Bhadrapada month niyam : भादो के महीने में नहीं करने चाहिए ये 5 काम, जान लें जरूरी नियम

Bhadrapada month 2021: भाद्रपद मास में कई तीज-त्योहार एवं व्रत पड़ते हैं। इस मास में भगवान को खुद को समर्पित करना चाहिए इसलिए सात्विक जीवन जीना चाहिए।

Bhadrapada month 2021, Bhadrapada month rules
भाद्रपद मास के नियम (pic: Istock) 

मुख्य बातें

  • भादो का महीना हिंदू पंचांग का छठा महीना कहलाता है।
  • इस दौरान सात्विक जीवन जिएं और ईश्वर की भक्ति करें।
  • ज्यादा तेल-मसाले वाले खाने से बचें।

Bhadrapada month 2021: भाद्रपद मास का हिंदू धर्म में विशेष महत्व है। इस दौरान श्रीकृष्ण जन्माष्टमी, हरतालिका तीज, गणेशोत्सव, ऋषि पंचमी, डोल ग्यारस और अनंत चतुर्दशी समेत कई महत्वपूर्ण व्रत-त्योहार पड़ते हैं। भादो का महीना हिंदू पंचांग का छठा महीना कहलाता है। इस दौरान कुछ नियमों का पालन करने से व्यक्ति को पुण्य की प्राप्ति हो सकती है। साथ ही कुछ कामों को करने से बचना चाहिए, इन्हें अपशगुनकारी माना जाता है। 

बिस्तरपर सोने से बचें

भाद्रपद मास के दौरान बिस्तर या बिस्तर पर नहीं सोना चाहिए। शास्त्रों में बताए नियमों के अनुसार भादो के महीने में जमीन पर चटाई बिछाकर उस पर सोना चाहिए। इससे दिमाग शांत होता है। 

न करें इन चीजों का सेवन

नियम के अनुसार भाद्रपद मास में मांस, शहद, गुड़, हरी सब्जी, मूली और बैगन भी नहीं खाना चाहिए। इससे स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। साधना के लिए यह महीना शुभ है।

नशे से दूर रहें

भाद्रपद के महीने में नशीले पदार्थों का सेवन करने से बचें। तंबाकू, गुटखा, सिगरेट व शराब आदि चीजें ईश्वर को आपसे दूर करती हैं।

अधिक वसायुक्त भोजन न करें

भाद्रपद मास में तैलीय एवं अधिक मसालेदार चीजें खाने से बचना चाहिए। इस समय पाचन क्रिया कमजोर होती है।

इन चीजों से भी बचें

इस महीने में झूठ बोलने से भी बचना चाहिए। साथ ही पारिवारिक जीवन में इस समय  शारीरिक संबंधों से बचना चाहिए।

क्या करें

इस समय मन को सात्विक विचारों से पूर्ण रूप से भर कर रखें। बड़ों का आशीर्वाद लें और हमेशा भगवान को याद करते हुए अपने कर्म करें। शारीरिक बल प्राप्त करने के लिए भाद्र मास में पंचगव्य अर्थात दूध, दही, घी गोमूत्र, गोबर का प्रयोग करें।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर