Pune Water Crises News: पुणे में इस डैम से खेती के लिए 20 जून के बाद नहीं मिलेगा पानी, इस वजह से हो रहा बंद

Water Resources Department Pune: पुणे के किसानों के लिए जरूरी खबर है कि पुणे में चार डैमों में अब पानी का स्टाक रखा जाएगा। मुठा उजवा डैम से किसानों को खेतों के लिए पानी देना बंद किया जाएगा। पानी का स्टाक तेजी से कम होने पर यह फैसला लिया गया है।

Pune Agriculture News
पुणे के खेतों में डैम से पानी देना 20 जून से किया जाएगा बंद (प्रतीकात्मक तस्वीर)  |  तस्वीर साभार: ANI
मुख्य बातें
  • वाटर सप्लाई करने वाले डैमों में पानी की कमी के कारण लिया गया फैसला
  • मुठा उजवा डैम से खेतों के लिए पानी छोड़ना होगा बंद
  • 15 जुलाई तक पानी का स्टॉक शेष रखने की योजना

Pune News: पुणे के किसानों को कुछ समय के लिए परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। पुणे शहर और आसपास के परिसर में वाटर सप्लाई करने वाले प्रमुख डैमों में चार टीएमसी यानी 14% ही पानी शेष बचे होने की जानकारी मिली है। ऐसे में जल संसाधन विभाग ने 20 जून के बाद मुठा उजवा डैम से खेती के लिए पानी छोड़ना बंद करने का फैसला लिया है। 

इसके बाद केवल पीने के लिए पानी को आरक्षित रखा जाएगा। 15 जुलाई तक कम से कम एक टीएमसी वाटर स्टॉक शेष रखने की योजना बनाई जा रही है। किसानों के लिए ये चिंताजनक बात भी हो सकती है। क्योंकि खेती के लिए धान की फसल का बीज तैयारी में है। ऐसे में किसानों की मानसून पर निर्भरता अधिक रहेगी।

पिछले वर्ष से घटा पानी का स्टॉक

ऐसे में 15 जुलाई तक बारिश के पानी से धान की खेती संभव हो सकेगी। हालांकि फिर भी धान के बीज तैयार करने के लिए पानी की आवश्कता तो पड़ेगी ही। मिली जानकारी के अनुसार फिलहाल खड़कवासला, पानशेत और वरसगांव डैम में करीब 4 टीएमसी यानी 14 प्रतिशत पानी का स्टॉक बचा है। खड़कवासला डैम में 0.44 टीएमसी, पानशेत डैम में 1.74 टीएमसी और वरसगांव डैम में 1.89 टीएमसी वाटर स्टॉक शेष बचा है। टेमघर डैम को मरम्मत करने के लिए खाली किया गया है। पिछले वर्ष इस समय तक 6.61 टीएमसी यानी करीब 23 फीसदी वाटर स्टॉक डैम के पास था। लेकिन इस बार स्थिति चिंताजनक है। 

20 जून के बाद पीने का पानी डैम में होगा आरक्षित

जानकारी के लिए बता दें फिलहाल खेती के लिए मुठा उजवा नहर से पानी छोड़ा जा रहा था। 20 जून तक नहर से पानी छोड़ा भी जाएगा। इसके बाद केवल पीने के लिए पानी को आरक्षित रखने की तैयारी है। खड़कवासला जल सिंचाई विभाग के एक्जीक्यूटिव इंजीनियर विजय पाटिल ने बताया कि खेती के लिए नहर से पानी छोड़ा जा रहा है। 17 जून के बाद पानी छोड़ना बंद किया जाना था, लेकिन बारिश की वजह से बांध में कुछ पानी आया और नहर से दो दिन अधिक पानी छोड़ा जाएगा। 20 जून के बाद पानी छोड़ना पूरी तरह बंद कर दिया जाएगा।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर