Chhath Puja 2020 Date: कब मनाया जाएगा छठ पूजा का पर्व, जानिए तिथि और मुहूर्त से लेकर कथा तक सबकुछ

Chhath Puja Kab Hai: छठ पूजा उत्तर प्रदेश, झारखंड और बिहार में मनाए जाने वाले सबसे अहम पर्वों में से एक है। यहां जानिए 2020 में इस त्यौहार से जुड़ी कई अहम बातें।

Chathh Puja 2020 Date and Muhurat
छठ पूजा 2020 की तिथि और मुहूर्त 

मुख्य बातें

  • छठी मइया की पूजा के साथ मनाया जाता है छठ पूजा का पर्व
  • धार्मिक और सांस्कृतिक के साथ वैज्ञानिक कारण से भी मनाया जाता है त्यौहार
  • जानिए 2020 में कब है छठ पूजा और इसका मुहूर्त

मुंबई: छठ पूजा को सूर्य षष्ठी के रूप में भी जाना जाता है। यह पर्व कार्तिक शुक्ल षष्ठी को मनाई जाती है। यह त्यौहार दिवाली के 6 दिनों के बाद मनाया जाता है और मुख्य रूप से उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड राज्यों में बड़े धूमधाम से मनाया जाता है। छठ पूजा पर, सूर्य देव और छठी मइया की पूजा करने से स्वास्थ्य, धन और सुख की प्राप्ति होती है। पिछले कुछ वर्षों में, लोक पर्व के रूप में छठ पूजा का महत्व बढ़ रहा है। यही कारण है कि त्योहार को बहुत धूमधाम के साथ मनाया जाता है।

छठ पूजा का मुहूर्त (Chhath Puja 2020 Date and Muhurat)

छठ पूजा एक लोक त्योहार है जो चार दिनों तक चलता है। यह चार दिवसीय त्योहार है, जो कार्तिक शुक्ल चतुर्थी से शुरू होता है और कार्तिक शुक्ल सप्तमी को समाप्त होता है।

20 नवंबर (संध्या अर्घ्य) सूर्यास्त का समय: 17: 25: 26
21 नवंबर (उषा अर्घ्य) सूर्योदय का समय: 06: 48: 52

छठ पूजा और छठी मैया का महत्व (Significance of Chhath Puja and Chhathi Maiya)

छठ पूजा सूर्य देव को समर्पित है। सूर्य प्रत्येक प्राणी के लिए साक्षात उपलब्ध देवता हैं, पृथ्वी पर सभी प्राणियों के जीवन का आधार है। सूर्य देव के साथ ही इस दिन छठी मैया की भी पूजा की जाती है। वैदिक ज्योतिष के अनुसार, छठी मइया या छठ माता संतानों की रक्षा करती हैं और उन्हें दीर्घायु प्रदान करती हैं।

हिन्दू धर्म में षष्ठी देवी को ब्रह्मा जी की मानस पुत्री के रूप में भी जाना जाता है। पुराणों में, उन्हें माँ कात्यायनी भी कहा जाता है, जिनकी षष्टी तिथि को नवरात्रि पर पूजा की जाती है। षष्ठी देवी को बिहार-झारखंड की स्थानीय भाषा में छठ मैया कहा जाता है।

छठ पूजा अर्घ्य विधान (Chathh Puja Vidhi):

उपरोक्त छठ पूजा समग्री को बाँस की टोकरी में रखें। साबुत प्रसाद को साबुन में डालें और दीपक को दीपक में जलाएं। फिर, सभी महिलाएं सूर्य को अर्घ्य अर्पित करने के लिए अपने हाथों में पारंपरिक साबुन के साथ घुटने के गहरे पानी में खड़ी होती हैं।

छठ पूजा के साथ जुड़ी पौराणिक कथा (Story / Katha of Chathh Puja)

छठी मैया की पूजा छठ पर्व पर की जाती है, जिसका उल्लेख ब्रह्म वैवर्त पुराण में भी है। एक पौराणिक कथा के अनुसार, प्रथम मनु स्वयंभु के पुत्र राजा प्रियव्रत की कोई संतान नहीं थी। इस वजह से वह बहुत दुखी रहते थे। महर्षि कश्यप ने उन्हें यज्ञ करने को कहा। महर्षियों के आदेश के अनुसार, उन्होंने एक पुत्र के लिए यज्ञ किया। इसके बाद, रानी मालिनी ने एक बेटे को जन्म दिया लेकिन दुर्भाग्य से बच्चा मृत पैदा हुआ। राजा और परिवार के अन्य सदस्य इस वजह से बहुत दुखी थे। तभी आसमान में एक शिल्प दिखाई दिया, जहाँ माता षष्ठी बैठी थीं। जब राजा ने उनसे प्रार्थना की, तब उन्होंने अपना परिचय दिया और कहा कि - मैं ब्रह्मा की मानस पुत्री, षष्ठी देवी हूं। मैं दुनिया के सभी बच्चों की रक्षा करता हूं और सभी निःसंतान माता-पिता को बच्चों का आशीर्वाद देता हूं।

इसके बाद, देवी ने अपने हाथों से बेजान बच्चे को आशीर्वाद दिया, ताकि वह जीवित रहे। देवी की कृपा से राजा बहुत प्रसन्न हुए और उन्होंने षष्ठी देवी की पूजा की। ऐसा माना जाता है कि पूजा के बाद, यह त्योहार दुनिया भर में मनाया जाता है।

छठ पूजा का धार्मिक- सांस्कृतिक महत्व (Chhath Puja Religious and cultural significance)

छठ पूजा धार्मिक और सांस्कृतिक महत्व का त्योहार है। यह उन चुनिंदा त्योहार में से है जिसमें सूर्य देव की पूजा की जाती है और अर्घ्य दिया जाता है। हिन्दू धर्म में सूर्य की पूजा का बहुत महत्व है। वह एकमात्र ईश्वर है जिसे हम नियमित रूप से देख सकते हैं। वेदों में, सूर्य देव को दुनिया की आत्मा कहा जाता है। सूर्य के प्रकाश में कई रोगों को नष्ट करने की क्षमता है।

सूर्य के शुभ प्रभाव से व्यक्ति को स्वास्थ्य, धन और आत्मविश्वास प्राप्त होता है। वैदिक ज्योतिष में, सूर्य को आत्मा, पिता, पूर्वज, सम्मान और उच्च सरकारी सेवाओं का कारक कहा जाता है। छठ पूजा पर सूर्य देव और षष्ठी मैया की पूजा से व्यक्ति, संतान, सुख और इच्छा की प्राप्ति होती है। सांस्कृतिक रूप से, इस त्योहार की मुख्य विशेषता परंपरा की सादगी, पवित्रता और प्रकृति के लिए प्यार है।

वैज्ञानिक और खगोलीय महत्व: वैज्ञानिक और ज्योतिषीय दृष्टि से भी छठ पर्व का बहुत महत्व है। कार्तिक शुक्ल पक्ष की छठी तीथि एक विशेष खगोलीय अवसर है, जब सूर्य पृथ्वी के दक्षिणी गोलार्ध में स्थित होता है। इस समय के दौरान, सूर्य की पराबैंगनी किरणें पृथ्वी पर सामान्य से अधिक एकत्र होती हैं। इन हानिकारक किरणों का सीधा असर लोगों की आंखों, पेट और त्वचा पर पड़ता है।

छठ पूजा पर सूर्य को अर्घ्य देने और पूजा करने से व्यक्ति को पराबैंगनी किरणों से नुकसान नहीं होना चाहिए, इसलिए सूर्य पूजा का महत्व बढ़ जाता है।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर