Chanakya Neeti: सफलता के साथ चाहिए अकूत धन-संपदा, जीवन में भूल कर भी न करें ये चार कार्य

Chanakya Neeti In Hindi: आचार्य चाणक्‍य कहते हैं कि अवगुण हर व्‍यक्ति के अंदर होता है। इनमें से कुछ अवगुणों में सुधार किया जा सकता है, वहीं कुछ ऐसे होते हैं, जिनमें कभी सुधार नहीं किया जा सकता है। ऐसे अवगुणों से युक्‍त को कभी सफलता नहीं मिलती है।

Chanakya Neeti
सफलता के लिए इन चार अवगुण से रहें दूर   |  तस्वीर साभार: Representative Image
मुख्य बातें
  • कमजोर को सताने वाले से लक्षमी जी हमेशा रहती हैं दूर
  • लालची व्‍यक्ति का समाज में खत्‍म हो जाता है पूरा सम्‍मान
  • धोखेबाज लोग जीवन भर रहते हैं अकेले, नहीं मिलता साथी

Chanakya Neeti In Hindi: आचार्य चाणक्य का नीति शास्‍त्र आज के जीवन में भी उतना ही प्रासंगिक है, जितना यह सदियों पहले था। इसका सबसे बड़ा कारण इसमें बताया गया जीवन की सच्‍चाई है। यह व्‍यक्ति को जीवन को आसान बनाने के उपाय बताने के साथ सफलता प्राप्‍त करने का रास्‍ता दिखाती है। जिसके कारण ही लोग चाणक्य नीति की बातों पर अमल कर जीवन को सफल बनाते हैं। चाणक्य नीति के अनुसार सफलता व धन संपदा का आनंद वही व्यक्ति ले सकता है जो अवगुणों से मुक्त हो। जिस व्‍यक्ति के अंदर झूठ, अहंकार, लोभ और धोखा देने जैसे अवगुण होते हैं वो न तो कभी सफल हो सकता है और न ही उसे धन-संपदा मिल सकता है।

कमजोरों को सताने का अवगुण

आचार्य चाणक्य कहते हैं कि जो लोग अपने पद और अधिकार का गलत फायदा उठाते हुए कमजोर लोगों को सताने व अपमान करने का कार्य करते हैं, उन पर लक्ष्‍मी जी की कृपा कभी नहीं होती। ऐसे लोगों से लक्ष्मी जी हमेशा नाराज रहती हैं। ऐसे लोग को समाज में भी सम्‍मान नहीं मिलता है।

Also Read: Chanakya Niti for Successful Career: करियर में सफलता चूमेगी आपके कदम, बस याद रखें आचार्य चाणक्य के ये चार उपाय

लालच है बर्बादी

आचार्य चाणक्य के अनुसार कुछ लोभी लोग लालच में फंस कर अपना पूरा जीवन बर्बाद कर लेते हैं। छल कपट कर अर्जित किया धन कभी फलता नहीं है। यह सिर्फ बर्बादी का कारण बनता है। वहीं परिश्रम से कमाया गया धन पूरी तरह से सार्थक होता है।

Also Read: Janmashtami 2022: मुकुट, काजल और पगड़ी सहित इन 10 चीजों से जन्माष्टमी पर करें बाल गोपाल का श्रृंगार

धोखेबाज रह जाते हैं अकेले

आचार्य चाणक्य कहते हैं कि दूसरे लोगों को धोख देकर आगे बढ़ने की कोशिश करने वाले जीवन में अकेला ही रह जाता है। ऐसे लोगों को न तो कहीं सफलता मिलती है और न ही धन-संपदा। इनका पूरा जीवन ही नर्क के समान होता है। हर कोई ऐसे लोगों से दूर रहना चा‍हता है।


अहंकारी खुद को करता है खत्‍म

चाणक्‍य नीति के अनुसार मनुष्‍य में अहंकार बहुत ही विनाशकारी अवगुण होता है। जिस व्‍यक्ति के अंदर यह अवगुण आ जाता है, वह खुद ही अपना सर्वनाश कर लेता है। अहंकारी लोग अहंकार के वश में आकर अपना धन व सम्‍मान कुछ ही समय में गवां देते हैं। इसलिए व्‍यक्ति को इससे बचना चाहिए। ऐसे लोगों को समाज में दुत्‍तकार मिलने के अलावा कुछ नहीं मिलता है।

(डिस्क्लेमर : यह पाठ्य सामग्री आम धारणाओं और इंटरनेट पर मौजूद सामग्री के आधार पर लिखी गई है। टाइम्स नाउ नवभारत इसकी पुष्टि नहीं करता है।)

देश और दुनिया की ताजा ख़बरें (Hindi News) अब हिंदी में पढ़ें | अध्यात्म (Spirituality News) की खबरों के लिए जुड़े रहे Timesnowhindi.com से | आज की ताजा खबरों (Latest Hindi News) के लिए Subscribe करें टाइम्स नाउ नवभारत YouTube चैनल

Times Now Navbharat
Times now
ET Now
ET Now Swadesh
Mirror Now
Live TV
अगली खबर