Chaitra month date 2021: इस तारीख से शुरू हो रहा है चैत्र मास 2021, प्रारंभ होंगे सभी शुभ काम

अंग्रेजी पंचांग के अनुसार चैत्र का महीना 29 मार्च से शुरू हो रहा है और पहले ही दिन से कृष्ण पक्ष भी शुरू होगा। इस वर्ष प्रतिपदा 13 अप्रैल से प्रारंभ हो रहा है। इस दिन से विक्रम संवत 2078 भी शुरू हो रहा है।

Chaitra month, chaitra month 2021, chaitra month 2021 date, chaitra month 2021 starting date, chaita ka mahina, chaitra ka mahina kab shuru ho raha hai, चैत्र का महीना, चैत्र का महीना 2021, चैत्र का महीना कब से शुरू हो रहा है, चैत्र का महीना कब शुरू होगा
chaitra month 2021 

मुख्य बातें

  • हिंदू पंचांग के अनुसार वर्ष का आखिरी महीना होता है फाल्गुन, चैत्र के महीने से होती है नए वर्ष की शुरुआत
  • इस वर्ष 13 अप्रैल से शुरू हो रहा है प्रतिपदा, इसी दिन से होगा विक्रम संवत 2078 प्रारंभ
  • भारत के प्रत्येक हिस्से में प्रतिपदा को अनेक नामों से जाना जाता है

ज्योतिषाचार्य बताते हैं कि, जब चंद्र ग्रह मेष राशि और अश्विनी नक्षत्र में प्रवेश करता है फिर हर दिन एक-एक कला करके आगे बढ़ता है और 15वें दिन चित्रा नक्षत्र में पूर्ण हो जाता है तब जो महीना शुरू होता है वह चैत्र का महीना कहलाता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस महीने में चित्रा नक्षत्र लगता है। अंग्रेजी पंचांग के मुताबिक, इस वर्ष चैत्र का महीना 29 मार्च से शुरू हो रहा है और हिंदू पंचांग के अनुसार पहले ही दिन से कृष्ण पक्ष शुरू हो जाएगा। लेकिन यह भी कहा जाता है कि नया वर्ष प्रतिपदा से शुरू होता है इसी वजह से 13 अप्रैल को भी नवरात्रि प्रारंभ हो रही है। नवरात्रि के साथ इस दिन गुड़ी पड़ा भी मनाया जाएगा और इसी दिन से विक्रम संवत 2078 आरंभ हो रहा है।

यहां जानिए, चैत्र मास से जुड़ी सभी आवश्यक और रोचक बातें।

पूरे भारत में हैं चैत्र महीने के अलग-अलग नाम

ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार, सनातन धर्म में नया वर्ष चैत्र महीने के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से शुरू होता है। अधिकतम लोग इसे नवसंवत्सर कह कर बुलाते हैं वहीं महाराष्ट्र में लोग इस दिन को गुड़ी पड़वा के नाम से मनाते हैं। अगर बात करें ईरान की तो वहां पर इस तिथि को नौरोज के नाम से जाना जाता है। असम में इसे रोंगली बिहू, पंजाब में वैशाखी, जम्मू कश्मीर में नवरेह, आंध्र प्रदेश में उगादिनाम, केरल में विशु और सिंध में चेटीचंड कह कर बुलाते हैं। इस दिन से ना ही सिर्फ विक्रम संवत 2078 के साथ नवरात्रि की शुरुआत हो रही है बल्कि इस दिन भगवान राम और युधिष्ठिर का राज्याभिषेक भी हुआ था और सिख समुदाय के दूसरे गुरु अंगद देव ने जन्म लिया था।

क्या होता है इस महीने में?

इस महीने से नववर्ष की शुरुआत हो जाती है, इसी के साथ प्रकृति में कई तरह के बदलाव आते हैं। चैत्र महीने में मौसम बहुत खुश मिजाज हो जाता है और हर जगह लाल, नारंगी, पीले, नीले, सफेद और गुलाबी रंग के फूल भी खिलते हैं। इसी महीने से पेड़ों पर नए पत्ते उगने शुरू हो जाते हैं। बहुत पहले मार्च के महीने से ही मंगल कार्य शुरू हो जाते थे और नए बहीखाते तैयार किए जाते थे। कहा जाता है कि ऋतु, महीना, तिथि, पक्ष और ग्रह की गिनती चैत्र महीने से प्रारंभ होती है। ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार, मार्च के महीने से ही मेष राशि का प्रारंभ होता है।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर