Noida News: नोएडा में अब खत्‍म होगी पानी की चोरी, अक्टूबर तक हर घर लगेंगे स्मार्ट मीटर

Noida News: नोएडा प्राधिकरण पानी चोरी रोकने के लिए स्‍मार्ट मीटर लगाने की प्रकिया शुरू की है। अब तक 140 परिसरों में ये मीटर लग भी चुके हैं। अक्‍टूबर तक पांच हजार परिसरों में इन मीटर को लगाकर दिसंबर से बिल वसूली शुरू कर दी जाएगी।

water smart meter
नोएडा में पानी चोरी के लिए लग रहे हैं स्‍मार्ट मीटर   |  तस्वीर साभार: Representative Image
मुख्य बातें
  • योजना के पहले चरण में पांच हजार परिसरों में लगेंगे स्‍मार्ट मीटर
  • सेक्टर-27 और 19 में अब तक 140 परिसरों में लग गए स्‍मार्ट मीटर
  • नंबर में एक माह के लिए होगा ट्रायल, फिर दिसंबर से होगी बिल वसूली

Noida News: नोएडा प्राधिकरण पानी चोरों पर नकेल कसने की बड़ी तैयारी कर ली है। इस चोरी पर लगाव लगाने के लिए अब हर घर में पानी के स्‍मार्ट मीटर लगाए जाएंगे योजना के पहले चरण के तहत पांच हजार घरों व परिसरों में पानी के लिए स्मार्ट मीटर लगाए जाएंगे। मीटर लगाने का कार्य शुरू हो चुका है। इसे अक्‍टूबर तक पूरा कर लिया जाएगा। जिसके बाद दिसंबर से लोगों को इन स्‍मार्ट मीटर के द्वारा पानी के बिल जारी किए जाने लगेंगे। अधिकारियों के अनुसार योजना के पहले चरण में ग्रुप हाउसिंग सोसाइटी में 900 बल्क कनेक्शन लगाए जाएंगे, जबकि आवासीय और व्यावसायिक परिसरों 4100 मीटर लगेंगे। वहीं पानी की दरें भी जल्‍द ही तय कर दी जाएंगी।

अधिकारियों के अनुसार मीटर लगाने का कार्य शुरू हो चुका है। शहर के सेक्टर-27 और 19 में अब तक 140 परिसरों में स्‍मार्ट मीटर लगा दिए गया है। 25 अगस्‍त को दूसरे देश से मीटरों की नई खेप पहुंच रही है, जिसके बाद चार सेक्टरों के चार हजार से ज्यादा परिसरों में स्मार्ट मीटर लगाने का काम शरू किया जाएगा। पहले चरण के तहत अक्तूबर तक सभी पांच हजार परिसरों में मीटर लग जाएंगे। इसके बाद एक महीने तक ट्रायल कर दिसंबर से पानी की खपत के आधार पर बिल वसूली शुरू हो जाएगी। प्राधिकरण अपनी इस परियोजना पर करीब 10 करोड़ रुपये खर्च कर रहा है। मीटर लगाने की जिम्‍मेदारी बेंगलूरू की बीसीआईटीएस कंपनी को सौंपी गई है, जो मीटर लगाने के साथ दस साल तक इसकी रखरखाव भी करेगी।

कई यूरोपियन देश कर रहे इस स्‍मार्ट मीटर का उपयोग

प्राधिकरण अधिकारियों के अनुसार शहर में लगाए जा रहे ये स्मार्ट मीटर पूरी तरह से ऑटोमेटिक हैं। इन मीटरों पर रीडिंग लेने के लिए जल विभाग का कर्मचारी को हर माह घर-घर चक्‍कर लगाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। ये मीटर अपने आप ही महीने भर की रीडिंग सिस्टम को भेज देंगे। जिसके आधार पर बिल बनाकर निवासियों को ऑनलाइन ही भेज दिया जाएगा। लोगों से इसका भुगतान भी ऑनलाइन ही किया जा सकेगा। अधिकारियों के अनुसार इन स्‍मार्ट मीटर का उपयोग कई यूरोपियन देश कर रहे हैं। इनके लगने के बाद कोई भी कनेक्शन से छेड़छाड़ नहीं कर पाएगा। इससे पानी चोरी रूकेगी और प्राधिकरण को सालाना करोड़ों रुपये का फायदा होगा।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर