। यदि पूजा या किसी पाठ को करने का मन न हो तो साईं के समक्ष अपने मन की बात कह क्षमा मांग लें।

  3. साईं की पूजा में जो भी प्रसाद बचे उसे अगले दिन के लिए न रखें। बल्कि गरीबों में बांट दे। चाहें तो जानवर को खिला दें।

  4. साईं की पूजा में दिखावा न करें। जितनी श्रद्धा हो उतना ही दान-पुण्य और प्रसाद चढ़ाएं।

तो साईं की पूजा करते हुए इन बातों का खास ध्यान रखें, अन्यथा पूजा का लाभ भी नहीं मिलेगा और गंभीर परिणाम भी भुगतने पड़ेंगे।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर