Aaj Ka Panchang: आज सावन की दशमी में विष्णु जी का करें दर्शन, शिवजी का दूध, गंगाजल व शहद से करें रुद्राभिषेक

Panchang Today (आज का पंचांग) 07 August 2022: आज श्रावण माह शुक्ल पक्ष की दशमी है। जानें आज कब रहेगा शुभ मुहूर्त, किस वक्त लगेगा राहुकाल। आज गायत्री मंत्र के जाप का है बहुत महत्व...

Aaj Ka Panchang 07 august 2022 in Hindi
Aaj Ka Panchang 07 august 2022 in Hindi 

Panchang Today (आज का पंचांग) 07 August 2022-  आज श्रावण माह शुक्ल पक्ष की दशमी है,11-50 pm के बाद एकादशी है। अनुराधा नक्षत्र है। आज रविवार का पावन व्रत है। भगवान विष्णु जी की उपासना के साथ सूर्य देवता जी की पूजा भी करें। आज श्री आदित्यहृदयस्तोत्र के 03 बार पाठ करने का बहुत सुंदर फल प्राप्त होता है। मंदिर में विष्णु जी का दर्शन करें। श्री रामचरितमानस का पाठ करें। गायत्री मंत्र  के जप का आज बहुत महत्व है। प्रातःकाल सूर्य को जल दें व शिवपूजा के लिए  मंदिर में भगवान शिव को दुग्ध,गंगाजल व शहद से रुद्राभिषेक करें व उनको बेल पत्र अर्पित करें। आज रुद्राभिषेक का बहुत ही सुंदर दिन व तिथि है।

दुर्गा जी की स्तुति भी करें। आज दान का बहुत महत्व व पुण्य है। आज पुण्य संचय करने का महान दिवस है। आज गो माता को गुड़ व  का अनन्त पुण्य  है। प्रातःकाल पञ्चाङ्ग का दर्शन ,अध्ययन व मनन आवश्यक है। शुभ व अशुभ समय का ज्ञान भी इसी से होता है। अभिजीत मुहूर्त का समय सबसे बेहतर होता है। इस शुभ समय में कोई भी कार्य प्रारंभ कर सकते हैं। विजय व गोधुली मुहूर्त भी बहुत ही सुंदर होता है। राहुकाल में कोई भी कार्य या यात्रा आरम्भ नहीं करना चाहिए।

Horoscope Today (आज का राशिफल) 07 अगस्त 2022

Aaj Ka Panchang 07 August 2022 in Hindi

दिनांक- 07 अगस्त 2022
दिवस- रविवार
 माह-श्रावण,शुक्ल पक्ष
तिथि- दशमी10-50pm तक फिर एकादशी 
सूर्योदय-05:48am
सूर्यास्त-07:04pm
नक्षत्र-अनुराधा
सूर्य राशि- कर्क
चन्द्र राशि- वृश्चिक
करण-बव
योग-ब्रम्ह

07 अगस्त 2022 के शुभ मुहूर्त

07 अगस्त 2022 का अभिजीत:11-59am से 12-44 pm तक।

07 अगस्त 2022 का विजय मुहूर्त: 02-29pm से 03-25 pm तक

07 अगस्त 2022 का गोधुली मुहूर्त: 06-09pm से 06-15pm तक

07 अगस्त 2022 का अशुभ मुहूर्त
07 अगस्त 2022 का राहुकाल: राहुकाल सायंकाल 04:30 बजे से 06 बजे तक

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर